August 04, 2021

Breaking News
COVID 19 ALERT Middle 468×60

उत्तराखंड पुलिस ने मसूरी और नैनीताल के रास्ते 8,000 वाहनों को वापस किया

उत्तराखंड पुलिस ने मसूरी और नैनीताल के रास्ते 8,000 वाहनों को वापस किया

पर्यटकों की संख्या को नियंत्रित करने और भीड़ को रोकने के अपने प्रयास में उत्तराखंड पुलिस ने सप्ताहांत में मसूरी और नैनीताल के रास्ते में 8,000 वाहनों को वापस भेज दिया. उत्तराखंड के पुलिस उप महानिरीक्षक (DIG) नीलेश आनंद भराने ने कहा, “केम्प्टी फॉल्स में स्नान करने वाली भारी भीड़ का वीडियो वायरल होने के बाद उत्तराखंड सरकार ने पर्यटकों की संख्या को नियंत्रित करने के लिए कदम उठाए हैं.”

निगेटिव RTPCR रिपोर्ट

उन्होंने कहा “लोगों को निगेटिव RTPCR रिपोर्ट ले जाने और ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीकरण करने के लिए नोटिस दिया गया है.” अधिकारी पिछले हफ्ते राज्य द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के बारे में बोल रहे थे, जब कई पर्यटकों को कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ाते देखा गया था.

देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल

नियमों के अनुसार लोगों को देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल पर पंजीकरण करना होगा और अपने आवास (accommodation) की पूर्व ऑनलाइन बुकिंग प्राप्त करनी होगी. इसके अलावा राज्य सरकार ने नैनीताल और देहरादून के होटलों में 50 फीसदी ऑक्यूपेंसी कैपिंग के संबंध में एक आदेश जारी किया था.

Read Also  केदारनाथ यात्रा को लेकर तैयारियां तेज

राज्य की सीमा पर सीमा चौकियां

भराने ने कहा “राज्य की सीमा पर सीमा चौकियां लगा दी गई हैं और मसूरी और नैनीताल से लगभग 4,000 वाहनों को वापस भेज दिया गया है.” उन्होंने बताया कि राज्य की सीमा पर चेक पोस्ट बनाए गए हैं. उन्होंने लोगों से भीमताल, रानीखेत और लैंडसडाउन जैसे अन्य लोकप्रिय स्थलों पर जाने पर विचार करने की अपील की ताकि बड़ी भीड़ से बचा जा सके.

पर्यटकों की भारी आमद देखी गई

इसके बावजूद नैनीताल में बड़ी संख्या में पर्यटक अनिवार्य फेस मास्क नियम का उल्लंघन करते हुए और न्यूनतम सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए देखे गए. उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में पिछले कुछ दिनों में पर्यटकों की भारी आमद देखी गई है. ऑनलाइन कई वीडियो सामने आए हैं जो बिना मास्क और न्यूनतम सामाजिक दूरी के लोगों के बड़े जमावड़े को दिखाते हैं.

पर्यटन स्थलों में कोविड-19 की स्थिति बिगड़ती है तो डीएम जिम्मेदार

इसे देखते हुए राज्य सरकार ने जिलाधिकारियों को एक फरमान जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि यदि पर्यटन स्थलों में कोविड-19 की स्थिति बिगड़ती है तो वे इसके लिए जिम्मेदार होंगे. अधिकारियों ने कहा कि डीएम को सप्ताहांत पर भीड़ के संबंध में निर्णय लेने के लिए अधिकृत किया गया है और उन्हें नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करनी चाहिए.

Read Also  Uttarakhand government postponed its order to open the Chardham Yatra

उत्तराखंड में कर्फ्यू 20 जुलाई सुबह छह बजे तक के लिए बढ़ा दिया गया

उत्तराखंड में कोविड-19 के कारण लगे कर्फ्यू को भी 20 जुलाई सुबह छह बजे तक के लिए बढ़ा दिया गया है. शादियों और अंतिम संस्कार के लिए 50 लोगों की कैप लगाई गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार उत्तराखंड में वर्तमान में 932 सक्रिय कोविड -19 मामले हैं. राज्य में अब तक 3,32,957 ठीक हो चुके हैं और 7,341 मौतें हो चुकी हैं. राज्य में कुल 49,31,189 टीके लगाए गए हैं, जिनमें 39,30,271 पहली खुराक और 10,00,918 दूसरी खुराक शामिल हैं.

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: