सरकारी बैंकों के महा-मर्जर का ऐलान | Doonited.India

September 17, 2019

Breaking News

सरकारी बैंकों के महा-मर्जर का ऐलान

सरकारी बैंकों के महा-मर्जर का ऐलान
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने 30 अगस्त को ऐलान किया है कि सरकार 10 सरकारी बैंकों के विलय से 4 नए बैंक बनाएगी. इस महा-मर्जर को 10 प्वाइंट में समझिए

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को मीडिया से बात की। इस दौरान उन्होंने 10 सरकारी बैंकों (पीएसबी) को मिलाकर चार बैंक बनाने की घोषणा कर दी। इसमें ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया को पंजाब नेशनल बैंक में मिला दिया जाएगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के मुताबिक, केनरा बैंक और सिंडीकेट बैंक का विलय किया जाएगा, जबकि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आंध्रा बैंक और कॉर्पोरेशन बैंक को मिलाकर एक बैंक बनाया जाएगा।

वित्त मंत्री के अनुसार, इसी तरह से इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक को मिलाकर एक बैंक का गठन किया जाएगा। निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि बैंक ऑफ इंडिया और सेंटल बैंक ऑफ इंडिया बरकरार रहेंगे। इस विलय प्रक्रिया के बाद देश में सिर्फ 12 सरकारी बैंक बचेंगे, जबकि अब तक इनकी संख्या 27 थी।

मोदी सरकार द्वारा बैंकों के विलय के ऐलान के बाद पंजाब नेशनल बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा सरकारी बैंक बन जाएगा, जिसका कुल कारोबार 17.5 लाख करोड़ रुपये का होगा। वहीं, केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक को मिलाकर बनाया गया बैंक देश का चौथा सबसे बड़ा सरकारी बैंक होगा। इस विलय के साथ इस बैंक का कुल कारोबार 15.20 लाख करोड़ रुपये होगा।

मोदी सरकार के इस फैसले के साथ ही इन बैंकों के कर्मचारियों को नौकरी का डर सताने लगा है। कर्मचारियों को आशंका है कि कहीं इन बैंकों में छटनी न शुरू हो जाए। हालांकि मीडिया से बात करते हुए वित्त सचिव ने इन संभावनाओं से इनकार कि है।

 


Recurrence of past weaknesses is now unlikely as the firm foundation is being laid for robust PSBs. 

The government announced the merger of Punjab National Bank, Oriental Bank and United Bank of India. After merger, it will be second largest PSB with the business of 18 lakh crore rupees and second-largest branch network in the country. The government also announced the merger of Canara and Syndicate Banks which will be fourth largest PSB with 15.2 Lakh Crore rupees of business.

Union, Andhra and Corporation Banks will also be merged to become fifth largest PSB with 14.6 lakh crore of business and fourth largest branch network in India. After consolidation, Indian and Allahabad Banks will be seventh-largest PSB with 8.08 lakh crore rupees of business. The Finance Minister said the government is trying to build next-generation banks. She said, eight PSU banks have launched repo-linked loans in last one week. Ms Sitharaman said, no interference in the bank’s commercial decisions.

The gross bad loans of public sector banks have come down to  7.9 lakh crore rupees from   8.65 lakh crore rupees in December last year. Listing out the decisions, she said, 3 lakh 38 thousand shell companies have been struck off. NFRA has been set up as an independent regulator of auditors. Restructuring schemes have been withdrawn. Four NBFCs have already found their solutions through PSBs. Four NBFC are working on liquidity issue.

Loans above 250 crore rupees are being closely monitored. Swift transactions are linked to core banking solutions. All PSBs to have non-Executive chairman position. The Finance Minister said, after today’s announcement about the merger of banks, the country will now have 12 public sector banks instead of 27. She said, the profitability of public sector banks has improved and total gross non-performing assets have come down to  7.9 lakh crore rupees in March this year from 8.65 lakh crore rupees in December last year.

The Minister also said that to avoid fugitive Nirav Modi like frauds in the PSBs, the SWIFT messaging system has now been linked with the core banking system. She further clarified that no retrenchment has taken place post-merger of Bank of Baroda, Dena Bank and Vijaya Bank and staff has been redeployed and best practices in each bank have been replicated in others.

1.PNB, OBC और यूनाइटेड बैंक का विलय

  • लीड बैंक – पंजाब नेशनल बैंक (PNB)
  • 17.4 लाख करोड़ का बिजनेस होगा
  • विलय के बाद 11437 ब्रांच होंगे
  • विलय के बाद देश का दूसरा बड़ा बैंक होगा
  • सरकार देगी 16000 Cr.की मदद

2.केनरा बैंक और सिंडिकेट बैंक के मर्जर का ऐलान

  • लीड बैंक- केनरा बैंक
  • 15.2 लाख करोड़ का बिजनेस
  • देश का चौथा बड़ा बैंक होगा
  • 10342 ब्रांच होंगे
  • सरकार देगी 6500 Cr की मदद

3.यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आंध्रा बैंक, कॉरपोरेशन बैंक का मर्जर

  • लीड बैंक – यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
  • पांचवां सबसे बड़ा बैंक
  • 14.59 लाख करोड़ का बिजनेस
  • सरकार देगी 11700 करोड़ की मदद

4.इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक का विलय

  • लीड बैंक – इंडियन बैंक
  • 7वां सबसे बड़ा बैंक होगा
  • 8.08 लाख करोड़ का बिजनेस
  • सरकार देगी 2500 करोड़ की पूंजी

5. अन्य बैंकों को कितनी मदद

  • BoB-7000 Cr
  • UCO बैंक- 2100 करोड़
  • OVERSEAS BANK – 3800 Cr
  • UNITED BANK-1600 Cr.

6.अब सरकारी बैंकों की संख्या 12 हुई

  • 2 साल में सरकारी बैंक 27 से घटकर 12
  • विलय की तारीखों का ऐलान बाद में

7. सरकार का वादा-नहीं होगी छंटनी

  • बेहतर मौके मिलने का भरोसा जताया

8. गवर्नेंस में सुधार के ऐलान

  • बोर्ड जीएम के काम का मूल्यांकन करेगी
  • बोर्ड CGM लेवल तक की नई भर्तियां कर पाएगा

9.बाजार से चीफ रिस्क ऑफिसर की भर्ती हो पाएगी

  • मार्केट रेट के मुताबिक मिलेगी सैलरी
  • जीएम का कार्यकाल कम से कम दो साल होगा

10. मर्जर क्यों?

  • नेक्स्ट जेनरेशन बैंक बनाने की योजना
  • राष्ट्रीय मौजूदगी और अंतरराष्ट्रीय पहुंच वाले बैंक चाहिए
  • कम लागत वाले बैंक चाहिए ताकि कर्ज सस्ते हों
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : agency

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: