30 सितम्बर को पदभार ग्रहण करेंगे वायु सेना प्रमुख आर के एस भदौरिया | Doonited.India

October 16, 2019

Breaking News

30 सितम्बर को पदभार ग्रहण करेंगे वायु सेना प्रमुख आर के एस भदौरिया

30 सितम्बर को पदभार ग्रहण करेंगे वायु सेना प्रमुख आर के एस भदौरिया
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

वायु सेना उप प्रमुख एयर मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया को वायु सेना का नया प्रमुख नियुक्त किया गया है। वह वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ का स्थान लेंगे जो इस महीने के अंत में सेवा निवृत हो रहे हैं।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ए भारत भूषण बाबू ने बताया कि सरकार ने एयर मार्शल भदौरिया को नया वायु सेना प्रमुख नियुक्त किया है। वह 30 सितम्बर को पदभार ग्रहण करेंगे।

वह गत मई में ही एयर मार्शल अनिल खोसला के स्थान पर वायु सेना उप प्रमुख बनाये गये थे। एयर मार्शल भदौरिया को 15 जून 1980 में वायु सेना की लड़ाकू विंग में कमीशन मिला था। मेरिट में सर्वोच्च स्थान पर रहने के लिए उन्हें ‘स्वोर्ड ऑफ ऑनर’ प्रदान किया गया था। उन्हें 4000 घंटे से भी अधिक की उडान का अनुभव है और वह अब तक 26 तरह के लड़ाकू विमान उडा चुके हैं। लगभग 40 वर्ष के कैरियर में विभिन्न महत्वपूर्ण और संचालन तथा प्रशासनिक पदों पर रहे हैं। एयर मार्शल भदौरिया फ्रांस से खरीदे जाने वाले राफेल लड़ाकू विमान के सौदे के लिए बातचीत करने वाली टीम के अध्यक्ष भी रहे हैं।

एयर मार्शल भदौरिया दक्षिण पश्चिम के महत्वपूर्ण सेक्टर में जगुआर लड़ाकू विमान के स्क्वैड्रन के कमांडर और विभिन्न उडान परीक्षकण केन्द्रों के निदेशक भी रहे हैं। देश में ही बने स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस के उडान परीक्षण केन्द्र की कमान भी वह संभाल चुके हैं। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के कमांडेंट के अलाव वह रूस की राजधानी मास्को में एयर अताची भी रह चुके हैं। विभिन्न अभियानों में उल्लेखनीय सेवा के लिए उन्हें अतिविशिष्ट और परमविशिष्ट पदकों से सम्मानित किया जा चुका है। एयर मार्शल भदौरिया को भी इसी महीने के अंत में सेवा निवृत होना था लेकिन सरकार ने उन्हें नये सेना प्रमुख की जिम्मेदारी सौंप कर बड़ी भूमिका दी है।

36 राफेल लड़ाकू विमान की खरीद की डील में भदौरिया भी थे टीम में

फ्रांस के साथ हाल में हुई 36 राफेल लड़ाकू विमान की खरीद की डील में आरकेएस भदौरिया भारतीय टीम का हिस्सा भी थे। राफेल डील को लेकर चल रहे विवाद पर फरवरी में भदौरिया ने भी बयान जारी किया था। उन्होंने कहा था कि ये डील सबसे बातचीत के बाद हुई थी।

इस डील को लेकर किसी में असमहति नहीं थी। उन्होंने यह बयान उन दावों के जवाब में दिया था, जिसमें कहा गया था कि डील के दौरान रक्षा मंत्रालय के कुछ अधिकारियों ने इस पर आपत्ति जताई थी।

26 अलग-अलग तरह के विमान उड़ाने का अनुभव

भदौरिया को 26 अलग-अलग तरह के विमान उड़ाने का अनुभव हैं। आपको बता दें कि अपने 36 साल लंबे करियर में भदौरिया कई मेडल से सम्मनित किए जा चुके हैं। इनमें अति विशिष्ठ सेवा मेडल (जनवरी 2013) और परम विशिष्ठ सेवा मेडल (2018) शामिल है।

भदौरिया राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र हैं

एयर मार्शल भदौरिया राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र हैं। एयर मार्शल भदौरिया ने बांग्लादेश के कमांड एंड स्टाफ कॉलेज से रक्षा अध्ययन में परास्नातक किया है। एयर मार्शल ने वायु सेना में कई अहम पदों पर सेवा दी है। एयर मार्शल भदौरिया रूस में भारतीय दूतावास में ‘एयर अताशे’ भी रहे हैं। वायु सेना का उप प्रमुख बनने से पहले वह प्रशिक्षण कमांड के एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ’ थे। उप वायु सेना प्रमुख को उनके करियर के दौरान परम विशिष्ट सेवा मेडल, अति विशिष्ट सेवा मेडल और वायु विशिष्ट सेवा मेडल से नवाजा गया है। एयर मार्शल खोसला सोमवार को सेवानिवृत्त हुए हैं। उन्होंने चार दशक तक वायुसेना में सेवा दी है।

भदौरिया को अपने करियर में परम विशिष्ट सेवा मेडल, अति विशिष्ट सेवा मेडल और वायु सेना मेडल से सम्मानित किया जा चुका है. वायु सेना प्रमुख धनोआ को पाकिस्तान के एफ-16 को मार गिराने वाले विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान के साथ मिग-21 से उड़ान भरते हुए देखा गया था. तब धनोआ ने कहा था कि यह उनके करियर में मिग-21 से उनकी आखिरी उड़ान है.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : agency

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: