मां नंदा की उत्सव डोली 3 जनवरी को कुरुड़ घाट के लिए होगी रवाना | Doonited News
Breaking News

मां नंदा की उत्सव डोली 3 जनवरी को कुरुड़ घाट के लिए होगी रवाना

मां नंदा की उत्सव डोली 3 जनवरी को कुरुड़ घाट के लिए होगी रवाना
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

थराली: 6 माह नंदा सिद्धपीठ देवराड़ा-थराली में प्रवास के बाद मां नंदा राजराजेश्वर देवी का उत्सव डोली आगामी 3 जनवरी को सिद्धपीठ कुरूड़ घाट के लिए रवाना होगी। नंदा लोक राजजात यात्रा 2020 की वेदनी में बीते 25 अगस्त को संपन्न हुई। लोक जात के बाद 1 सितंबर को राजराजेश्वर नंदा भगवती का उत्सव डोली थराली विकासखंड के सिद्धपीठ देवराड़ा मंदिर के गर्भगृह में विराजमान हो गई थी। यहां पर 6 माह प्रवास के बाद अगले 6 माह के प्रवास के लिए कुरूड़ स्थित नंदा सिद्धपीठ के लिए रवाना होगी।


मंदिर समिति देवराड़ा के अध्यक्ष भुवन हटवाल, पुजारी मंडली के अध्यक्ष मंशाराम गौड़ ने बताया कि ज्योतिष गणना के अनुसार 3 जनवरी को नंदा देवी का उत्सव डोली देवराड़ा सिद्वपीठ से विधि-विधान के साथ बहार निकाली जाएगी। उसके बाद तमाम पड़ावों को पार करते हुए 13 जनवरी को सिद्धपीठ कुरूड़ में विराजमान हो जाएगी। तय कार्यक्रम के अनुसार 3 जनवरी को उत्सव डोली की यात्रा सिद्धपीठ देवराड़ा से होते हुए दोपहर भोजन के लिए सिनेई तल्ली होते हुए रात्रि विश्राम के लिए भेटा गांव पहुंचेगी।

Read Also  A Special and Talented Dance Guru of Dehradun Pratibha Srivastava


अगले दिन 4 जनवरी को भेटा से रायकोली होते हुए चोंड़ा, 5 को चोंड़ा से काखड़ा होते हुए सोनला, 6 को सोनला से देवलग्वाड होते हुए सुनाऊं तल्ली, 7 को सुनाऊं तल्ली से पैनगढ़ होते हुए सिलोड़ी, 8 को सिलोड़ी होते हुए कोठा, 9 को कोठा से चिड़िगा तल्ला होते हुए अंगतोली,10 को अंगतोली से सेनार होते हुए असेड़ सिमली,11 को असेड़ सिमली से होते हुए नाखोली होते हुए सणकोट, 12 को सणकोट से घाट विकासखंड के बांसबगड़ होते हुए रात्रि विश्राम के लिए सेंती गांव स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर पहुंचेगी।

उसके बाद 13 जनवरी को सेंती में लक्ष्मीनारायण मंदिर में विधिवत पूजा अर्चना के बाद उत्तसव डोली की यात्रा शिव मंदिर घाट पहुंचेगी। यहां पर भी मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद उसी दिन कुरूड़ गांव पहुंचेगी। जहां पर पूरे विधि-विधान के साथ नंदा की डोला 6 माह के प्रवास के लिए नंदा देवी के सिद्धपीठ में विराजमान हो जाएगा। यही से एक बार पुनः नंदा देवी लोक राजजात यात्रा 2021 में शुरू होगी। यात्रा की तिथि निकलने के साथ ही नंदा की विदाई की पिंडर घाटी में तैयारियां भी शुरू होने लगी है।

Read Also  Know the Lord Shiva Temples of Uttarakhand: Vishwanath Temple, Guptkashi



Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

doonited mast
%d bloggers like this: