May 20, 2022

Breaking News

मेडिका की ‘ब्लैडर कैंसर सपोर्ट ग्रुप’ कैंसर रोगियों को देगा एक नया जीवन

मेडिका की ‘ब्लैडर कैंसर सपोर्ट ग्रुप’ कैंसर रोगियों को देगा एक नया जीवन

देहरादून, 15 मई 2022- इस साल के ब्लैडर कैंसर जागरूकता महीने में, मेडिका ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल्स, पूर्वी भारत की सबसे बड़ी निजी अस्पताल श्रृंखला मेडिका में ब्लैडर कैंसर से बचे लोगों के लिए एक ’ब्लैडर कैंसर सपोर्ट ग्रुप’ की स्थापना की घोषणा कीद्य मेडिका सुपरस्पेशलिटी अस्पताल के इस कार्यक्रम में, यूरोलॉजी, सर्जिकल ऑन्कोलॉजी और रोबोटिक सर्जरी के प्रमुख डॉ. अभय कुमार ने कुछ मिथकों और तथ्यों के साथ-साथ उन संकेतों पर प्रकाश डाला जो ब्लैडर कैंसर यानि मूत्राशय के कैंसर का संकेत दे सकते हैं। इस कार्यक्रम में कुछ वास्तविक जीवन के नायकों को भी देखा गया, जिन्होंने कैंसर से लड़ाई लड़ी है, सामाजिक दबावों और आर्थिक प्रतिकूलताओं सहित तमाम बाधाओं को पार भी किया है, और अभी भी मैदान ए जंग को छोड़ा नहीं है। घोषणा के बाद, कैंसर से बचे लोगों ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों के लिए एक सांस्कृतिक कार्यक्रम की मेज़बानी भी की।

घंटे भर चलने वाले इस कार्यक्रम और इंटरेक्टिव सत्र ने दर्शकों को चिकित्सकीय रूप से उन्मुख विषयों के बारे में बताते हुए, इस कैंसर के लक्षणों के बारे में बताया और हो जाने पर इसे कैसे मानेज किया जाए वो भी बताया ताकि भला चंगा रहा जा सकेद्य

इस मौके पर अपना वक्तव्य पेश करते हुए, डॉ. अभय कुमार, यूरोलॉजी, सर्जिकल ऑन्कोलॉजी, रोबोटिक सर्जरी, मेडिका सुपरस्पेशलिटी अस्पताल, ने कहा कि “डोंट गो रेड गो टू अ डॉक्टर, इस वर्ष के ब्लैडर कैंसर जागरूकता महीने का विषय है, जो हमारे जीवन में आने वाली शर्मिंदगी पर काबू पाने पर केंद्रित है। हम अक्सर चर्चा करने या पेशेवर मदद लेने से हिचकिचाते हैं क्योंकि इसके लक्षण मूत्र पथ के संक्रमण के समान ही होते हैं। जागरूकता की कमी के कारण अकेले भारत में हर साल तकरीबन 20,000 नए मामले सामने आते हैं। अगर जल्दी पता चल जाए तो इस प्रकार के कैंसर का इलाज किया जा सकता है, हालांकि, ट्यूमर की पुनरावृत्ति का खतरा होता है, जिसके लिए नियमित निगरानी की आवश्यकता होती है।“

उन्होंने आगे ये भी कहा कि “ब्लैडर कैंसर आम कैंसर है, और उपचार के लिए इसमे लंबे समय तक फॉलो-अप की ज़रूरत पड़ती है, जिससे व्यक्ति और परिवार को काफी चिंता होती है, जो तनाव को और भी बढ़ा देती हैद्य रोगी के लिए मन का एक कथित मानसिक ढांचा होना चाहिए, लिहाज़ा देखभाल करने वालों को बहुत ज़्यादा सहायता प्रदान करनी चाहिए। नतीजतन, इसे एक सहायता समूह की आवश्यकता होती है, जो पूर्वी भारत में ज़्यादा मौजूद नहीं है। परिणामस्वरूप, ब्लैडर कैंसर

जागरूकता महीने के सम्मान में, हमने मरीज़ों और देखभाल करने वालों को बीमारी, उपचार और परिणामों को समझने में मदद करने के लिए इस सहायता समूह की स्थापना की है। ये ब्लैडर कैंसर से बचे लोगों के लिए अपनी कहानियों और चिंताओं को इकट्ठा करने और साझा करने के लिए एक मंच बनाने का प्रयास करेगा, जिससे उन्हें ये महसूस होगा कि वे अकेले नहीं हैं। ”

जबकि मेडिका, पूर्वी भारत में सबसे तेज़ी से बढ़ता स्वास्थ्य सेवा समूह, उत्कृष्ट चिकित्सकों के साथ कोलकाता में एक विश्व स्तरीय कैंसर उपचार सुविधा स्थापित करने की योजना बना रहा है, वो ये भी मानता है कि सिर्फ़ अत्याधुनिक तकनीकों को प्राप्त करने से 360-डिग्री देखभाल करने वाला दृष्टिकोण प्रदान नहीं होगा। इसीलिए मेडिका ने ’ब्लैडर कैंसर सपोर्ट ग्रुप’ को अपनी कैंसर देखभाल में शामिल किया है। कैंसर से लड़ने और पराजित करने वालों के साथ एकजुटता दिखाने के रूप में, मेडिका ने गर्व से तीस से ज़्यादा ब्लैडर कैंसर से बचे लोगों को प्रस्तुत किया और उनके लिए और उनके द्वारा एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया।

श्री देवप्रसाद घोष, पश्चिम बंगाल राज्य बिजली बोर्ड के एक 76 वर्षीय पूर्व अधिकारी को मूत्राशय के कैंसर का पता चला था। जांच के दौरान पता चला कि उनकी एक किडनी ठीक से काम नहीं कर रही थी। उनके मूत्राशय को हटाने के लिए एक रैडिकल सिस्टेक्टोमी की गई, साथ ही एक लेफ्ट नेफरेक्टोमी, एक लेफ्ट किडनी, और पेट में एक छोटा सा छेद उस बैग को बदलने के लिए किया गया जिसमें मूत्र उत्पन्न हुआ और जमा किया गया था (चिकित्सा भाषा में रंध्र या इलियल नाली)। ऑपरेशन और रिकवरी अवधि दोनों ही बेहद सफल रहे। वो अब बिना किसी जटिलता के एक स्वस्थ जीवन शैली जी रहे हैंद्य

श्री विश्वनाथ डे, हावड़ा निवासी, को पहले हेमट्यूरिया यानि मूत्र में रक्त का पता चला था। हालांकि, आगे, जांच से पता चला कि उन्हें ब्लैडर ट्यूमर था, जिसके लिए उन्होंने ब्लैडर ट्यूमर (टीयूआरबीटी) के ट्रांसयूरेथ्रल रिसेक्शन के साथ एंडोस्कोपिक उपचार किया। उनके बायोप्सी परिणाम प्राप्त करने के बाद, ये पता चला कि उन्हें मूत्राशय का कैंसर था, जिसके लिए डॉ. अभय कुमार और उनकी टीम ने नियोब्लैडर पुनर्निर्माण किया, जो एक नया मूत्राशय बनाने के लिए एक शल्य प्रक्रिया है। वो अब ठीक हो गए हैं और जीवन में अच्छा कर रहें है।

श्री कार्तिक चंद्र घोष, एक पुलिसकर्मी को 15 साल से मूत्राशय का कैंसर था। 2003 से 2009 तक उनका इलाज चला। फिर, 2016 में, उनके मूत्राशय का कैंसर वापस आ गया। वो तबाह हो गए थे। उसके बाद उनका सिस्टोस्कोपी और टीयूआरबीटी सर्जरी किया गया। (टर्बोस्कोपी और सिस्टोस्कोपी) चार साल की नियमित जांच के बाद अब वो पूरी तरह से फिट और स्वस्थ हैं।

श्री रोमेन मुखर्जी, उन्हें ब्लैडर कैंसर का पता चला था और उनका रेडिकल सिस्टेक्टोमी इलियल कंड्यूट ऑपरेशन (मूत्राशय को हटाना और पेट के बाहर मूत्राशय का आरोपण) किया गया था। कीमोथेरेपी और नियमित फॉलो-अप के बाद अब वो पूरी तरह से ठीक हो गए हैं।

कैंसर से बचे लोगों ने मेडिका में अपने अनुभव साझा किए, जिसमें कैंसर के इलाज के पहले से ही तनावपूर्ण अनुभव को कम करने के लिए अस्पताल द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाओं पर ज़ोर दिया गया। मेहमानों के मनोरंजन के लिए लाइव कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया था, जिसका कर्मचारियों और रोगियों दोनों ने आनंद लिया। मेडिका स्टाफ, समुदाय और समर्थन के मूल्य को पहचानता है,

और इस आयोजन की सफलता काफी हद तक इस आशावादी सहायता समूह के वजह से थी, जिसे जीवन पर एक नया अध्याय मिला था।

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: