दून घाटी काॅलेज आॅफ प्रोफेशनल एजूकेशन में जनजागरूकता व्याख्यान आयोजित | Doonited.India

December 14, 2018

Breaking News

दून घाटी काॅलेज आॅफ प्रोफेशनल एजूकेशन में जनजागरूकता व्याख्यान आयोजित

दून घाटी काॅलेज आॅफ प्रोफेशनल एजूकेशन में जनजागरूकता व्याख्यान आयोजित
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

देहरादून:  संजय आर्थोपीडिक स्पाइन एवं मैटरनिटी सेन्टर, जाखन देहरादून के गिनीज एवं लिम्का रिकार्ड होल्डर, आॅर्थोपीडिक एवं स्पाइन सर्जन डाॅ. बी. के. एस. संजय द्वारा दून घाटी काॅलेज आॅफ प्रोफेशनल एजूकेशन डोईवाला, देहरादून के विद्याार्थियों को सड़क दुर्घटनाओं से होने वाले दुष्परिणामों को वीडियो के माध्यम से दिखाया तथा विद्याार्थियों से अपील की कि वह अपने एवं जनहित में सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करे और देश की प्रगति में अपना योगदान.

 

कार्यक्रम में दून घाटी काॅलेज आॅफ प्रोफेशनल एजूकेशन के चेयरमैन बीरेन्द्र सिंह चैहान, प्रचार्य डाॅ. ललित मोहन शर्मा, आचार्य कुलदीप, दीपिका चैहान, एस.पी. भट्ट, डाॅ. भावेन्द्र चन्द्र, श्याम मोहन रस्तोगी, शिल्पा नेगी, सोहन सिंह रावत, अभिषेक, सोनिया रावत, पिंकी जोशी, आरजू, सुमिता आदि मौजूद रहे। डाॅ. बी. के. एस. संजय ने बताया कि देश के आंकड़ों के अनुसार देश में लगभग पाँच लाख से ज्यादा सड़क दुर्घटनाऐं होती है, जिसमें डेढ़ लाख लोगों की मौतें होती है। लेकिन मेरा मानना है कि यदि हम देश की पुलिस, चिकित्सीय एवं सामाजिक व्यवस्था का अच्छी तरह से आंकलन करें, सड़क दुर्घटनाओं की संख्या इससे भी ज्यादा हो सकती है। मेरा मानना है कि सड़क दुर्घटनाओं की संख्या एवं दुर्घटनाओं से होने वाले मौतों की संख्या ने देश में एक महामारी का रूप धारण कर लिया है।

डाॅ. संजय ने कहा यदि मैं अपने चालीस साल के अनुभव की बात करें तो उससे पता चलता है कि जाने कितने बच्चे अनाथ हो जाते है और कितनी नव विवाहिताऐं विधवा हो जाती हैं। और कितने ही माँ-बाप बेसहारा हो रहे है। देखने को तो लगता है कि दुर्घटना में किसी एक युवक या युवती की मौत हुई है या फिर दुर्घटना के कारण अपाहिज हो गये है लेकिन सोचने की बात यह है कि हमारा पूरा समाज किसी न किसी   ढं़ग से एक दूसरे से जुड़ा हुआ है। इन दुर्घटनाओं को कम करने के लिए डाॅ. संजय ने एक मूहिम छेड़ रखी है। जो कि दून घाटी काॅलेज आॅफ प्रोफेशनल एजूकेशन, डोईवाला वाला देहरादून में दिया गया व्याख्यान इसी मूहिम का एक हिस्सा है। इस व्याख्यान के माध्यम से डाॅ. बी.के.एस. संजय ने सड़क दुर्घटनाओं के दुष्परिणामों को दिखाया और बताया कि इन सड़क दुर्घटनाओं  सेे हम कैसे बच सकते हैं।

यदि हम सब मिलकर प्रयास करें तो इनको काफी हद तक नियंत्रित कर सकते है। यदि हम यातायात के नियमों को सीखें एवं माने और हमारी सरकारें यातायात के नियमों को सिखाऐं एवं इन नियमों का पालन करायें तो भविष्य में इस महामारी से हमें कुछ हद तक नियंत्रित कर सकते है और आशा करते हैं कि भविष्य में इस से हमें मुक्ति मिल सकती है। नहीं तो हमारे समाज की युवा पीढ़ी का भविष्य तो अंधकारमय तो होगा ही पर इनके खो जाने के बाद हम सब का भी। इसी मुहिम के तहत पिछले स्कूलों की भाँति यह पर भी उपस्थित अध्यापकगणों एवं युवा छात्र-छात्राओं को भी सड़क सुरक्षा यातायात के नियमों को पालन करने की शपथ ली।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

Leave a Comment

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: