Doonitedउत्तराखंड: चमोली और पिथौरागढ़ में सैन्य गतिविधियां तेजNews
Breaking News

उत्तराखंड: चमोली और पिथौरागढ़ में सैन्य गतिविधियां तेज

उत्तराखंड: चमोली और पिथौरागढ़ में सैन्य गतिविधियां तेज
Photo Credit To Symbolic
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.
  • आईटीबीपी ने भी अग्रिम चौकियों पर तैनात हिमवीरों को किया अलर्ट
  • नीति-माणा दर्रों व अग्रिम चौकियों पर सैनिकों का जमावड़ा

देहरादून। लद्दाख की गलवान घाटी में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद उत्तराखंड के सीमांत जिलों चमोली और पिथौरागढ़ में भी सैनिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। नीति-माणा दर्रों व अग्रिम चौकियों पर सैनिकों का जमावड़ा है। आईटीबीपी ने भी अग्रिम चौकियों मे तैनात हिमवीरों को अलर्ट मोड पर रखा है।

सीमा पर चौकसी

चीन की गतिविधि बढ़ने के बाद अब भारतीय सेना ने भी अपनी सीमा पर चौकसी के लिए सीमा क्षेत्र में फ़ौज की और अधिक टुकड़ियों को भेजना शुरू कर दिया है। चमोली जिले के सीमावर्ती क्षेत्रों में भी भारतीय सेना ने गतिविधि बढ़ रही है और प्रतिदिन फ़ौज की टुकड़ियां रवाना हो रही हैं। ताकि सीमा क्षेत्र में आने वाली हर समस्या से निपटा जा सके।

सेना की गतिविधि बढ़ी

हालांकि अभी सेना व प्रशासन की ओर से सीमावर्ती गांव के बाशिंदों को किसी भी प्रकार का कोई निर्देश जारी नहीं किया है। सीमावर्ती गांव सुकी भलगांव के प्रधान लक्ष्मण बुटोला का कहना है कि सीमावर्ती क्षेत्र में सेना की गतिविधि तो बढ़ी है लेकिन स्थानीय निवासियों को अभी कोई निर्देश जारी नहीं हुए हैं।

आईटीबीपी और सेना ने बढ़ाई गश्त

उधर, पिथौरागढ़ में धारचूला से लगी चीन सीमा पर भी सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है। बुधवार सुबह से ही सीमा पर सेना की हलचल बढ़ गयी है। हालांकि अभी यहाँ ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन एहतियातन चीन सीमा पर तैनात आईटीबीपी और सेना ने गश्त बढ़ा दी है। लद्दाख की घटना से सीमांत क्षेत्र के लोगों में भी तीखा आक्रोश देखने को मिल रहा है। लोगों ने भारतीय शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए चीन के इस कदम की कड़ी निंदा की है। साथ ही उसे सबक सिखाने की बात भी कही है।

चीनी को उसी भाषा में देना चाहिए जवाब

स्थानीय लोगों का कहना है कि भारतीय सेना को चीन की हर हिमाकत का उसके ही शब्दों में जवाब देना चाहिए। उल्लेखनीय है कि चीनी सेना धारचूला से लगी सीमा पर भी कई बार अस्थिरता फैलाने की कोशिश कर चुकी है। तब यहां तैनात जवानों ने चीनी सैनिकों को लौटने को मजबूर कर दिया था।

भारत-चीन के बीच रिश्तों में तनातनी देखने के बाद उत्तराखंड से लगी हुई भारत-चीन सीमा पर चौकसी बढ़ा दी गई है. सीमाई इलाके बड़ाहोती, निति, और माणा पास बॉर्डर पर सेना ने हवाई रेकी की है. इसके अलावा सीमा क्षेत्र में सैनिक गतिविधियां भी बढ़ती हुई दिखाई दे रही हैं.

मुस्तैदी से डटी हुई है सेना
गलवान वैली की घटना के बाद उत्तराखंड के चमोली मैं नीति पास व माना पास बॉर्डर एरिया में भी आर्मी सेना सक्रिय हो गई है और लगातार आर्मी के एरिया में हवाई रेकी भी की जा रही है. आर्मी के जवानों की चहलकदमी भी पहले से ज्यादा बढ़ गई है. पिछले एक महीने से मलारी बड़ाहोती क्षेत्र में भारी संख्या में आईटीबीपी के साथ भारतीय सेना मुस्तैदी से डटी हुई है.

जिला प्रशासन ने उपलब्ध कराया रसद
चमोली जिला प्रशासन ने सीमा से सटे इलाकों में 3 महीने का राशन भी उपलब्ध करा दिया है. चमोली की डीएम स्वाति एस. भदोरिया के मुताबिक नीति पास और माणा पास से लगे हुए इलाकों 3 महीने की राशन मानसून और आपदा की आशंका को देखते हुए उपलब्ध करवाया गया है.




Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : Agency

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: