September 30, 2022

Breaking News

राज्य में बारिश व भूस्खलन के चलते लोनिवि के 56 मार्ग अवरूद्ध

राज्य में बारिश व भूस्खलन के चलते लोनिवि के 56 मार्ग अवरूद्ध
Photo Credit To File Photo

लोक निर्माण विभाग के अन्तर्गत गुरुवार को 44 मार्ग अवरुद्ध हुये, 41 मार्ग कल के अवरूद्ध थे अर्थात कुल 85 अवरूद्ध मार्गाे में से 29 मार्गाे को आज खोल दिया गया है। 56 मार्ग अवरूद्ध है, जिसमें से 0 राष्ट्रीय राजमार्ग, 05 राज्य मार्ग, 03 मुख्य जिला मार्ग, 0 अन्य जिला मार्ग एवं 48 ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध है।

इसके अतिरिक्त पी0एम0जी0एस0वाई0 के अन्तर्गत आज 14 मार्ग अवरूद्ध हुये तथा 54 मार्ग कल अवरूद्ध थे अर्थात कुल 68 अवरूद्ध मार्गाे में से आज 19 मार्गों को खोल दिया गया है, शेष 49 अवरुद्ध मार्गाे को खोले जाने की कार्यवाही गतिमान है। वर्तमान में राज्य राजमार्गाे पर 05 मशीने, मुख्य जिला मार्गाे पर 04 मशीने, अन्य जिला मार्गाे पर 01 मशीने, तथा ग्रामीण मार्गाे पर 49 मशीने, कुल 59 मशीने कार्य कर रही है। इसके अतिरिक्त पी0एम0जी0एस0वाई0 के मार्गाे पर 61 मशीने लगायी गयी है।


ऊर्जा विभाग के अन्तर्गत राज्य के अधिकतर जनपदों में विद्युत आपूर्ति सुचारू है। जनपद चम्पावत के 01 ग्राम में वर्षा के कारण विद्युत व्यवस्था बाधित चल रही है। वर्तमान तक राज्य में कुल 43 ग्रामों में विद्युत बाधित थी। जिसमें से 42 ग्रामों की विद्युत आपूर्ति पूर्णरूप से सुचारू कर दी गई हैं। शेष 01 ग्रामों में विद्युत आपूर्ति हेतु कार्य किया जा रहा है।

Read Also  शनिवार को आर्या के रिसॉर्ट पर दोबारा गरजा बुल्‍डोजर

उत्तराखण्ड जल संस्थान के अन्तर्गत वर्ष 2022 में मानसून अवधि को दृष्टिगत रखते हुये प्रत्येक शाखा में कन्ट्रोल रूम की स्थापना की गयी है तथा हर जनपद में विभाग द्वारा जनपदीय नोडल अधिकारी नामित किये गये है, ताकि भूस्खलन/अतिवृष्टि से क्षतिग्रस्त पेयजल योजनाओं को तत्काल चालू करने की सूचना उपलब्ध हो सकें। दैवीय आपदा से सम्भावित क्षति को दृष्टिगत करते हुये पेयजल योजनाओं के तत्काल पुनर्स्थापना हेतु जी0आई0 एवं एच0डी0पी0ई0 पाईप बफर के रूप में तथा जल शोधन एवं विसंक्रमण हेतु आवश्यक रसायन समस्त शाखाओं में उपलब्ध कराये गये हैं।


आपदा से पेयजल योजनाओं के क्षतिग्रस्त होने पर तत्काल योजना से सुचारू जलापूर्ति उपलब्ध कराये जाने हेतु शाखाओं के अन्तर्गत कार्यरत प्रशिक्षित फिटर एवं बेलदार तैनात किये गये है। आपदा की स्थिति में, पेयजल की वैकल्पिक व्यवस्था हेतु विभिन्न शाखाओं में 71 विभागीय टैंकर उपलब्ध हैं एवं 219 किराये के पेयजल टैंकर चिन्हित है।

राज्य के अन्तर्गत वर्ष 2022 में दैवीय आपदा/अतिवृष्टि से वर्तमान तक कुल 1776 पेयजल योजनायें क्षतिग्रस्त हुई हैं, जिनमें से 1767 पेयजल योजनायें अस्थायी व्यवस्था से चालू कर दिया गया है। शेष 09 पेयजल योजनाओं को चालू किये जाने की कार्यवाही गतिमान है। वर्तमान तक प्राप्त सूचनानुसार विगत 03 दिवस के भीतर दैवीय आपदा/अतिवृष्टि से 03 पेयजल योजना क्षतिग्रस्त हुयी है, जिन्हें अस्थायी व्यवस्था से चालू कर दिया गया है।

Post source : File Photo

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: