Be Positive Be Unitedकोविड-19 टीकाकरण सेवा प्रदाताओं, हेल्थ वर्कर्स का डाटाबेस तैयार करने की बैठकDoonited News is Positive News
Breaking News

कोविड-19 टीकाकरण सेवा प्रदाताओं, हेल्थ वर्कर्स का डाटाबेस तैयार करने की बैठक

कोविड-19 टीकाकरण सेवा प्रदाताओं, हेल्थ वर्कर्स का डाटाबेस तैयार करने  की  बैठक
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में जिला कार्यालय स्थित सभागार में कोविड-19 टीकाकरण सेवा प्रदाताओं/हेल्थ वर्कर्स का डाटाबेस तैयार करने को लेकर बैठक आयोजित की गई।


बैठक में जिलाधिकारी ने बताया कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुपालन में राज्य सरकार द्वारा सरकारी एवं निजी क्षेत्र में कार्यरत समस्त स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं/हेल्थ वर्कर्स का डाटाबेस तैयार किया जाना है जिसका उपयोग भविष्य में स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड-19 टीकाकरण हेतु प्रस्तावित किया जाएगा। जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि कि डाॅटाबेस तैयार करने हेतु कार्ययोजना तत्काल बनाई जानी है।

उन्होंने बताया कि जनपद स्तर पर गठित समिति में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला परियोजना अधिकारी बाल विकास विभाग, रेडक्रास, नगर निगम, समस्त नगर पालिका, जिला पंचायतराज अधिकारी, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी तथा गैर सरकारी संस्थाएं (जो टीकाकरण कार्य करती हैं) टास्कफोर्स का सदस्य नामित किया गया है।





डाटबेस तैयार करने की कार्ययोजना की विस्तार से जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि सरकारी एवं निजी क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं/हेल्थ वर्कस का डाटबेस, आंकड़ों का संकलन, स्टेªन्थ एक्सेल बेस्ड टेम्पलेट्स को उपयोग में लिया जाना है तथा डाटाबेस तैयार हो जाने पर मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा कोविड-19 अपलोड किया जाएगा। डाटाबेस एकीकरण एवं संकलन के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र नोडल स्वास्थ्य इकाई होगी, जो ग्रास रूट पर कार्य करेगी। उन्होंने बताया कि निर्धारित समय सीमा के अन्तर्गत एवं निर्धारित प्रारूप में तैयार किया गया डाटाबेस जिला नोडल अधिकारी द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा। उन्हांेंने बताया कि निर्धारित तिथि से पूर्व संकलित डाटा अपलोड किया जाएगा।


बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि डाटबेस संकलन के उपरान्त सेवा प्रदाता द्वारा प्रमाण पत्र भी उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने पुलिस क्षेत्राधिकारी को बीट कास्टेबल के माध्यम से थाना क्षेत्र के समस्त निजी एवं शासकीय चिकित्सालयों में कार्यरत कार्मिकों के सम्बन्ध में जानकारी जुटाने के निर्देश दिए। उन्होंने स्वास्थ्य सम्बन्धी कार्यों में योगदान देने वाले चिकित्सक, एएनएम, आशा, आंगनबाड़ी, जीएनएम, फार्माशिस्ट, लैब टैक्निशियन, वाहन चालक, लिपिक, एवं सफाई कर्मियों, सुरक्षा कर्मिकों का डटाबेस तत्काल तैयार करने के निर्देश सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को दिए।

इसके अतिरिक्त जनपद के निजी क्षेत्र के चिकित्सालयों यथा सीएमआई, दून चिकित्सालय, हिमालयन हास्पिटल, मैक्स, सिनर्जी, कैलाश, फोर्टिज, वेलनेस, अरिहन्त, श्री महन्त इन्दिरेश हास्पिटल समेत सभी बड़े चिकित्सालयों के स्वास्थ्य कार्मिकों का डेटाबेस तत्काल अपलोड करने के निर्देश दिए गए। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य कर्मियों के डाटाबेस संकलन हेतु ज्मउचसमज के प्रारूप पर सभी जानकारियां केपिटल लेटर में भरी जाएं साथ ही ध्यान रखा जाए कि एक स्वास्थ्य कर्मी का डेटा एक ही स्थान पर हो अलग न हो। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि स्वास्थ्य कार्मिकों का डाटाबेस निर्धारित समयसीमा 28 अक्टूबर 2020 तक अपलोड करते हुए वैक्सीन के रखरखाव के लिए कोल्ड स्टोरेज आदि व्यवस्थाएं करना भी सुनिश्चित करें। इस अवसर पर हेल्थ केयर वर्कर्स का डेटाबेस तैयार करने के लिए मुख्य विकास अधिकारी द्वारा दृश्य एवं श्रब्य के माध्यम से सामान्य जानकारियां दी गई।


बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ0 अनूप कुमार डिमरी, डी.एस.ओ डाॅ राजीव दीक्षित, सीओ सुधीर सुयाल, समर्पण संस्था की डाॅ गीता खन्ना समेत डीपीओ अवधेष कुमार, डीपीआरओ एम जफरखान, डीईओ माध्यमिक वाई.एस चैधरी, डीईओ प्राथमिक राजेन्द्र रावत, मुख्य नगर अधिकारी डाॅ कैलाश जोशी समेत नगर पालिकाओं के अधिशासी अधिकारी, रेडक्रास, सिविल सोसायटी के पदाधिकारीगण उपस्थित रहे।



कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु जिला प्रशासन निरन्तर सतर्कः श्रीवास्तव


जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया है कि कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु जिला प्रशासन द्वारा निरन्तर सतर्कता बरती जा रही है, इसके लिए समय-समय पर समस्त उप जिलाधिकारियों सहित सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए जा रहे हैं।


जिलाधिकारी ने कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत जनपदवासियों से आगामी त्यौहारों के लिए की जाने वाली खरीदारी के दौरान सामाजिक दूरी के मानकों का पालन करने एवं सार्वजनिक स्थानों एवं बाजारों में मास्क का उपयोग करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन, पुलिस विभाग, स्वास्थ्य विभाग सहित सम्बन्धित विभागों द्वारा कोविड-19 संक्रमण के प्रसार की रोकथाम हेतु निरन्तर कार्य किया जा रहा है, जिसमें सफलता भी प्राप्त हो रही हैं, किन्तु कोरोना पर पूर्ण रूप से विजय पाने के लिए जनमानस की जागरूकता एवं सहयोग आवश्यक है। उन्होंने कहा कि हमें सावधान रहना है थोड़ी सी चूक संक्रमण के प्रसार में सहायक हो सकती है। इसके लिए उन्होने सभी जनमानस से कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत जागरूक रहते हुए अपने दायित्वों एवं जिम्मेदारी का निर्वहन करने की अपेक्षा की है।




जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 58 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में आतिथि तक कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 16919 हो गयी है, जिनमें कुल 15268 व्यक्ति उपचार के उपरान्त स्वस्थ हो गये हैं। वर्तमान में जनपद में कुल 922 व्यक्ति उपचाररत हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज जांच हेतु कुल 1919. सैम्पल भेजे गये।


कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत बचाव एवं रोकथाम हेतु जनपद अन्तर्गत विभिन्न चिकित्सालयों में वर्तमान में 213 आईसीयू बैड रिक्त हैं। जनपद में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क का उपयोग न करने पर 138 व्यक्तियों के चालान किये गये। आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा जनपद अन्तर्गत 24123 व्यक्तियों का सर्विलांस किया गया है। जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण टीम द्वारा बालावाला क्षेत्र में भ्रमण एवं निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान टीम द्वारा इस दौरान 56 घरों का सर्वे किया गया, निरीक्षण के दौरान किसी भी घर में मच्छर का लार्वा नही पाया गया।

अभियान के दौरान लोगों को जागरूक करने के लिए डेंगू, मलेरिया एवं कोरोना वायरस के पंपलेट वितरित किए गए तथा सभी को डेंगू नियंत्रण हेतु सहयोग करने के लिए कहा गया। विगत वर्ष जनपद देहरादून में 27 अक्टूबर 2019 तक 4792 डेंगू एलाइजा धनात्मक रोगी पाए गए थे। क्षेत्रीय आशा एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के द्वारा निरन्तर अपने क्षेत्रों में निगरानी रखी जा रही है तथा मच्छर का लार्वा पाए जाने पर उसे नष्ट किया जा रहा है तथा डेंगू नियंत्रण हेतु लगातार लोगों को जागरूक किया जा रहा है।



मुख्यमंत्री कार्यालय से प्राप्त विभिन्न सन्दर्भों की समीक्षा बैठक में सख्त दिखे जिलाधिकारी

जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में वीडियोकान्फ्रेसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री कार्यालय से प्राप्त विभिन्न सन्दर्भों की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिन विभागों के 2 या 2 से अधिक सन्दर्भों का निस्तारण किया जाना था ऐसे विभागों के अधिकारियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।


जिलाधिकारी ने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि मुख्यमंत्री कार्यालय से प्राप्त सन्दर्भों में तत्काल निस्तारण की कार्यवाही सुनिश्चित करते हुए रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि समय से निस्तारण न होने की दशा में गम्भीरता से कार्यवाही की जाएगी। समीक्षा बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने महामहिम राष्ट्रपति, महामहिम राज्यपाल, माननीय आयोग, ई-आफिस एवं उनके स्तर से जारी सन्दर्भों पर अभी तक की गई कार्यवाही की जानकारी प्राप्त की गई।

उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारी समयबद्धता के साथ सभी सन्दर्भों के निस्तारण कार्य में तेजी लाएं। उन्होंने बताया कि जिन विभागीय अधिकारियों द्वारा उक्त सन्दर्भों का निस्तारण में ढिलाई बरती जा रही है। ऐसे विभागीय अधिकारियों के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। उन्होंने उप जिलाधिकारी विकासनगर एवं ऋषिकेश को विभिन्न सन्दर्भो का प्राथमिकता से निस्तारण कराते हुए रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि जिन विभागों की 5 से अधिक सन्दर्भ लम्बित है वे आगामी बैठक से पूर्व हरहाल में निस्तारण करें। उन्होंने बताया कि मा0 मुख्यमंत्री कार्यालय तथा अन्य सन्दर्भों की पुनः समीक्षा बैठक आगामी सप्ताह में आयोजित की जाएगी।


बैठक मेें नगर मजिस्टेªट कुसुम चैहान, पुलिस क्षेत्राधिकारी नरेन्द्र पंत, जिला विकास अधिकारी सुशील मोहन डोभाल समेत सभी उप जिलाधिकारी वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े रहे।




Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

%d bloggers like this: