May 18, 2022

Breaking News

हेमवती नंदन बहुगुणा ने संघर्ष करते हुए स्थापित किये वैचारिक कीर्तिमानः करन माहरा

हेमवती नंदन बहुगुणा ने संघर्ष करते हुए स्थापित किये वैचारिक कीर्तिमानः करन माहरा

देहरादून: देश के महान नेता पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं अविभाजित उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व0 हेमवती नन्दन बहुगुणा के 100वें जन्म दिवस के अवसर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा, नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने आज घंटाघर स्थित स्व0 हेमवती नन्दन बहुगुणा की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित किये।


इस अवसर पर प्रदेश कंाग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने कहा कि गढ़वाल के एक छोटे से गांव बुधाणी में सामान्य परिवार में जन्मे हेमवती नन्दन बहुगुणा ने जिस प्रकार से गढ़वाल से इलाहाबाद तक की शैक्षणिक यात्रा, छात्र राजनीति, स्वतंत्रता संग्राम और फिर देश की आजादी के बाद उत्तर प्रदेश के विधायक से लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, भारत सरकार के संचार मंत्री से लेकर वित्त मंत्री और लम्बे समय तक विपक्ष के नेता के रूप में देश को नेतृत्व दिया और जीवनभर जिस विचारधारा पर चले तथा कभी उन पर समझौता नहीं किया उससे उन्होंने देश की भावी पीढ़ियों को धर्मनिरपेक्षता की ठोस विचारधारा विरासत में दी और देश में वैचारिक कीर्तिमान स्थिापित किये।


नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि हेमवती नन्दन बहुगुणा व्यक्ति नहीं बल्कि विचाधारा थे। बहुगुणा जी ने अपने पूरे जीवन में कभी सिद्धांतों एवं विचारधारा की कीमत पर समझौता नहीं किया। उन्होंने हमेशा कहा कि ‘हिमालय टूट सकता है पर झुक नहीं सकता’।

उन्होंने ने कहा कि बहुगुणा जी के ऊपर अंग्रेज सरकार ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान दस हजार जिन्दा या मुर्दा इनाम रखा था और जब वे गिरफ्तार हुए तो माफी मांगने की शर्त पर अंग्रेज सरकार ने उनको छोडने की पेशकश उनके पिता के माध्यम से की थी किन्तु बहुगुणा जी ने माफी मांगने से साफ मना कर दिया था।


इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री विजय सारस्वत, प्रदेश महामंत्री मथुरादत्त जोशी, राजेन्द्र सिंह भण्डारी, सुरेन्द्र रांगड़, पूर्व मंत्री अजय सिंह, प्रदेश प्रवक्ता गरिमा दसौनी, राकेश नेगी, प्रदेश महिला अध्यक्ष ज्योति रौतेला, मोन्टू नेगी आदि कांग्रेसजन उपस्थित थे।

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: