Be Positive Be Unitedकृषि वानिकी उत्पादों के बाजार तंत्र पर प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजितDoonited News is Positive News
Breaking News

कृषि वानिकी उत्पादों के बाजार तंत्र पर प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित

कृषि वानिकी उत्पादों के बाजार तंत्र पर प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.




द आजकल कृषि क्षेत्र में कृषि फसलों के साथ पेड़ों को उगाने के लिए कृषि वानिकी का प्रचलन है। यह किसानों के लिए एक लाभदायक प्रथा है और पर्यावरणीय स्थिरता को भी बनाए रखती है। कृषि वानिकी अपने उत्पादों के लिए विपणन रुझानों पर पनपती है और निर्वाह करती है। कृषि वानिकी उत्पादों के कुशल और प्रभावी विपणन की निरंतरता व्यापारियों से उत्पादकों और बाजार परिवर्तन के सक्रिय समर्थन पर निर्भर करती है।


कृषि वानिकी उत्पादों के विपणन के रुझान और बाधाओं को ध्यान में रखते हुए विस्तार प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान देहरादून ने मानव संसाधन और विकास मंत्रालय के मानव संसाधन विकास योजना के तहत तकनीकी सहायकों और संस्थान के तकनीशियनों के लिए कृषि वानिकी उत्पादों के बाजार तंत्र पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया।

ऋचा मिश्रा, भा-व-से- प्रमुख विस्तार विभाग ने अरुण सिंह रावत, भा-व-से-, महानिदेशक भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद और निदेशक, वन अनुसंधान संस्थान का स्वागत किया। उन्होंने प्रशिक्षण की परिचयात्मक टिप्पणी दी। अरुण सिंह रावत ने प्रशिक्षण का उद्घाटन किया और अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा कि संस्थान में सभी तकनीकी सहायक और तकनीशियन बहुमुखी कर्तव्यों में लगे हुए हैं और यह प्रशिक्षण संबंधित क्षेत्र में काम करने वाले विषय विशेषज्ञों द्वारा दिया जा रहा है।  इसलिए प्रशिक्षण निश्चित रूप से सभी प्रतिभागियों के लिए विशेष रूप से खेत और बाजार सर्वेक्षण के दौरान फायदेमंद होगा।




उन्होंने देश में मांग और आपूर्ति के परिदृश्य का भी उल्लेख किया और कहा कि मांग और आपूर्ति के बीच अंतर बड़े पैमाने पर कृषि वानिकी  को अपनाने से भरा जा सकता है। लेकिन विपणन का रुझान मजबूत और प्रभावी होना चाहिए। तकनीकी सत्र के दौरान डॉ चरण सिंह, वैज्ञानिक-ई विस्तार प्रभार ने कृषि वानिकी  और कृषि वानिकी  उत्पादों पर व्याख्यान दिया।

उन्होंने कृषि वानिकी  और इसकी जरूरत के बारे में बताया। उन्होंने उल्लेख किया कि अगर वैज्ञानिक तरीके से इसको अपनाया जा, तो कृषि वानिकी  किसानों के लिए फायदेमंद हो सकती है और कृषि वानिकी उत्पादों के लिए उचित बाजार की उपलब्धता की भी आवश्यकता है। उन्होंने कृषि वानिकी प्रणाली का विवरण दिया और बताया कि और पारिस्थितिक स्थितियों के अनुसार कृषि वानिकी  प्रजाति का चयन किया जाना चाहिए। डीपी खाली ने प्रभावी विपणन के लिए कृषि वानिकी  उत्पादों के मूल्य वर्धन पर व्याख्यान दिया।

उन्होंने संस्थान द्वारा विकसित लकड़ी प्रसंस्करण आधारित प्रौद्योगिकियों और किसानों को उनके लाभ के बारे में बताया। उन्होंने उल्लेख किया कि एक लकड़ी को वैज्ञानिक प्रसंस्करण }ारा अच्छा बनाया जा सकता है। उन्होंने ईको-फ्रेंडली लकड़ी परिरक्षकों के माध्यम से लकड़ी के प्लाईवुड बनाने और लकड़ी के संरक्षण के बारे में बताया। एचपी सिंह ने कृषि वानिकी  उत्पादों के विपणन और बाजार सर्वेक्षण की कसौटी और विधि पर बात की। उन्होंने कृषि वानिकी सर्वेक्षण के बारे में भी बताया और इस बात का उल्लेख किया कि इस प्रकार का सर्वेक्षण विशेष रूप से कृषि वानिकी उत्पादन के मूल्यांकन के लिए सहायक है और इसे बाजार के रुझान के साथ जोड़ा जा सकता है। उन्होंने बाजार चैनलों और उनके कार्य पर भी प्रकाश डाला।

उन्होंने सुझाव दिया कि विपणन श्रृंखला को सरल बनाया जाना चाहिए ताकि किसान अपने उत्पादों को बेचने के लिए आसानी से बाजार खोज सकें। कार्यक्रम के सफल समापन के बाद ऋचा मिश्रा ने सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र प्रदान किये। कार्यक्रम का समापन रामबीर सिंह, वैज्ञानिक-डी विस्तार प्रभार द्वारा दिए गए धन्यवाद प्रस्ताव से हुआ।  कार्यक्रम का संचालन विस्तार प्रभाग के वैज्ञानिक डॉ0 चरण सिंह द्वारा किया गया था। डॉ0 देवेंद्र कुमार, वैज्ञानिक-ई,  श्री अजय गुलाटी, सहायक मुख्य तकनीकी अधिकारी, विजय कुमार, एसीएफ और प्रीत पाल सिंह, डिप्टी रेंजर सहित टीम के अन्य सदस्यों ने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए एक सराहनीय कार्य किया।



Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

%d bloggers like this: