डब्ल्यूआईसी ने मनाया रस्किन बांड के कार्यों का जश्नDoonited News + Positive News
Breaking News

डब्ल्यूआईसी ने मनाया रस्किन बांड के कार्यों का जश्न

डब्ल्यूआईसी ने मनाया रस्किन बांड के कार्यों का जश्न
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

देहरादून:  डब्लयूआईसी इंडिया देहरादून रुपा प्रकाशन और एलेफ बुक कंपनी के सहयोग से, देश के सबसे प्रिय लेखक, रस्किन बॉन्ड के कार्य की सराहना करते हुए उसका एक जश्न मनाया गया। इस दौरान रस्किन बॉंड भी मुुख्य रूप से मौजूद रहे और उन्होंने वहां मौजूद सभी लोगों के साथ अपने लेखन काल के कई अनुभव साझा किए। सत्र की मध्यस्थता नाजिया यूसुफ इजुद्दीन, संस्थापक अध्यक्ष डब्ल्यू आईसी द्वारा की गई।

 

कार्यक्रम की मध्यस्थता करते हुए नाजिया ने बताया कि रस्किन बॉंड ने अपना पहला उपन्यास द रूम ऑन द रूफ लिखा था, जब वह सत्रह वर्ष के थे। इस उपन्यास ने जॉन लेवेलिन रोड मेमोरियल पुरस्कार 1957 में जीता थ। तब से उन्होंने कई उपन्यास, 500 से अधिक लघु कथाएँ, साथ ही विभिन्न निबंध और कविताएँ लिखी हैं, जिनमें से सभी ने उन्हें समकालीन भारत के सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले और सबसे प्रशंसित लेखक के रूप में स्थापित किया है। 1992 में, रस्किन बॉन्ड को उनके लघु कथा संग्रह, “अवर ट्रीज स्टिल ग्रो इन देहरा” के लिए, साहित्य अकादमी, भारत के राष्ट्रीय पत्र अकादमी द्वारा भारत में साहित्य लेखन के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला। बाल साहित्य में उनके योगदान के लिए ”उन्हें 1999 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस मौके पर रस्किन बॉड द्वारा उनके एक नॉवल का भी विमोचन किय गया।

कार्यक्रम के दौरान रस्किन बॉंड ने अपने विभिन्न नॉवल्स के बारे में बात की उनको किस नॉवल को लिखने के लिए कहां से प्रेरणा मिला, क्या क्या उनके अनुभव रहे। इस दौरान मौजूद लोगों ने भी उनके कई सवाल जवाब किए और रस्किन उनका बहुत सरहजता से जवाब देते दिखे। इस अवसर पर कार्यक्रम की संचालक हैड ऑॅफ प्रोग्रैम्स मनीषा डोगरा ने सभी का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूआईसी ने अपनी सांस्कृतिक और साहित्यिक कार्यक्रमों के माध्यम से पूरे देश और यहां तक घ्घ्कि अंतर्राष्ट्रीय प्लेटफार्मों पर भी इस तरह की गतिविधियों के लिए मार्ग प्रशस्त किया है। भारत के सबसे बड़े पुस्तक प्रकाशकों और वितरकों में से एक, और कार्यक्रम के सहयोगी, रूपा प्रकाशन ने कॉलेज स्ट्रीट, कोलकाता से अस्सी से अधिक साल पहले अपनी अभूतपूर्व यात्रा शुरू की थी।

जैसा कि कंपनी बढ़ी है, इसने भारतीय प्रकाशन के नियमों को पुनर्परिभाषित किया है, जो कल्पना और गैर-कल्पना दोनों में सबसे रोमांचक प्रतिभा को ढूंढना और बढ़ावा देना है। दूसरी ओर, एलेफ बुक कंपनी एक स्वतंत्र भारतीय प्रकाशन कंपनी है, जिसकी स्थापना मई 2011 में डेविड डेविडर ने रूपा पब्लिकेशन्स इंडिया के आर.के.मेहरा और कपीश मेहरा के साथ मिलकर की थी। एलेफ भारत और अन्य दक्षिण एशियाई देशों से (और लगभग) साहित्यिक गुणवत्ता की स्थायी पुस्तकों का प्रकाशन करता है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

%d bloggers like this: