Breaking News

CBI: पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के बेटे भी जांच के दायरे में

CBI: पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के बेटे भी जांच के दायरे में

मुंबई पुलिस के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह द्वारा तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद हाईकोर्ट के निर्देश पर सीबीआई प्राथमिक जांच कर अनिल देशमुख और अन्य के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला और अपने पद के दुरुपयोग का मामला दर्ज कर जांच कर रही है. सीबीआई की जांच का दायरा केवल अनिल देशमुख पर लगे आरोपों तक सीमित नहीं है बल्कि अनिल देशमुख के बेटों की कंपनियों और उसमें निवेश भी जांच के घेरे में है.

सीबीआई सूत्रों के मुताबिक, अनिल देशमुख के दो बेटों सलिल देशमुख और हृषिकेश देशमुख की स्वामित्व वाली आधा दर्जन से अधिक फर्मों में से एक कोलकाता की कंपनी है जो केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की जांच के दायरे में आई है. सूत्रों के मुताबिक, कोलकाता की कंपनी एक ऐसे पते से चल रही है जो शेल कंपनियों का एक हॉटस्पॉट है. सीबीआई सूत्रों के मुताबिक देशमुख के बेटों सलिल देशमुख और हृषिकेश देशमुख के स्वामित्व वाली कंपनियों के वित्तीय रिकॉर्ड की जांच की जा रही है, जिसमें कोलकाता स्थित Zodiac Dealcom प्राइवेट लिमिटेड भी शामिल है.

Read Also  PM मोदी ने उठाया नीरव मोदी और विजय माल्या का मुद्दा

शेल कंपनियों का हॉटस्पॉट
सीबीआई सूत्रों ने बताया कि Zodiac Dealcom प्राइवेट लिमिटेड का पंजीकृत पता, 9/12 लाल बाजार, ब्लॉक ई, सेकेंड फ्लोर, कोलकाता है. यह एक ब्रिटिश जमाने की इमारत है, जिसे मर्केंटाइल बिल्डिंग्स कहा जाता है. इसे 2017 में केंद्र सरकार के जरिए शेल कंपनियों और काले धन पर कार्रवाई के दौरान नियुक्त एक टास्क फोर्स द्वारा 400 से अधिक शेल कंपनियों के हॉटस्पॉट के रूप में पहचाना गया था.

हालांकि बाद में इन शेल कंपनियों की एक संख्या को कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय (MCA) द्वारा बंद कर दिया गया था. रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (RoC) के रिकॉर्ड बताते हैं कि उनमें से 100 से अधिक अभी भी एक ही इमारत से सक्रिय हैं. इनमें से कम से कम 30 सक्रिय फर्मों के पास Zodiac Dealcom के समान पते पर अपना पंजीकृत कार्यालय है. रिकॉर्ड से पता चलता है कि मार्च 2019 तक, Zodiac Dealcom का स्वामित्व चार फर्मों- आयती जेम्स प्राइवेट लिमिटेड, कंक्रीट रियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड, अटलांटिक विस्टा रियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड और कंक्रीट एंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड सलिल देशमुख, ऋषिकेश देशमुख और देशमुख परिवार के सदस्यों के अधीन था. इन कंपनियों का वित्तीय लेनदेन शक के घेरे में है.

Read Also  PM Modi: Vaccine wastage is also a major issue. We must stop it at all costs

 

गौरतलब है कि, 20 मार्च 2021 को परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे आठ पन्नों के पत्र में आरोप लगाया कि देशमुख ने मुंबई में 1,750 बार और रेस्तरां से 40-50 करोड़ रुपये सहित हर महीने 100 करोड़ रुपये इकट्ठा करने के लिए निलंबित एपीआई सचिन वाजे को कहा था. इसी मामले को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर याचिका पर अदालत ने CBI जांच के आदेश दिए थे.

अब सीबीआई अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रही है जिन पर कथित रूप से सार्वजनिक कर्तव्य के अनुचित और पद के दुरुपयोग का आरोप है. एजेंसी देशमुख द्वारा तबादला करने, राज्य में पुलिस अधिकारियों की पोस्टिंग और अधिकारियों के प्रदर्शन को प्रभावित करने के आरोप की जांच कर रही है.सीबीआई द्वारा अनिल देशमुख के बेटों की कंपनियों की जांच के बारे में अनिल देशमुख या उनके दोनो बेटों की प्रतिक्रिया सामने नही आई है. अनिल देशमुख, सलिल देशमुख या हृषिकेश देशमुख की प्रतिक्रिया उपलब्ध होते ही उनका पक्ष भी रखा जाएगा.

Read Also  अनलॉक-4: कहां क्या खुला है और क्या बंद रहेगा

Source link

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: