बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजधानी दिल्ली में अलर्ट जारी | Doonited News
Breaking News

बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजधानी दिल्ली में अलर्ट जारी

बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजधानी दिल्ली में अलर्ट जारी
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद उत्तराखंड में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है। जिस तरह से बीते कुछ दिनों में राज्य के विभिन्न इलाकों में मृत पक्षी मिले हैं, उससे कई तरह की शंकाएं उत्पन्न हो रही हैं। चिंताजनक पहलू यह है कि प्रदेश में अभी तक बर्ड फ्लू की जांच के लिए कोई लैब नहीं है। ऋषिकेश के पशुलोक में लैब बनाने के लिए केंद्र से स्वीकृति मांगी गई थी, लेकिन यह अभी तक नहीं मिली है। ऐसे में जांच के लिए सैंपल भोपाल भेजे जा रहे हैं, जहां से रिपोर्ट आने में खासा वक्त लगता है। उत्तराखंड में सबसे अधिक चिंता प्रवासी पक्षियों से है। इनकी निगरानी और रोकथाम किसी चुनौती से कम नहीं है

दरअसल उत्तराखंड में करीब एक लाख हेक्टेयर भूमि में फैले कुल 994 वेटलैंड हैं। इनमें 97 ऐसे हैं, जो वन क्षेत्र से बाहर हैं। शीतकाल में इन वेटलैंड में मध्य एशिया से बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी पहुंचते हैं, जो मार्च तक यहां रहते हैं। वर्तमान में भी राज्य के तमाम जलाशयों में मेहमान पक्षी नजर आ रहे हैं। वहीं हिमाचल, राजस्थान और केरल में बड़ी संख्या में बर्ड फ्लू से पक्षियों की मौत से हड़कंप मचा हुआ है। उत्तराखंड के लिए सबसे बड़ी चिंता हिमाचल के कांगड़ा स्थित बैराज में पक्षियों की मौत है। वैसे तो उत्तराखंड में अभी तक बर्ड फ्लू का कोई मामला सामने नहीं आया है, लेकिन पड़ोसी राज्यों की घटनाएं चिंता बढ़ा रही हैं।

सरकार ने सतर्कता के लिए प्रदेश में अलर्ट जारी कर दिया है। बर्ड फ्लू से सुरक्षा के लिए संक्रमण वाले राज्यों से मुर्गियों, चूजों और अंडे की आपूर्ति पर रोक लगाई गई है। वन विभाग का दावा है कि वह सभी वेटलैंड पर नजर रखे हुए है। स्वास्थ्य महकमे ने भी अस्पतालों में संदिग्ध मरीज के आने पर उसे आइसोलेशन में रखते हुए इलाज कराने को कहा है। इस लिहाज से उत्तराखंड की बर्ड फ्लू को लेकर सतर्कता और तैयारी नजर आती है

Read Also  प्रदेश में ई-ऑफिस प्रणाली के शुभारम्भ को हुआ एक वर्ष


देखा जाए तो वर्तमान में प्रदेश में 408 बड़े लेयर और बॉयलर पोल्ट्री फार्म हैं। इसके अलावा 14 हजार से ज्यादा छोटे पोल्ट्री फार्म हैं, जिनमें 10 लाख से अधिक मुर्गे-मुर्गियां हैं। प्रदेश में मुर्गीपालन भी स्वरोजगार का एक बड़ा जरिया है।

यदि यहां बर्ड फ्लू फैलता है तो जाहिर तौर पर हजारों लोग इससे प्रभावित होंगे। इसमें मुर्गी पालकों से लेकर मांस कारोबारी तक शामिल हैं। ऐसे में मुर्गी पालन उद्योग को इससे सुरक्षित रखने की चुनौती सरकार के सामने है। सरकार को चाहिए कि बर्ड फ्लू होने की स्थिति में कुक्कुट पालन उद्योग से जुड़े व्यक्तियों को राहत दी जा सके।

 राष्ट्रीय राजधानी में बर्ड फ्लू की दस्तक, मयूर विहार के सेंट्रल पार्क में 100 कौवे मरे पाए जाने के बाद हड़कंप

देशभर में फैली बर्ड फ्लू की दहशत के बाद दिल्ली-एनसीआर में भी इसके दस्तक देने की आशंका बढ़ गई है। राजधानी दिल्ली के मयूर विहार फेस-3 स्थित सेंट्रल पार्क में 100 से अधिक कौवे मरे हुए पाए जाने के बाद हड़कंप मच गया है। जानकारी के अनुसार, मामला संज्ञान में आते ही दिल्ली सरकार ने डॉक्टरों की एक टीम बनाकर इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं। सरकार इस मामले पर पैनी नजर बनाए हुए है। बताया जा रहा है कि यह कोई एक दिन की घटना नहीं है, बल्कि बीते कुछ दिनों में इन कौवों की मौत हुई है।

Read Also  विशेष भृगुवंशी चुने गए भारतीय बास्केटबॉल टीम के कप्तान

एनसीआर के शहर गुरुग्राम के सेक्टर-56 स्थित बायो डायवर्सिटी पार्क में शुक्रवार को छह कौवे मरे हुए पाए गए हैं। कई दिनों से आ रही पार्क में कौवे मरने की सूचना मिल रही थी, इसके बाद वाइल्ड लाइफ एवं पशु पालन विभाग की टीम आज मामले की जांच के लिए पार्क में पहुंची थी। मृतक कौवों के सैंपल लेने के बाद जांच के लिए जालंधर भेज दिए गए हैं।

पशु पालन विभाग का कहना है कि बर्ड फ्लू के बारे में अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है, संभव है कि अधिक ठंड के कारण इन कौवों की मौत हुई हो। मृत कौवों को जांच के लिए भेज दिया गया है, जांच रिपोर्ट आने के बाद ही पूरी स्थिति साफ हो सकेगी, लेकिन जिस प्रकार देश के कुछ राज्यों में बर्ड फ्लू ने दस्तक की है उसके बाद दिल्ली में संदिग्ध हालत में कौवों की मौत चिंता का विषय है।

बर्ड फ्लू के खतरे को लेकर अमेठी में अलर्ट

देश के कई राज्यों में फैले बर्ड फ्लू के खतरे को लेकर अमेठी स्वास्थ्य विभाग ने भी जिले में अलर्ट जारी कर दिया है. अमेठी के जिला अस्पताल में बर्ड फ्लू का एक वार्ड भी बना दिया गया है. अमेठी सीएमओ ने सभी सीएचसी अधीक्षकों को अपने क्षेत्र में संचालित पोल्ट्रीफार्म का निरीक्षण कर संचालकों को बर्ड फ्लू के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए सावधानी बरतने के सख्त निर्देश दिए है. साथ ही जिले के संचालकों से अपील करते हुए कहा कि देश के कई राज्यों में बर्ड फ्लू को लेकर एडवाइजरी जारी हुई है. जो लोग मांसाहारी है वो कुछ दिनों तक पक्षियों के सेवन से बचें.

Read Also  उत्तराखंड में सरकार कॉलेज खोलने को तैयार

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में बर्ड फ्लू को लेकर स्वास्थ्य महकमा पूरी तरह से अलर्ट हो गया है. जिले में बड़े स्तर पर पोल्ट्रीफार्म चल रहे हैं. कोरोना महामारी के चलते पोल्ट्री फार्म का कारोबार एक बार तो करीब पूरी तरह से बंद सा हो गया था लेकिन धीरे-धीरे पोल्ट्रीफार्म का व्यवसाय सुधरने लगा था. कई राज्यों में फैले बर्ड फ्लू की सूचना से जिले के पोल्ट्री व्यवसाईयों में हड़कंप मचा गया है. पिछले कुछ सालों में तकरीबन हर पांच से दस किलोमीटर पर एक केंद्र संचालित हो रहे हैं. अमेठी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी आशुतोष दुबे के निर्देश पर अमेठी के समस्त CHC अधीक्षक अपने क्षेत्र में संचालित केंद्रों का निरीक्षण कर वहां मौजूद पक्षियों की गिनती कर उन्हें सावधानी बरतने की सलाह दे रहे हैं. साथ ही हर तरह के पक्षियों से रहे दूर रहने की सलाह भी दी जा रही है.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

doonited mast
%d bloggers like this: