समरजहां हत्याकांड: तो किसी अपने ने ही दी थी सुपारी, पुलिस के हाथ लगा शूटर | Doonited.India

May 27, 2019

Breaking News

समरजहां हत्याकांड: तो किसी अपने ने ही दी थी सुपारी, पुलिस के हाथ लगा शूटर

समरजहां हत्याकांड: तो किसी अपने ने ही दी थी सुपारी, पुलिस के हाथ लगा शूटर
Photo Credit To twnews
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

समरजहां की हत्या दवा कारोबारी की पत्नी के इशारे पर होने का शक लगभग पुख्ता हो गया है। इसमें उसके बेटे की भी संलिप्तता बताई जा रही है। समर पर गोलियां बरसाने वाले शूटर को देहरादून पुलिस ने मुजफ्फरनगर से हिरासत में ले लिया है, जिसे लेकर पुलिस देर रात दून पहुंच गई।

सूत्रों की मानें तो शूटर ने कबूल कर लिया है कि हत्या के लिए उसे दो लाख रुपये मिले थे। शूटर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर का शागिर्द है। वारदात को अंजाम देने में प्रयुक्त कार और असलहे को भी पुलिस ने बरामद कर लिया है। देहरादून पुलिस ने समर जहां हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने के आखिरी पड़ाव पर है। सूत्रों की मानें तो दवा कारोबारी राकेश गुप्ता की पत्नी ने पूछताछ में यह बात स्वीकार कर ली है कि हत्याकांड की साजिश उनकी मर्जी से ही रची गई। उसने उस शूटर का नाम भी बता दिया, जिसने समर जहां पर गोलियां बरसाई थीं। शूटर को मुजफ्फरनगर से हिरासत में ले लिया गया। शूटर की पहचान मोबीन के रूप में हुई है।

उसने पुलिस को बताया कि उसे मर्डर के लिए दो लाख रुपये मिल चुके हैं। हालांकि अभी यह साफ नहीं हो सका है कि सुपारी दो लाख रुपये दी गई थी, या यह रकम एडवांस के तौर पर दी गई थी। मोबीन पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुख्यात गैंगस्टर का शागिर्द है और दवा कारोबारी की पत्नी गैंगस्टर की रिश्तेदारी में आती है। बता दें, पुलिस हत्याकांड के अगले ही दिन से मुजफ्फरनगर में रह रही कारोबारी की पत्नी और उसके बेटों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी थी। समर जहां दवा कारोबारी के साथ लिव-इन-रिलेशनशिप में रहती थी।

इस बात से राकेश की पत्नी और उसके दो बेटों और बेटी को आपत्ति थी। बात तब और बिगड़ गई, जब देहरादून में खोले गए रेस्टोरेंट पर भी समर हक जताने लगी। राकेश ने विवाद से बचने के लिए बेटे के लिए रेस्टोरेंट और समर के लिए बुटीक खुलवा दिया। उसका सोचना था कि दोनों का काम अलग रहेगा तो किसी को दिक्कत नहीं होगी। इधर कुछ दिनों से समर रेस्टोरेंट में आती और गल्ले से रुपये निकाल कर चल देती। कार्तिक टोकता था तो समर उसे उल्टा-सीधा बोल देती थी। यह बात पूरे परिवार को नागवार गुजरी। समर की हत्या में सफेद रंग की कार का इस्तेमाल किया गया था। यह बात अन्य सीसीटीवी फुटेज से साफ हो गई है।

दून पुलिस ने साफ कर दिया है कि अब तक की जांच में एक ही शूटर के शामिल होने की बात सामने आई है। जिस कार से हत्याकांड को अंजाम दिया गया है, उसे भी बरामद कर लिया गया है। अभी तक यह आशंका जताई जा रही थी कि हत्या के वक्त दो या इससे अधिक बदमाश कार में थे, लेकिन फुटेज में सिर्फ एक ही दिख रहा है। सहस्रधारा रोड स्थित पैसिफिक गोल्फ सिटी के पास मंगलवार रात को समर जहां उर्फ रेहाना (23) को कार सवार हमलावर ने गोलियों से भून दिया था। उस पर कुल पांच गोलियां दागी गई थीं, लेकिन उसे तीन गोलियां लगी थीं। इसके बाद भी समर पांच सौ मीटर तक भागती रही और अपने बुटीक के पास आकर गिर पड़ी। वारदात के समय राकेश गुप्ता और उसका बेटा कार्तिक बुटीक के पास स्थित माउंट ग्रिल रेस्टोरेंट में बैठे थे। चीख-पुकार सुन दोनों बाहर आए तो समर को खून से लथपथ देखा, उसे कार में डालकर मैक्स अस्पताल को निकले, लेकिन समर ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

मुजफ्फरनगर निवासी शमरजहां (23) का करीब चार साल पहले पति से तलाक से हो चुका है। देहरादून आकर वह वह राकेश गुप्ता नाम के व्यक्ति के साथ लिव-इन-रिलेशनशिप में रह रही थी। समर की हत्या की प्लानिंग कुछ इस तरह से तैयार की गई कि सीधे-सीधे परिवार के लोगों की मिलीभगत नजर न आए। मंगलवार रात जब समरजहां की देहरादून में हत्या की गई तो उस समय दवा कारोबारी पिता-पुत्र तो रेस्टोरेंट में ही थे, जबकि एक पुत्र और दवा कारोबारी की पत्नी की लोकेशन संजय मार्ग नई मंडी थाना क्षेत्र मुजफ्फरनगर में रही।

देहरादून की एसएसपी निवेदिता कुकरेती के मुताबिक, समर हत्याकांड की गुत्थी सुलझने की करीब है। दवा कारोबारी की पत्नी और उसके बेटे से पूछताछ चल रही है। हत्याकांड में शामिल शूटर की पहचान कर ली गई और वारदात में प्रयुक्त कार की लोकेशन भी ट्रेस हो गई है। असलहे की बरामदगी का प्रयास किया जा रहा है।

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: