DoonitedStories & Features कहानियांNews
Breaking News
Stories & Features कहानियां
‘देवदार व बोगेनविलिया’ का मोहब्बतनामा, अब केवल यादों में

‘देवदार व बोगेनविलिया’ का मोहब्बतनामा, अब केवल यादों में

5 जुलाई 2015 को रविवार की सुबह ग्यारह बजे के आस-पास का समय था जब मेरे कदमों ने पहली बार अल्मोड़ा की धरती को छुआ था। मेरे लिए नया शहर था उस समय। प्राकृतिक छटा से भरपूर। जब हल्द्वानी सुबह सात बजे ट्रेन पहुंची तो तलाश हुई अल्मोड़ा जाने वाली टैक्सी की। टैक्सी से अल्मोड़ा ...
Read more
How colonial India fought locust attacks – and what we could learn from those tactics

How colonial India fought locust attacks – and what we could learn from those tactics

One simple strategy: protect birds that eat the predatory insects. As India struggles to contain the Covid-19 pandemic, it faces a new challenge. Several parts of the country have experienced heavy infestations of locusts – an insect that devours crops and foliage, often leaving devastation in its wake....
Read more
भारतीय भाषाओं में पत्रकारिता का आरम्भ और हिन्दी पत्रकारिता

भारतीय भाषाओं में पत्रकारिता का आरम्भ और हिन्दी पत्रकारिता

भारतवर्ष में आधुनिक ढंग की पत्रकारिता का जन्म अठारहवीं शताब्दी के चतुर्थ चरण में कलकत्ता, बंबई और मद्रास में हुआ। 1780 ई. में प्रकाशित हिके (Hickey) का “कलकत्ता गज़ट” कदाचित् इस ओर पहला प्रयत्न था। हिंदी के पहले पत्र उदंत मार्तण्ड(1826) के प्रकाशित होने तक इन नगरों की ऐंग्लोइंडियन अंग्रेजी प...
Read more
आइए जानते हैं गढ़वाल की ब्राहमण जातियों का इतिहास..

आइए जानते हैं गढ़वाल की ब्राहमण जातियों का इतिहास..

गढ़वाल में ब्राह्मण जातियां मूल रूप से तीन हिस्सो में बांटी गई है -1-सरोला, 2-गंगाड़ी 3-नाना । सरोला और गंगाड़ी 8 वीं और 9वीं शताब्दी के दौरान मैदानी भाग से उत्तराखंड आए थे। पंवार शासक के राजपुरोहित के रूप में सरोला आये थे। गढ़वाल में आने के बाद सरोला और गंगाड़ी लोगों ने नाना गोत्र ...
Read more
जरा याद करो कुर्बानी: भारतीय इतिहास में पेशावर कांड के नायक वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली

जरा याद करो कुर्बानी: भारतीय इतिहास में पेशावर कांड के नायक वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली

वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली (25 दिसम्बर, 1891 – 1 अक्टूबर 1979) को भारतीय इतिहास में पेशावर कांड के नायक के रूप में याद किया जाता है। २३ अप्रैल १९३० को हवलदार मेजर चन्द्र सिंह गढवाली के नेतृत्व में रॉयल गढवाल राइफल्स के जवानों ने भारत की आजादी के लिये लड़ने वाले निहत्थे पठानों पर गोली ...
Read more
Who will be the winners in a post-pandemic economy?

Who will be the winners in a post-pandemic economy?

Businesses that use cloud computing will not buckle under the pressure of the coronavirus pandemic. Further automation and artificial intelligence will enhance the resilience of supply chains. Successful businesses will have a combination of resilience and agility. COVID-19 is putting the global economy...
Read more
चार्ली चैपलिन का 131वां जन्मदिवस

चार्ली चैपलिन का 131वां जन्मदिवस

चार्ली चैपलिन का 131वां जन्मदिवस, जानिए उनके रोचक किस्से हॉलीवुड एक्टर चार्ली चैपलिन का आज 131वां बर्थडे है, जिन्हें कॉमेडी का बादशाह भी कहते थे । चार्ली चैपलिन वो नाम जिसे सुनते ही हमारे चेहरे पर मुस्कान आ जाती है। कॉमेडी की दुनिया में सबसे पहला नाम चार्ली चैपलिन का ही आता है । हॉलीवुड ...
Read more
मैं उत्तराखंड बोल रहा हूँ, मैं उदास हूँ, परेशान हूँ, बेचैन हूँ…

मैं उत्तराखंड बोल रहा हूँ, मैं उदास हूँ, परेशान हूँ, बेचैन हूँ…

मैं उत्तराखंड बोल रहा हूँ। हाँ! सही पहचाना मैं वही हूँ जिसके लिए मेरे अपने मुझ से दूर हो गये क्योंकि मेरे जन्म के लिए उन्होंने जो संघर्ष किया, जिस कारण उन्हें अपने प्राण देंने पड़े। अपने जन्म के लिए जो लड़ाई मैंने लड़ी उसके लिए मैं कभी पीछे नहीं हटा मैंने लाठियाँ खाईं। सीने ...
Read more
सँपोला Written By Agrawal Shruti

सँपोला Written By Agrawal Shruti

सँपोला ©  Written By Agrawal Shruti रीता का मन आज सुबह से ही थोड़ा बुझा बुझा सा था। आज बिट्टी मायके आ रही है, और जो आ रही है तो डेढ दो महीने तो रहेंगी ही ! रीता जानती है कि यह समय उसपर कितना भारी पड़ने वाला है। जिंदगी वैसे भी कोई फूलों की ...
Read more
शहीद की बेटी Written By Meena Bhandari

शहीद की बेटी Written By Meena Bhandari

शहीद की बेटी © Written By Meena Bhandari “दाSSSSदी ! देखो, हमारी गुड़िया ! अब हम जल्दी इसकी शादी करेंगे।” – कहकर चहकती हुई आन्या दादी के पास आई। दोपहर का एक बजने वाला है। आज रविवार है और आन्या अपनी सहेली मीशा के साथ खेल में व्यस्त थी। माँ लता भीतर रसोई में थी ...
Read more
मौके रोज दस्तक नहीं देते  Written By Yogesh Suhagwati Goyal

मौके रोज दस्तक नहीं देते Written By Yogesh Suhagwati Goyal

मौके रोज दस्तक नहीं देते Written By © Yogesh Suhagwati Goyal   नवी मुंबई के बेलापुर रेल्वे स्टेशन के पास कंचन हाउसिंग सोसाइटी की पर्ल टावर में ९वीं माले पर ३ कमरों के फ्लेट नंबर ९०६ में मेहता परिवार रहता था। मेहता परिवार में परिवार के मुखिया श्री आलोक मेहता, उनकी पत्नी गीता, बेटा सौरव ...
Read more
सिर्फ काली लड़कियां Written By Nidhi Nirdesh

सिर्फ काली लड़कियां Written By Nidhi Nirdesh

सिर्फ काली लड़कियां Written By © Nidhi Nirdesh   मैं बरसों बाद अन्नी के घर गई उसकी भाभी आभा मुझे अपने कमरे में ले गई । थोड़ी बहुत बातों के बाद जब वह चाय बनाने गई तो मैं टेबल पर पड़ी डायरी उठाकर अलटने पलटने लगी । वह अन्नी के भाई अजय विश्वास की डायरी ...
Read more
पलायन के दर्द से कराहता पहाड़

पलायन के दर्द से कराहता पहाड़

“भैजी कख जाणा छा तुम लोग, उत्तराखंड आंदोलन मा…दीदा कख जाणा छा तुम लोग  उत्तराखंड आंदोलन मा” शायद उतराखंड राज्य के लिए उन शहीदों व आंदोलनकारियों के संगर्ष पे लोक गायक श्री नरेंद्र सिंह नेगी जी का ये राज्य आंदोलन गीत सटीक बैठता है। शहीदों के बलिदान के कारण ही हम आज अलग उत्तराखंड राज्य ...
Read more
‘आधुनिक मीरा’ महादेवी वर्मा

‘आधुनिक मीरा’ महादेवी वर्मा

हिन्दी भाषा की प्रख्यात कवयित्री हैं। महादेवी वर्मा की गिनती हिन्दी कविता के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभ सुमित्रानन्दन पन्त, जयशंकर प्रसाद और सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला के साथ की जाती है। आधुनिक हिन्दी कविता में महादेवी वर्मा एक महत्त्वपूर्ण शक्ति के रूप में उभरीं। महादेवी वर्मा ने खड़ी बोली हिन्दी...
Read more
धर्म वह काम नहीं कर सकता जो डॉक्टर करते हैं: असगर वजाहत

धर्म वह काम नहीं कर सकता जो डॉक्टर करते हैं: असगर वजाहत

धर्म वह काम नहीं कर सकता जो डॉक्टर करते हैं. यदि ऐसा होता तो बीमार पड़ने पर आदमी अस्पताल जाने के बजाय मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च जाते .लेकिन ऐसा नहीं होता. तीसरी बात यह कि धर्म का प्रचार क्यों आवश्यक है? क्या मानने वालों की संख्या के आधार पर धर्म की गुणवत्ता तय होती है? ...
Read more
IAS Topper Ira Singhal – Success Story

IAS Topper Ira Singhal – Success Story

IAS – UPSC Civil Services Exams! इसकी प्रतिष्ठा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है, कि हर वर्ष लाखों विद्यार्थी IAS Officer बनने के लिए यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा देते है, लेकिन मुश्किल से .025% विद्यार्थी ही IAS Officer बन पाते है| Civil Services Exams की Fina...
Read more
5 Mysterious Events You Wouldn’t Believe If They Weren’t Recorded!

5 Mysterious Events You Wouldn’t Believe If They Weren’t Recorded!

Description: There are events in this world that defy logical explanation. Events so strange and mysterious that if it hadn’t been recorded, we wouldn’t believe they happened. With video technology becoming readily available worldwide, we are now able to capture these mysterious events on camera to prov...
Read more
कोरोना संक्रमण: लॉक डाउन क्या होता है?

कोरोना संक्रमण: लॉक डाउन क्या होता है?

लॉक डाउन एक तरह की तालाबंदी होती है।  जिसमें आप अनावश्यक कार्य के लिए घर से बाहर नहीं निकल सकते है।  लॉक डाउन एक एमरजेंसी व्यवस्था है जो किसी आपदा के वक्त सरकारी तौर पर लागू की जाती है।  किसी सोसायटी या शहर में रहने वाले वहां के स्थानीय लोगों को स्वास्थ्य या अन्य जोख‍िम ...
Read more
error: Be Positive Be United