विपिन चन्द पन्त को ‘अन्वेषण में उत्कृष्टता हेतु केन्द्रीय गृह मंत्री पदक’ प्रदान किये जाने की घोषणा | Doonited.India

August 26, 2019

Breaking News

विपिन चन्द पन्त को ‘अन्वेषण में उत्कृष्टता हेतु केन्द्रीय गृह मंत्री पदक’ प्रदान किये जाने की घोषणा

विपिन चन्द पन्त को ‘अन्वेषण में उत्कृष्टता हेतु केन्द्रीय गृह मंत्री पदक’ प्रदान किये जाने की घोषणा
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

केन्द्रीय गृह मंत्रालय, भारत सरकार द्वार मुकदमों की बहतरीन विवेचना करने के लिए विपिन चन्द पन्त, पुलिस उपाधीक्षक, जनपद चंपावत को “अन्वेषण में उत्कृष्टता हेतु केन्द्रीय गृह मंत्री पदक” प्रदान किये जाने की घोषणा की गयी है।

अभियोग का विवरण- दिनांक 21-11-2014 को रात्रि में रामलीला मैदान शीशमहल, काठगोदाम, जनपद नैनीताल में वैवाहिक कार्यक्रम में सम्मिलित होने आई एक 5-6 वर्षीय बालिका वैवाहिक कार्यक्रम समारोह से कहीं गायब हो गयी थी। इस सम्बन्ध में धारा- 365 भा0द0वि0 में प्रथम सूचना रिपोर्ट अंकित की गयी। दिनांक 25-11-2014 को गुमशुदा का शव गौला नदी में बरामद हुआ। विवेचना तत्कालीन निरीक्षक विपिन चन्द्र पन्त के सुपुर्द की गयी। मृतका का शव मिलने के उपरान्त पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर अभियोग में धारा-376/302/201 भारतीय दण्ड संहिता व 4 पोक्सो अधिनियम की वृद्धि की गयी। विवेचना के दौरान संकलित साक्ष्यों के आधार पर अख्तर अली उर्फ शमीम उर्फ राजू पुत्र मकसूद अली निवासी ग्राम व पोस्ट मेहनगिरी थाना बेतिया, चम्पारन, बिहार हाल निवासी शीशमहल काठगोदाम प्रकाश में आया, जिसे दिनांक 27-11-2014 को गिरफ्तार किया गया।

विवेचना से घटना में सम्मिलित सह अभियुक्त प्रेमपाल वर्मा पुत्र लक्ष्मण प्रसाद निवासी हैदरगंज, जहानाबाद पीलीभीत हाल निवासी शीशमहल काठगोदाम एवं जूनियर मसीह उर्फ पौक्सी पुत्र हारून मसीह निवासी कन्टोपा रूद्रपुर ऊधमसिंहनगर को दिनांक 28-11-2014 को गिरफ्तार किया गया। विवेचना के दौरान वैज्ञानिक साक्ष्यों, अभियुक्त अख्तर अली के डी0एन0ए0, कपडे़, खून, मिट्टी आदि साक्ष्य प्राप्त कर विधि विज्ञान प्रयोगशाला से परीक्षण कराया गया, जिसमें अभियुक्त अख्तर अली का डी0एन0ए0 मिलान होने के आधार पर तीनों अभियुक्तों के विरूद्ध दिनांक 26-1-2015 को आरोप पत्र माननीय न्यायालय प्रेषित किया गया।

इस अज्ञात प्रकरण में 60 दिवस के अन्दर अनावरण कर आरोप पत्र प्रेषित किया गया। प्रकरण का विचारण पोक्सो कोर्ट में हल्द्वानी नैनीताल में चला जिसमें श्री विपिन चन्द पन्त द्वारा प्रभावी कार्यवाही करके 40 गवाहों का परीक्षण हुआ जिसके फलस्वरूप माननीय न्यायालय से दिनांक 11-3-2016 को अभियुक्त अख्तर अली को मृत्यु दण्ड, प्रेमपाल को 08 वर्ष के कारावास से दण्डित किया गया। उक्त प्रकरण में श्री विपिन चन्द पन्त को 9 नवम्बर 2016 को 10 हजार के नगद पुरस्कार से पुरस्कृत भी किया गया है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: