August 05, 2021

Breaking News
COVID 19 ALERT Middle 468×60

ऊखीमठ और गुप्तकाशी में किया तीर्थ पुरोहितों ने जमकर नारेबाजी

ऊखीमठ और गुप्तकाशी में किया तीर्थ पुरोहितों ने  जमकर नारेबाजी

रूद्रप्रयाग: देवस्थानम बोर्ड को भंग करने की मांग को लेकर केदारनाथ तीर्थपुरोहितों ने ऊखीमठ और गुप्तकाशी में प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में तीर्थपुरोहित अब पीछे हटने वाले नही हैं।

तीर्थ-पुरोहितों ने जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया


निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार बुधवार को साढ़े ग्यारह बजे तीर्थ पुरोहित भारत सेवा आश्रम के निकट एकत्रित हुए। जिसके बाद बारह बजे जुलूस मुख्य बाजार में पहुंचा। तीर्थ-पुरोहितों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। जबकि इससे पूर्व गुप्तकाशी बाजार में भी तीर्थ-पुरोहितों ने जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया।

देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को भंग करने को लेकर तीर्थ-पुरोहितों का आंदोलन

लंबे समय से चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को भंग करने को लेकर तीर्थ-पुरोहितों का आंदोलन चल रहा है। ऊखीमठ मुख्य बाजार में सैकड़ों की संख्या में मौजूद तीर्थ-पुरोहितों ने प्रदर्शन कर बोर्ड को भंग करने की मांग की। जिसके बाद जुलूस तहसील परिसर में पहुंचा। जहां पर वक्ताओं ने कहा कि सरकार द्वारा बोर्ड के माध्यम से तीर्थों का बाजारीकरण किया जा रहा है जो हमारी परम्पराओं के खिलाफ है।

Read Also  वेब सीरीज रामयुग से संत समाज में आक्रोश, बैन लगाने की मांग

केदारसभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला

उन्होंने कहा कि हक-हकूकधारियों को पौराणिक परम्पराओं से मिले अधिकारों से वंचित करना चाहती है। केदारसभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने कहा कि देवस्थानम बोर्ड का शुरू से ही लगातार विरोध किया जा रहा है, बिना विश्वास में लिए ही बोर्ड का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि जबतक बोर्ड भंग नहीं किया जाता आंदोलन चलता रहेगा।

इस मौके पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष सुमन्त तिवारी, जिपंस गणेश तिवारी, जिपंस बबिता सजवाण, प्रधान संगठन के अध्यक्ष सुभाष रावत, महामंत्री कुबेरनाथ पोस्ती, केशव तिवारी, राजकुमार तिवारी, राकेश नेगी, तेजप्रकाश त्रिवेदी, अंकित सेमवाल आदि मौजूद थे।

बदरीनाथ धाम में गर्भ गृह की आरती के प्रसारण पर भड़के तीर्थपुरोहित


टिहरी: श्री बदरीनाथ धाम मंदिर के गर्भगृह की आरती के सजीव प्रसारण को धार्मिक मर्यादायों के विरुद्ध बताते हुए तीर्थ पुरोहित समाज ने तत्काल रोक लगाने की मांग की है। तीर्थ पुरोहितों के अनुसार वैष्णो देवी, जगन्नाथ धाम, तिरुपति बालाजी आदि तीर्थों के गर्भगृह के दर्शन सजीव प्रसारण से नहीं करवाये जाते हैं। ऐसे में बदरीनाथ धाम में करोड़ों हिंदूआंे की आस्था, भक्ति से खिलवाड़ किया जाना उचित नहीं है।

Read Also  दिगंबर जैन महासमिति समृद्धि इकाई ने किया पौधारोपण

श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन ने इस मामले गहरी आपत्ति जताते हुए देवस्थानम बोर्ड के मुख्यकार्याधिकारी को पत्र भेजा


श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन ने इस मामले गहरी आपत्ति जताते हुए देवस्थानम बोर्ड के मुख्यकार्याधिकारी को पत्र भेजा गया है। जिसमें आदि गुरु शंकराचार्य की ओर से स्थापित मान्यताओं को सदा ही संरक्षित किये जाने का हवाला देते कहा गया है कि गर्भ गृह किसी भी मंदिर का पवित्रतम स्थल माना जाता है।

गर्भगृह का दर्शन आदि करवाना किसी भी तरह उचित नहीं

बदरीनाथ मंदिर में हमेशा गर्भ गृह का चित्रण वर्जित रहा है। इसका दर्शन श्रद्धालु परम्परा से सदैव स्नान आदि से शुद्ध, पवित्र होकर ही करता रहा है। सजीव प्रसारण में श्रद्धालुओं से इस नियम का पालन नहीं करवाया जा सकता।

ऐसे में गर्भगृह का दर्शन आदि करवाना किसी भी तरह उचित नहीं कहा जा सकता। देवस्थानम बोर्ड व्यवस्थाओ के सुधार के लिए गठित किया गया है। यदि धार्मिक विधानों मे बोर्ड द्वारा हस्तक्षेप किया जाता है, तो यह करोड़ों हिंदुओं की आस्था, भक्ति पर कुठाराघात होगा।

Read Also  अपर पुलिस महानिदेशक, अभिनव कुमार को मुख्य प्रवक्ता नियुक्त किया गया

गर्भ गृह की आरती के सजीव प्रसारण पर तत्काल रोक लगाने की मांग की

तीर्थाटन की हानि सहित यह कृत्य प्राकृतिक आपदाओ को भी घटित करने वाला साबित हो सकता है। श्री बदरीश युवा पुरोहित संगठन ने हिंदू धर्मावलबियों की भावनाओ का सम्मान करते हुए गर्भ गृह की आरती के सजीव प्रसारण पर तत्काल रोक लगाने की मांग की है। पत्र भेजने वालों में संगठन अध्यक्ष प्रवीन ध्यानी, सचिव श्रीकांत बडोला, उपाध्यक्ष आशीष कोटियाल, हरिओम उनियाल, प्रफुल्ल पंचभैया, प्रदीप भट्ट, राकेश रैवानी,सतीश राजपुरोहित, राकेश कर्नाटक, सौरभ पंचभैया आदि शामिल हैं।

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: