Be Positive Be Unitedचीन के तेवर नरम पड़ गया, पीछे हटने पर चरणबद्ध तरीके से सहमति बनीDoonited News is Positive News
Breaking News

चीन के तेवर नरम पड़ गया, पीछे हटने पर चरणबद्ध तरीके से सहमति बनी

चीन के तेवर नरम पड़ गया, पीछे हटने पर चरणबद्ध तरीके से सहमति बनी
Photo Credit To IDF
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारत और चीन सीमा विवाद में चीन के तेवर नरम पड़ गया है. कोर कमांडर की बातचीत के बाद तनाव वाले क्षेत्रों से सैनिकों को हटाने पर सहमति बनी है. भारत और चीन में पूर्वी लद्दाख में एलएसी से पीछे हटने पर चरणबद्ध तरीके से सहमति बनी है, जिसमें पैंगोंग झील भी शामिल है दिप्रिंट को यह जानकारी मिली है.

भारतीय सेना ने कहा कि भारत और चीन के बीच सोमवार को हुई कॉर्प्स कमांडर स्तर की वार्ता सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक वातावरण में हुई. दोनों पक्ष आपसी सहमति से तनाव वाले इलाकों से पीछे हटने को तैयार हो गए हैं. बैठक में पूर्वी लद्दाख में सभी संघर्ष क्षेत्रों से सेनाओं के पीछे हटने के तौर-तरीकों पर चर्चा की गई और दोनों ही पक्ष इसपर अमल करेंगे.

एलएसी (लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल) पर तनाव कम करने को लेकर भारत-चीन की सेना के बीच 11 घंटे की मैराथन स्तर पर बातचीत हुई. लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह ने और चीन की तरफ से उनके समकक्ष मेजर जनरल लियु लिन बैठक में शामिल हुए थे. दोनों देशों की सेनाओं के बीच सोमवार सुबह 11 बजे से ही बैठक चल रही थी जो कि देर रात खत्म हुई.

लेफ्टिनेंट जनरल हरेंद्र सिंह और उनके चीनी समकक्ष के बीच बैठक सोमवार सुबह एलएसी के चीनी पक्ष में चुशुल-मोल्डाे पर शुरू हुई थी.

चीन और भारत के बीच एलएसी पर कोर कमांडर स्तर की बैठक चली थे. इस दौरान भारत ने चीन से एलएसी से सैनिकों की वापसी के लिए समय सीमा मांगी. इसके अलावा फिंगर 4 सहित 2 मई से पहले की स्थिति और तैनाती को बनाए रखने के लिए कहा है.

गलवान घाटी में हुई खूनी झड़प के बाद दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच यह बैठक हुई हैं. इस बैठक का मकसद एलएसी पर यथास्थिति को बनाए रखना है.





सेना के सूत्रों ने कहा है कि भारत और चीन के बीच सोमवार को 11 घंटे से ज्यादा वक्त तक चली दोनों देशों के बीच कमांडर स्तर की बातचीत रचनात्मक माहौल में सौहार्दपूर्ण और सकारात्मक रही है. ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सेना के सूत्रों ने कहा है कि भारत और चीन दोनों की सेनाओं के बीच कुछ आपसी मतभेद थे जिनके बारे में मैराथन बैठक में चर्चा हुई है. भारत और चीन के बीच सैन्य स्तरीय लेवल की ये दूसरे दौर की वार्ता थी.

हालांकि बातचीत को लेकर अभी तक आर्मी की तरफ से कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है. हालांकि सूत्रों ने कहा है कि लद्दाख समेत सभी विवादों पर इस सैन्य स्तरीय मीटिंग में चर्चा हुई है.

आपको बता दें कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी  में भारतीय सेना और चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी  के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के एक हफ्ते बाद, दोनों पक्षों के शीर्ष सैन्य अधिकारियों ने कल माल्दो में एक बैठक की. LAC पर तनाव कम करने के लिए भारत और चीन लगातार बातचीत की कोशिश कर रहे हैं.

लेह में मौजूद 14 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और शिनजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर लियू लिन के बीच ये बैठक सुबह 11.30 बजे शुरू हुई और रात 10.15 मिनट तक जारी रही.

फिर गलती न दोहराए चीन

हिन्दुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक सूत्रों ने जानकारी दी है कि गलवान में 15 जून को हिंसक झड़प के बाद भारत लगातार चीन से इस तरह की अन्य फिर किसी भी घटना के न होने का आश्वासन चाहता है. गलवान फेसऑफ से पहले भी 5-6 मई को पैंगॉन्ग एरिया में भी भारतीय और चीनी सैनिक आमने सामने आ गए थे. इन दोनों ही फेसऑफ के दौरान चीनी सैनिकों ने पत्थरों, नुकीले हथियारों और लोहे की रॉड्स से भारतीय सैनिकों के ऊपर हमला किया था.

यथास्थिति की मांग कर रहा है भारत

भारत विवादित इलाकों में चीनी सैन्य तैनाती को हटाने की मांग कर रहा है. बातचीत का मेन फोकस फिंगर एरिया गोगरा पोस्ट-हॉट स्प्रिंग और गलवान में यथास्थिति को बहाल करना है.

अधिकारियों के मुताबिक सेना खास तौर पर LAC में पीएलए की उपस्थिति को लेकर चिंतित थी, खासकर फिंगर 4 से फिंगर 8 के बीच. चाइनीज आर्मी की क्षेत्र में उपस्थिति की वजह से भारतीय सैनिकों को पेट्रोलिंग में दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था. भारत ने पैंगोंग त्सो के उत्तर में गोगरा पोस्ट-हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र में चीनी सैनिकों, बख्तरबंद वाहनों और तोपखाने की इकाइयों को लेकर चिंता जाहिर की. भारतीय सेना चाहती है कि चीनी सेना अपने वर्तमान स्थानों से उन क्षेत्रों में वापस चली जाए जहां वे अप्रैल की शुरुआत में थे.




Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : ANI/Agency

Related posts

%d bloggers like this: