November 28, 2021

Breaking News

दुनिया में तबले की हर थाप को अपने नाम कर रहे हैं दिल्ली घराना (दिल्ली बाज) के वादक सूरज निर्वाण

दुनिया में तबले की हर थाप को अपने नाम कर रहे हैं दिल्ली घराना (दिल्ली बाज) के वादक सूरज निर्वाण

शास्त्रीय संगीत के नए उस्ताद का नया सुर


तबला को पुनः दिल्ली शैली से रूबरू कराने का जिम्माज उठा रहे हैं सूरज निर्वान


नई दिल्ली: भारतीय शास्त्रीय संगीत पुरे विश्व में प्रसिद्ध है। प्रसिद्ध तबला और दिल्ली घराना शैली (दिल्ली बाज) के वादक स्वर्गीय पंडित सुभाष निर्वान के पुत्र सूरज निर्वान का मानना है कि भारतीय शास्त्रीय संगीत के इस सच्चे सार को दुनिया भर में प्रचारित किया जाना चाहिए। सूरज को भरोसा है कि वह श्रोताओं की आत्मा को शुद्ध कर सकता है और उन्हें क्षणिक आंतरिक शांति प्रदान कर सकता है। अपनी अनूठी वादन शैली के माध्यम से इसे केवल तकनीकी रचनात्मकता बनाने के अलावा, अपनी सुरीली धुनों के साथ, इस क्षेत्र में एक बड़ा बदलाव ला सकते हैं। उनकी परिपक्वता, रागिनी, और भावपूर्ण ध्यान प्रदर्शन ने इतनी कम उम्र में दुनिया भर में अपनी पहचान बनाई है।

सूरज न केवल सटीक बोलों को निष्पादित करने के अपने बेजोड़ कौशल के साथ श्रोताओं को आकर्षित करने का हुनर रखते हैं, बल्कि जादुई रूप से गहन तानवाला बनाने के लिए उनके वादन में बहुत कुछ करते हैं, जो आज के तबला वादन की तेज शैली में लगभग खत्म, हो गया है।


उनका कहना है कि दिल्ली घराना सभी तबला घरानों में सबसे पुराना है। यहाँ की शैली को लोकप्रिय रूप से “दो अंगलियनों का बाज” (दो अंगुलियों की शैली) के रूप में जाना जाता है। सूरज निर्वाण इस क़ीमती तबला वादन कला में अपार दक्षता रखते हैं और इसे बजाने की एक अनूठी शैली विकसित की है। वादन में उनकी प्रवीणता और बायां और दायां के बीच संतुलन बनाए रखने का स्तर बेजोड़ है। जटिल स्याही और किनार के बोलों से लेकर निर्दोष ‘धिर-धिर’ तक और असाधारण रूप से सामंजस्यपूर्ण उपज बनाकर पारंपरिक “क़ायदा” का विस्तार करना उनकी कला में उनके चरित्र का एक आदर्श प्रतिबिंब है। हाल ही में, सूरज को पंडित जसराज संस्थान द्वारा आयोजित “मेवाती संगीत मार्तंड पर्व” उत्सव में दिल्ली घराना तबला की मनमोहक धुनों में दर्शकों को मन्त्रमुग्ध करने का मौका मिला।

Read Also  India logs 9,119 COVID cases, over 10,000 recoveries in 24 hrs; active cases at 539-day low of 1.09 lakh


सूरज ने संगीत और ललित कला विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय में तबला संकाय के पद पर भी काम किया है। इसके अलावा, वह अन्य प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों जैसे कला आश्रम, श्री राम भारतीय कला केंद्र, और अन्य में संकाय का हिस्सा थे। वर्तमान में, सूरज निर्वान ढाका, बांग्लादेश में शिक्षक-सह-कलाकार के रूप में तैनात हैं। उन्हें तबला सिखाने और प्रचार करने के लिए आईसीसीआर की ओर से यह असाधारण अवसर दिया गया है। विश्व स्तर पर हमारे पारंपरिक भारतीय शास्त्रीय संगीत की सुंदरता को बढ़ाने की दृष्टि के साथ, सूरज हर दिन नए मील के पत्थर स्थापित कर रहे हैं।


उनका मानना है की आज के ज़माने में तबला बजाकर जीविका चला पाना बेहद कठिन है। शास्त्रीय संगीत के कॉन्सर्ट्स होते हैं, परंतु अधिक फ़ीस नहीं मिलने से कई कलाकारों का मनोबल टूट जाता है। इसलिए बहुत से तबला वादक घराने से शिक्षित होते हुए भी, शास्त्रीय संगीत को कम, बल्कि फ़िल्मी या सुगम संगीत में संगत करके अपना गुज़र बसर कर रहे हैं। तबला में अत्यधिक प्रतिस्पर्धा के कारण कई लोग ऐसे भी हैं जो दूसरे पेशे को चुनना ही उचित समझते हैं।

Read Also  Indore became the cleanest city in the country for the fifth time in a row


तबला के दिल्ली घराने की परम्परा को आगे बढाते हुए अपने उत्तरदायित्व को पूरी निष्ठा से निभा रहे हैं। देश विदेश के अनेक मंचों पर प्रस्तुति तथा तबला के विद्यार्थियों को पुनः दिल्ली शैली से रूबरू कराने का जिम्मार भी उनके उस्ता द ने उन्हेंर ही सौंप रखा है। यह ज़िम्मेदारी उन्हें उनके स्वर्गीय पिता पंडित सुभाष निर्वान और वर्तमान में उनके गुरु पंडित मनमोहन और उस्ताद ग़ुलाम हैदर, जो के दिल्ली घराने के ख़लीफ़ा भी हैं, ने दी है।


सूरज निर्वाण बताते हैं की लाक्डाउन से पूरा कला जगत प्रभावित हुआ, ऐसे में हमने कई कलाकारों को अपनी संस्था ‘पंडित सुभाष निर्वान फ़ाउंडेशन’ के द्वारा ऑनलाइन न केवल मंच प्रदान किया बल्कि आर्थिक सहायता भी की।

Read Also  मूनाकोट, पिथौरागढ़ में केन्द्रीय रक्षा मंत्री एवं मुख्यमंत्री ने किया शहीद सम्मान यात्रा का शुभारम्भ

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: