सेना प्रमुख ने पाक को दी चेतावनी | Doonited.India

September 21, 2019

Breaking News

सेना प्रमुख ने पाक को दी चेतावनी

सेना प्रमुख ने पाक को दी चेतावनी
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

पाकिस्तान के लिए एक सख्त संदेश भेजते हुए, सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शनिवार को कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि ‘किसी भी दुस्साहस को दंडात्मक प्रतिक्रिया के साथ निरस्त किया जाएगा’। सेना प्रमुख ने चेतावनी दी कि भविष्य में कोई भी संघर्ष अधिक ‘हिंसक और अप्रत्याशित’ साबित होगा और सेना मानवीय कारक को ध्यान में नहीं रखेगी। कारगिल संघर्ष के 20 वें वर्ष को चिह्नित करने के लिए नई दिल्ली में एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए, रावत ने कहा, ‘पाकिस्तान सेना का समय और फिर गलतफहमी का समाधान करता है, या तो त्रुटिपूर्ण प्रॉक्सी युद्धों और राज्य प्रायोजित आतंक या घुसपैठ के माध्यम से। भारतीय सेना हमारे क्षेत्र की रक्षा के लिए दृढ़ है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि किसी भी दुस्साहस को दंडात्मक प्रतिक्रिया के साथ निरस्त किया जाएगा। ‘ उनहोंने कहा ‘भविष्य के संघर्ष अधिक हिंसक और अप्रत्याशित होंगे जहां मानव कारक का महत्व कम नहीं रहेगा। हमारे सैनिक हैं और हमारी प्राथमिक संपत्ति बने रहेंगे।

आंकड़े पर गौर करें तो, 2014 से आठ सौ आतंकवादी मारे गए, जिनमें से 249 2018 में थे, केंद्र ने इस महीने की शुरुआत में संसद को सूचित किया था। लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित जवाब में, रक्षा मंत्रालय में राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि 2014 में 104 आतंकवादी मारे गए, 2015 में 97, 2016 में 140 और 2017 में 210। पूर्वी मोर्चे पर, रावत ने कहा कि लद्दाख के डेमचोक क्षेत्र में चीनी द्वारा कोई घुसपैठ नहीं की गई है। रावत ने कहा, ‘कोई घुसपैठ नहीं हुई है।’

6 जुलाई को दलाई लामा के जन्मदिन के अवसर पर कुछ तिब्बतियों द्वारा तिब्बती झंडे फहराने के बाद पिछले हफ्ते चीनी सैनिकों की वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) को पार करने की खबरों के बीच सेना प्रमुख का बयान आता है। सेना प्रमुख ने कहा ‘चीनी आते हैं और उनके वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गश्त करते हैं. हम कोशिश करते हैं और उन्हें रोकते हैं। लेकिन कई बार ऐसे समारोह होते हैं जो स्थानीय स्तर पर होते हैं। डेमचोक सेक्टर में हमारे तिब्बतियों द्वारा जश्न मनाया जा रहा था। उसके आधार पर, कुछ चीनी भी यह देखने आए थे कि क्या हो रहा है। लेकिन कोई घुसपैठ नहीं हुई है। सब कुछ सामान्य है’। गौरतलब है कि भारत और चीन एक विवादित सीमा साझा करते हैं और दोनों देशों की सेनाएं डोकलाम में 2017 में 73 दिनों तक गतिरोध में लगी रहीं।

इंडियन आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावज ने लद्दाख में चीनी सेना की घुसपैठ से इनकार कर दिया है। गुरुवार को ऐसी खबरें आई थीं कि चीनी सेना लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (एलएसी) पार करके लद्दाख के डेमचोक सेक्‍टर तक आ गई थी। घटना पिछले हफ्ते की बताई जा रही है जब दलाई लामा के बर्थडे पर कुछ ति‍ब्‍बती नागरिकों ने तिब्बत का झंडा फहराया था।

पिछले हफ्ते की घटना

सेना प्रमुख ने शनिवार को एक कार्यक्रम से अलग इस मुद्दे पर बयान दिया। उन्‍होंने कहा, ‘कोई भी घुसपैठ नहीं हुई थी। फ्लैग मीटिंग में इस मसले को उठाया था और यह सुलझ गया। चीनी सेना के साथ हमारे काफी अच्‍छे प्रोफेशनल रिश्‍ते हैं।’ उन्‍होंने कहा कि भारत की तरफ कुछ तिब्‍बती नागरिकों की ओर से डेमचोक सेक्‍टर में उत्‍सव मनाया जा रहा था। इसके बाद कुछ चीनी यह जानने आए थे कि क्‍या हो रहा है। लेकिन कोई घुसपैठ नहीं हुई थी। सब-कुछ सामान्‍य है। उन्‍होंने कहा कि जाहिर सी बात है कि जब कोई सामान्‍य नागरिक आता है तो उसके साथ चीनी सेना का जवान होता है। वह भी नागरिकों पर उसी तरह से नजर रखना चाहते हैं जैसे हम रखते हैं। यहां तक कि सेना और आईटीबीपी भी हमारे लोगों को लेकर बॉर्डर एरिया में जाते हैं अगर वह कुछ देखना चाहते हैं।

पिछले हफ्ते तिब्‍बती नागरिकों की तरफ से झंडा फहराया गया था। इसके बाद कुछ चीनी नागरिक असैन्‍य कपड़ों में लद्दाख में एलएसी के करीब तक आ गए थे। चीन की तरफ से ईस्‍टर्न लद्दाख में दलाई लामा के बर्थडे के मौके पर प्रदर्शित किए गए बैनर्स का सख्‍त विरोध किया गया है। इप बैनस पर लिखा था ‘तिब्‍बत को तोड़ने वाली हर गतिविधि पर प्रतिबंध लगे।’

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : agencies

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: