August 08, 2022

Breaking News

शहीद श्रीदेव की पुण्यतिथि पर टिहरी जेल में पौधे रोपे गए

शहीद श्रीदेव की पुण्यतिथि पर टिहरी जेल में पौधे रोपे गए

टिहरी: अमर शहीद श्रीदेव सुमन की 78वीं पुण्यतिथि पर जिला कारागार में सुमन दिवस मनाया गया। सुमन दिवस पर टिहरी विधायक किशोर उपाध्याय, डीएम डॉ सौरभ गहरवार ने श्रीदेव सुमन की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर पौधारोपण किया गया और छात्रों ने प्रभात फेरी भी निकाली।


 श्रीदेव सुमन का जन्म 25 मई 1916 को टिहरी के जौल गांव में हुआ था। ब्रिटिश हुकूमत और टिहरी की अलोकतांत्रिक राजशाही के खिलाफ लगातार आंदोलन कर रहे श्रीदेव सुमन को दिसंबर 1943 को टिहरी की जेल में डाल दिया गया था, जिसके बाद उन्होंने भूख हड़ताल करने का फैसला किया। 209 दिनों तक जेल में रहने और 84 दिनों की भूख हड़ताल के बाद श्रीदेव सुमन का 25 जुलाई 1944 को निधन हो गया। श्रीदेव सुमन का मूल नाम श्रीदत्त बडोनी था।

उनके पिता का नाम हरिराम बडोनी और माता का नाम तारा देवी था। उन्होंने मार्च 1936 गढ़देश सेवा संघ की स्थापना की थी। जबकि, जून 1937 में सुमन सौरभ कविता संग्रह प्रकाशित किया. वहीं, जनवरी 1939 में देहरादून में प्रजामंडल के संस्थापक सचिव चुने गए। मई 1940 में टिहरी रियासत ने उनके भाषण पर प्रतिबंध लगा दिया।  

Read Also  प्रदेश में 334 नए कोरोना संक्रमित मिले, दो मरीजों की मौत  

श्रीदेव सुमन को मई 1941 में रियासत से निष्कासित कर दिया गया। उन्हें जुलाई 1941 में टिहरी में पहली बार गिरफ्तार किया गया जबकि उनकी अगस्त 1942 में टिहरी में ही दूसरी बार गिरफ्तारी हुई। नवंबर 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान आगरा सेंट्रल जेल में बंद रहे। उन्हें नवंबर 1943 में आगरा सेंट्रल जेल से रिहा किया गया।

वहीं, दिसंबर 1943 में श्रीदेव सुमन को टिहरी में तीसरी बार गिरफ्तार किया गया। फरवरी 1944 में टिहरी जेल में सजा सुनाई गई. 3 मई 1944 से टिहरी जेल में अनशन शुरू किया। जहां 84 दिन के ऐतिहासिक अनशन के बाद 25 जुलाई 1944 में 29 वर्ष की आयु में उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए।

इस दौरान उनकी रोटियों में कांच कूटकर डाला गया और उन्हें वो कांच की रोटियां खाने को मजबूर किया गया।श्रीदेव सुमन पर कई प्रकार से अत्याचार होते रहे। झूठे गवाहों के आधार पर उन पर मुकदमा दायर किया गया। हालांकि, टिहरी रियासत को अंग्रेज कभी भी अपना गुलाम नहीं बना पाए थे।

Read Also  गैरसैंण को शीघ्र मिलेगा उप जिला चिकित्सालयः डॉ. धन सिंह रावत

जेल में रहकर श्रीदेव सुमन कमजोर नहीं पड़े। जनक्रांति के नायक अमर शहीद श्रीदेव सुमन को हर साल श्रद्धासुमन अर्पित कर याद किया जाता है।

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: