August 05, 2021

Breaking News
COVID 19 ALERT Middle 468×60

कांसे के पात्र का प्रयोग बुद्धि बढ़ाता है

कांसे के पात्र का प्रयोग बुद्धि बढ़ाता है

 

 

 

 

कांसे के पात्र का प्रयोग करने से पित्त की शुद्धि होती है, यह बुद्धि बढ़ाता है।

 

 

 

 

 

पीतल के बर्तनों में जल गर्म बना रहता है। इसमें पका भोजन कफ नाशक होता है। और सोने और चांदी के बर्तनों में खाना खाने से शरीर में मौजूद सोने, चांदी का संतुलन बना रहता है।

 

 

 

 

 

आयुर्वेद का मत है कि चांदी और सोने के बर्तन में भोजन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोत्तरी होती है। दरअसल हिंदू धर्म में पवित्रता पर अधिक बल दिया जाता है। इसलिए सदियों से सोना, चांदी, पीतल और कांसे के बर्तन में भोजन करने की सलाह हमारे बुजुर्ग देते हैं।

 

 

 

 

 

 

यह बातें पौराणिक ग्रंथों में बहुत पहले ही वर्णित कर दी गईं थीं, लेकिन यह वैज्ञानिक तौर पर भी सिद्ध हो चुकी हैं।
जैसे कि चांदी का पात्र प्राकृतिक रूप से शीतल होने के कारण पित्त प्रकोप दूर करते हैं। चांदी को नेत्र ज्योति बढ़ाने वाला, मानसिक शांति और शारीरिक शीतलता प्रदान करने वाली धातु कहा गया है।
Read Also  स्किन को नया बनाए रखता है नींबू

Post source : Article By Dr. Pradeep Banerjee

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: