हमारी भाषा हमारे देश की संस्कृति और संस्कारों का प्रतिबिंबः नीलम रावतDoonited News + Positive News
Breaking News

हमारी भाषा हमारे देश की संस्कृति और संस्कारों का प्रतिबिंबः नीलम रावत

हमारी भाषा हमारे देश की संस्कृति और संस्कारों का प्रतिबिंबः नीलम रावत
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.



हरिद्वार: मानव अधिकार संरक्षण समिति की प्रांतीय उपाध्यक्ष उत्तराखंड पश्चिम नीलम रावत ने कहा कि हिंदी हमें दुनिया भर में सम्मान दिलाती है। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगाद्य इस निर्णय के बाद हिंदी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर 1953 से पूरे भारत में 14 सितंबर को हर साल हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगाद्य कश्मीर से कन्याकुमारी तक, साक्षर से निरक्षर तक प्रत्येक वर्ग का व्यक्ति हिन्दी भाषा को आसानी से बोल-समझ लेता है। यही इस भाषा की पहचान भी है कि इसे बोलने और समझने में किसी को कोई परेशानी नहीं होती। हिन्दी भाषा का प्रचलन धीरे-धीरे बढ़ा और इस भाषा ने राष्ट्रभाषा का रूप ले लिया। 




अब हमारी राष्ट्रभाषा – अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी बहुत पसंद की जाती है। इसका एक कारण यह है कि हमारी भाषा हमारे देश की संस्कृति और संस्कारों का प्रतिबिंब है। आज विश्व के कोने-कोने से विद्यार्थी हमारी भाषा और संस्कृति को जानने के लिए हमारे देश का रुख कर रहे हैं। एक हिन्दुस्तानी को कम से कम अपनी भाषा यानी हिन्दी तो आनी ही चाहिए, साथ ही हमें हिन्दी का सम्मान भी करना सीखना होगा। प्रांतीय उपाध्यक्ष ने कहा कि आज का युग आधुनिक का युग बन गया है और हम सब यह कोशिश करते हैं कि सोशल मीडिया के माध्यम से सभी लोगों तक यह संदेश पहुंचा सके कि हिंदी भाषा का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें।




Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

%d bloggers like this: