पतित पावनी मां गंगा जग की पालनहार हैः स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी | Doonited.India

October 14, 2019

Breaking News

पतित पावनी मां गंगा जग की पालनहार हैः स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी

पतित पावनी मां गंगा जग की पालनहार हैः स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

हरिद्वार:  श्री दक्षिण काली पीठाधीश्वर महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा है कि पतित पावनी मां गंगा जग की पालनहार है। जो युगों युगों से अविरल व निर्मल बहकर मोक्ष प्रदान करती चली आ रही है। मां गंगा को निर्मल व स्वच्छ बनाए रखना सभी का कर्तव्य है। गंगा दशहरे के अवसर पर नीलधारा तट स्थित श्री दक्षिण काली मंदिर के प्रांगण में श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि देवभूमि उत्तराखण्ड से अवतरित होने वाली मां गंगा का जल अमृत के समान है

जिसके आचमन मात्र से ही व्यक्ति को जन्म जन्मांतर के पापों से मुक्ति मिल जाती है। उन्होंने कहा कि लाखों करोड़ों हिंदुओं की आस्था का केंद्र व भारतीय संस्कृति की पहचान पतित पावनी मां गंगा से है। गंगा को निर्मल व अविरल बनाए रखने में सभी की सहभागिता जरूरी है। उन्होंने सभी से अपील करते हुए कहा कि गंगा की पवित्रता बनाए रखने में सहयोग करते हुए किसी भी प्रकार की गंदगी आदि गंगा में ना डालें। गंगा में स्नान के साथ गंगा को स्वच्छ रखने का संकल्प भी सभी श्रद्धालु अवश्य लें। गंगा स्नान के लिए हरिद्वार आते समय अपने साथ पॉलीथीन आदि ना लाएं। पुराने कपड़े आदि भी गंगा में ना फेंके। गंगा को स्वच्छ बनाने के सरकारी प्रयास भी तभी सार्थक होंगे जब आमजन मानस इसमें सहयोग करेगा।

उन्होंने कहा कि देवभूमि उत्तराखण्ड ऋषि मुनियों की तपस्थली है। गंगा तट पर संत दर्शन सौभाग्य से ही प्राप्त होता है। गंगा तट पर संतों के सानिध्य में किए गए धार्मिक कर्म सदैव सफलता प्रदान करते हैं। भक्तों को श्री दक्षिण काली पीठ की महत्ता से अवगत कराते हुए स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि गंगा तट पर साक्षात रूप से विराजमान मां दक्षिण काली की सच्चे मन से आराधना करने वाले साधक के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। जीवन निष्कंटक हो जाता है। परिवारों में सुख समृद्धि का वास होता है। म.म.स्वामी प्रबोधानंद गिरी, महंत साधनानंद, म.म.स्वामी कपिल मुनि महाराज, स्वामी शिवानंद भारती, महंत सत्यव्रतानंद, स्वामी विवेकानंद आदि संतों ने भी श्रद्धालुओं को गंगा स्वच्छता के प्रति प्रेरित किया। इस अवसर पर डा.अजय मगन, आचार्य पवनदत्त मिश्र, पंडित प्रमोद पांडे, अनुज दुबे, अनूप भारद्वाज, अंकुश शुक्ला आदि सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्त मौजूद रहे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: