स्वामी चिदानन्द सरस्वती से बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने की भेटवार्ताDoonited News
Breaking News

स्वामी चिदानन्द सरस्वती से बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने की भेटवार्ता

स्वामी चिदानन्द सरस्वती से बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने की भेटवार्ता
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती के साथ बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी, भारत के कई प्रदेशों से आये बाल संरक्षण अधिकारी, बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष अन्य अधिकारियों ने भेंटवार्ता की। ऊषा नेगी ने  बताया कि हाल ही में देहरादून में बाल अधिकार संरक्षण आयोग की ओर से एक कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसका उद्घाटन उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने किया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों में बढ़ती नशे की प्रवृत्ति, रोकथाम और पुनर्वास विषयों पर विचार मंथन किया गया।


स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने नशीले पदार्थों का शिकार हो रहे युवाओं की बढ़ती संख्या के विषय में चिंता व्यक्त करते हुये कहा कि नशा युवा मन पर हावी एक बीमारी है। नशे की लत से बाहर निकलने के लिये उन्हें परिवार और समाज की सहायता की जरूरत है।  नशा करने वाले व्यक्ति को सहायता और सहानुभूति की जरूरत होती है। नशीले पदार्थो का सेवन करने वाले युवा अक्सर मानसिक तनाव से पीड़ित होते है और कई बार वे स्वयं भी इससे बाहर निकलने हेतु संघर्ष करते है ऐसे में उन्हें अपनों की और अपनों के साथ की सबसे अधिक जरूरत होती हैं।

Read Also  परमार्थ निकेतन गंगा आरती में शास्त्रीय भजन गायक सूर्यगायत्री ने किया सहभाग

स्वामी जी ने कहा कि नशे की लत से बाहर निकलने के लिये आत्मविश्वास और आत्मसंयम की सबसे अधिक जरूरत होती है। साथ ही बाजार में उपलब्ध अल्कोहॉल और नशीली चीजों से युक्त पदार्थों के उत्पादन पर सख्ती से रोक लगानी चाहिये। युवाओं और बच्चों को नशे से मुक्त करने तथा नशा मुक्त राष्ट्र बनाने के लिये जनजागरूकता के साथ शैक्षिक पाठ्यक्रम में नशा मुक्त विषयों को शामिल करना, शरीर पर पड़ने वाले उनके प्रभावों के बारे में बताना तथा नशे से सम्बिधित जानकारी देना अत्यंत आवश्यक है। नशा करने वाले युवाओं को नशामुक्त करने के लिये अपनापन और उचित सलाह ही विकल्प हो सकता है।

Read Also  विद्युत नियामक आयोग ने टैरिफ याचिकाओं पर की जनसुनवाई

आईये हम सभी मिलकर नशामुक्त राज्य के निर्माण में सहयोग प्रदान करे। बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी ने कहा कि आयोग उत्तराखंड राज्य में वर्ष 2018 से नशा मुक्त राज्य बनाने के लिये प्रयासरत है और इस क्षेत्र में निरंतररूप से कार्य किये जा रहे है ताकि युवाओं को नशे की लत से बाहर निकाला जा सके। युवाओं को नशा मुक्त करने और जमीनी स्तर पर परिवर्तन लाने के लिये एक सम्मिलित प्रयास की जरूरत हैं।


इस अवसर पर गुमरी रिंगू जी, अध्यक्ष बाल अधिकारी संरक्षण आयोग अरूणांचल प्रदेश, अवान कोनयाक अध्यक्ष बाल अधिकारी संरक्षण आयोग, नागालैण्ड, हरजिन्दर कौर, अध्यक्ष बाल अधिकारी संरक्षण आयोग, चण्डीगढ़, संध्यावती प्रधान अध्यक्ष बाल अधिकारी संरक्षण आयोग, ओड़सा, संगीता बेनीवाल, निलिमा घोष, अध्यक्ष बाल अधिकारी संरक्षण आयोग, त्रिपुरा, डाॅ विशेष गुप्ता, अध्यक्ष बाल अधिकारी संरक्षण आयोग, उत्तरप्रदेश और अन्य अधिकारियों ने भेंट कर स्वामी चिदानन्द सरस्वती से आशीर्वाद लिया।

Read Also  व्यापारियों ने मेयर सुनील उनियाल गामा से नगर निगम स्थित उनके कार्याला में भेंट कर ज्ञापन सौंपा




Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

doonited mast
%d bloggers like this: