मालू सालू रोज़गार ही नही अपितु हमारी संस्कृति भी है..यह एक परम्परा है | Doonited.India

February 17, 2019

Breaking News

मालू सालू रोज़गार ही नही अपितु हमारी संस्कृति भी है..यह एक परम्परा है

मालू सालू रोज़गार ही नही अपितु हमारी संस्कृति भी है..यह एक परम्परा है
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मालू संस्कृति…

मालू सालू रोज़गार ही नही अपितु हमारी संस्कृति भी है..यह एक परम्परा है जिस का हम परित्याग नही कर सकते है…

मालू के पत्तल में भोजन परोसने से कुछ वैज्ञानिक फायदे होते है। यह सब फायदे प्रमाणित है।
जैसे-: मालू के पात में जब हम भोजन करते है तो सीधा क्लोरोफिल हमें मिलता है। आयरन,विटामिन सी व ए मालू में प्रचुर मात्रा में होती है। वही अगर आप थर्माकोल व पकास्टिक के बर्तनों में भोजन करते हो तो प्लास्टिक के कण थर्माकोल के कण से कैंसर जैसी भयानक बिनारी होने की सम्भवनायें 80% बढ़ जाती है। इसी वजह से 1 अप्रैल 2019 से उत्तराखंड में पकास्टिक व थर्माकोल गैरकानूनी की सीमा में लाया जा रहा है।

मालू का जब उपयोग ब्यवसायिक रूप में किया जाएगा तो उस को उगाया भी जाएगा जिस से पर्यावरण को अनेक फायदे होंगे।
जैसे-: मालू वर्षात के दिनों में सब से अधिक पानी पीता है। बांज से भी अधिक पानी पीने वाला अगर कोई पेड़ है तो वह मालू है। मालू का पेड़ मार्च पतझड़ के बाद 4 महीने लगातार जमीन में पानी छोड़ता है। और उसी दौरान गर्मी पड़ती है। मालू से जंगल के जल स्रोत हरे रहते है। मालू समतल भूमि पर नही उगता है। मालू को वह भूमि चाहिए जो बंजर हो या जो खेती लायक न हो। मालू का पेड़ जहां होता है उस 100 मीटर के क्षेत्र में न कभी आकाशिय बिजली गिरती है न भूस्खलन होता है। मालू के पत्तों से जैविक खाद बनता है और मालू अनेकों प्रकार के हानिकारक जीवाणुओं को खत्म करता है।

किसी जमाने में मालू के फल (टांटि) से चप्पल बनाये जाते थे। मालू के रेशे से चटाई कपड़े थैले तिरपाल आदि बनाई जाती है। मालू से तेल बनता है व मालू का तेल करीब 15000₹ लीटर है। टांटि का आटा करीब 500₹ kg बिकता है और इस आटे में फ़ाइबर प्रोटीन केल्शियम अधिक मात्रा में होता है। आम गेहूं के आटे में पानी की मात्रा 10% होता है जब कि टांटि के आटे में 23 से 26% के मध्य पानी की मात्रा होती है। महीने में 2 बार इस आटे का सेवन करने से पेट की हर बीमारी से निजात मिल सकता है। टांटि का तेल मालिस व खाने के काम आता है। आज जो दवाई दुबारा सिर में बाल उगाने के काम में आता है उस में टांटि का तेल 90% होता है

कुल मिला कर मालू आप को रोटी कपड़ा मकान दे सकता है।

मालू के पत्तल दोने के लिए सम्पर्क करें,

9716541803
देवेश आदमी
देहरादून उत्तराखंड

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : देवेश आदमी

Related posts

Leave a Comment

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: