‘हमें एक दर्द उठा है जो किसी दवा से कम नहीं हो सकता, किसी भी हकीम के पास इसका इलाज नहीं’ | Doonited.India

July 21, 2019

Breaking News

‘हमें एक दर्द उठा है जो किसी दवा से कम नहीं हो सकता, किसी भी हकीम के पास इसका इलाज नहीं’

‘हमें एक दर्द उठा है जो किसी दवा से कम नहीं हो सकता, किसी भी हकीम के पास इसका इलाज नहीं’
Photo Credit To Agencies
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

अब मेरे साथ रहने का तुम्हे कोई हक़ नहीं, मुझे फर्क नहीं पड़ता तुम जियो या मरो.

अब कहने को कुछ बाकी नहीं रहा. तुम्हारी इस जानलेवा चुप्पी ने मुझे परेशान कर दिया.

माशूका की कथित बेवफ़ाई पर लिखी ये पंक्तियां किसी शायर या कवि ने नहीं लिखी हैं. इन्हें लिखा है दुबई के शासक शेख़ मोहम्मद अल मक़तूम ने, जिनकी पत्नी राजुकमारी हया बिंत अल हुसैन दुबई छोड़कर लंदन चली गई हैं.

संयुक्त अरब अमीरात के शाही परिवार में ऐसा होना अपने आप में बेहद अजीब है.

बताया जा रहा है कि राजकुमारी फ़िलहाल सेट्रल लंदन के किसी टाउनहाउस में हैं. राजुकमारी हया अक्सर घुड़दौड़ में हिस्सा लिया करती थीं लेकिन वो इस साल हुए रॉयल एस्कॉट से ग़ैरहाज़िर रहीं.

कुछ सूत्रों ने बीबीसी को बताया है कि राजकुमारी हया को अपनी जान का ख़तरा महसूस हो रहा था क्योंकि वो अपने पति के ख़िलाफ़ क़ानूनी लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रही थीं.

किस देश से आती हैं राजकुमारी हया?

राजकुमारी हया का जन्म मई 1974 में हुआ है. उनके पिता जॉर्डन के किंग हुसैन थे जबकि मां महारानी आलिया अल-हुसैन थीं.

जब राजकुमारी हया सिर्फ़ तीन साल की थीं तब एक हेलिकॉप्टर दुर्घटना में उनकी मां की मौत हो गई थी.

राजकुमारी हया ने अपना बचपन ब्रिटेन में बिताया. उन्होंने दो प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाई पूरी की. इनमें ब्रिस्टल का बैडमिंटन स्कूल और डोरसेट का ब्रयानस्टन स्कूल शामिल हैं.

इसके बाद उन्होंने ऑक्सफ़र्ड यूनिवर्सिटी से राजनीति, दर्शन और अर्थशास्त्र में पढ़ाई की.

अपने कुछ पुराने इंटरव्यू में उन्होंने बताया था उन्हें फै़लकोनरी (बाज़ को पालना) शूटिंग और बड़ी मशीनों का शौक है. इसके अलावा उन्होंने दावा किया था कि जॉर्डन में बड़े ट्रक चलाने का लाइसेंस पाने वाली वो एकमात्र महिला थीं.

राजकुमारी हया को घुड़सवारी का भी शौक है और जब वो 20 साल की थीं तो उन्होंने घुड़सवारी को अपने करियर के तौर पर चुना था.

घुड़सवारी में राजकुमारी हया ने साल 2000 के ओलंपिक खेलों में जॉर्डन का प्रतिनिधित्व भी किया था, वो उस ओलंपिक खेलों में अपने देश की ध्वजवाहक भी थीं.

राजकुमारी हया जब 19 साल की थी तब वो प्रोफ़ेशनल घुड़सवार बन गई थीं.

 

 

‘मैं ख़ुशनसीब हूं कि उनके क़रीब हूं’

10 अप्रैल 2004 को राजकुमारी हया ने दुबई के शासक और संयुक्त अरब अमीरात के उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री शेख़ मोहम्मद के साथ निकाह किया. उस समय राजकुमारी की उम्र 30 साल थी जबकि शेख़ मोहम्मद 53 साल के थे.

राजकुमारी हया उनकी छठीं पत्नी थीं. बताया जाता है कि शेख मोहम्मद के अलग-अलग पत्नियों से कुल 23 बच्चे हैं.

राजकुमारी की तरह शेख मोहम्मद को भी घोड़ों का शौक था. वो घोड़ों के अस्तबल गो-डोल्फिन के मालिक़ भी थे. इन दोनों की शादी अम्मान में हुई थी.

शादी के बाद राजकुमारी हया ने कई बार शेख मोहम्मद के साथ अपने रिश्तों के बारे में बताया कि वो बहुत ख़ुश हैं. दोनों ने अपनी ख़ुशहाल ज़िंदगी को दर्शाने वाली पेंटिंग भी बनवाई.

अमीरात वुमेन मैगज़ीन के 2016 के अंक में राजकुमारी हया ने शेख मोहम्मद के बारे में कहा था, ”वो जो कुछ भी करते हैं तो अद्भुत होता है. मैं हर रोज़ ऊपर वाले का शुक्रिया अदा करती हूं कि मैं उनके इतना क़रीब हूं.”

इसी मैगज़ीन में राजकुमारी हया और शेख़ मोहम्मद को एक परफेक्ट जोड़े को तौर पर पेश करते हुए भी आर्टिकल प्रकाशित किया गया था राजकुमारी हया शेख़ मोहम्मद के साथ.

क्यों आई रिश्ते में दरार?

पिछले साल जब शेख मोहम्मद की एक बेटी शेख़ा लतीफ़ा ने देश से भागने की कोशिश की तो राजकुमारी हया और शेख मोहम्मद के बीच भी दरार पैदा हो गई.

दुनिया भर में एक वीडियो फैल गया था जिसमें 33 साल की राजकुमारी शेख़ा लतीफ़ा दावा कर रही थीं कि उनके परिवार में किसी को आज़ादी से अपनी पसंद चुनने का अधिकार नहीं है.

मीडिया रिपोर्टों में बताया गया कि शेख़ा लतीफ़ा समुद्र के रास्ते संयुक्त अरब अमीरात से भागने में कामयाब रहीं. इसमें उनकी मदद फ़्रांस के एक आदमी ने की. लेकिन भारत की समुद्री सीमा के पास सेना के लोगों ने उन्हें रोक लिया और दोबारा दुबई भेज दिया.

दिसंबर में उनकी कुछ तस्वीरें जारी हुईं जिसमें वो अमीरात में आयरलैंड के पूर्व राष्ट्रपति मैरी रोबिनसन के साथ बैठी हुई दिख रही थीं.

उस समय दुबई के प्रशासन ने कहा था कि घर छोड़कर भागी शेख़ा लतीफ़ा दूसरे देश में उत्पीड़न की शिकार हो सकती थीं और अब वो दुबई में सुरक्षित हैं.

बताया जाता है कि इस घटना के बाद राजकुमारी हया को इस संबंध में कई नई बातें पता चलीं और उनके पति ने उन पर दबाव बढ़ाना शुरू कर दिया.

राजकुमारी हया के क़रीबी सूत्रों ने बीबीसी को बताया है कि इस पूरे घटनाक्रम के बाद शेख़ लतीफ़ा पर भी दबाव पड़ने लगा था. राजकुमारी हया ब्रिटेन पहुंचने से पहले जर्मनी भी गई थीं.

 

तलाक़ की तैयारी

शेख मोहम्मद ने अभी तक राजकुमारी हया के दुबई छोड़ने पर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है. उन्होंने 10 जून को इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट डाली थी, जिसमें उन्होंने ‘फ़रेब और धोखेबाज़ी’ पर कविता लिखी थी.

इतना ही नहीं शेख मोहम्मद की अपने नाम से एक पूरी वेबसाइट है. जिसमें वो अक़्सर कविताएं लिखते रहते हैं.

टाइम्स ऑफ़ लंदन की एक रिपोर्ट बताती है कि राजकुमारी हया के साथ उनके 11 और सात साल के दो बच्चे भी दुबई से भाग गए हैं. इन बच्चों का नाम शेख़ ज़ायद और शेख़ा अल जलिला बताया गया है.

यह रिपोर्ट बताती है कि राजकुमारी हया अपने दोनों बच्चों के साथ केनसिंगटन पैलेस के नज़दीक किसी हवेली में रह रही हैं, जिसकी कीमत करीब 107 मिलियन डॉलर है.

शाही परिवार के एक क़रीबी ने बताया है कि राजकुमारी हया ब्रिटेन में राजनीतिक शरण लेने की कोशिश कर रही हैं. साथ ही वो शेख मोहम्मद से तलाक़ लेने की अर्जी भी दायर करने वाली हैं.

हालांकि यूएई के शाही परिवारों महिलाओं को तलाक़ मिलना आसान काम नहीं है क्योंकि किसी भी शादी के साथ दो देशों के राजनीतिक और कूटनीतिक संबंध भी जुड़े होते हैं. राजकुमारी हया जोर्डन के किंग अबदुल्लाह द्वितीय की सौतेली बहन हैं.

राजकुमारी हया को शेख़ मोहम्मद से तलाक़ मिलेगा या वो भी लौटकर दुबई आ जाएंगी यह तो वक़्त ही बताएगा. लेकिन फिलहाल शेख मोहम्मद लगातार गमज़दा कविताएं लिख रहे हैं.

उन्होंने अपनी हाल की एक पोस्ट में लिखा है,

हमें एक दर्द उठा है जो किसी दवा से कम नहीं हो सकता,

किसी भी हकीम के पास इसका इलाज नहीं.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : bbc.com/hindi

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: