मोदी- शी जिनपिंग से की द्विपक्षीय मुलाकात | Doonited.India

July 18, 2019

Breaking News

मोदी- शी जिनपिंग से की द्विपक्षीय मुलाकात

मोदी- शी जिनपिंग से की द्विपक्षीय मुलाकात
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

एससीओ सम्मेलन से पहले पीएम मोदी ने बिश्केक में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से द्विपक्षीय मुलाकात की। इस मुलाकात में आपसी हित के तमाम मसलों पर बात हुई। पीएम ने भारत और चीन रणनीतिक, विकास और सामंजस्य को बढ़ाने की ओर चलने की उम्मीद जतायी। साथ ही भारत ने चीन से कहा कि पाक आतंक पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा, उसे कडे कदम उठाने की जरुरत।

किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में दो दिवसीय यात्रा पर पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने आज गुरूवार को द्विपक्षीय मुलाक़ातें की। उन्होंने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ अहम बैठक की। राष्ट्रपति जिनपिंग के साथ सकारात्मक माहौल में हुई बातचीत में व्यापार घाटा, सीमा विवाद जैसे मुद्दों के अलावा पाकिस्तान का मुद्दा भी उठा.. प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग को भारत आमंत्रित किया है..इसी साल दोनों नेताओं के बीच एक बार फिर अनौपचारिक बैठक होगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने बिश्केक में शंघाई सहयोग संगठन से अलग सबसे पहले अपनी आधिकारिक द्विपक्षीय मुलाक़ात चीन के राष्ट्रपति शी से मुलाक़ात की। प्रधानमंत्री मोदी पिछले साल अप्रैल 27 और 28 को हुई अनौपचारिक वुहान शिखर सम्मेलन का ज़िक्र किया। उन्होने कहा कि दोनों देशों के बीच रणनीतिक क्षेत्र में वुहान बैठक ने सकारात्मक भूमिका निभाई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग को भारत आने का न्यौता दिया। वुहान सम्मेलन के बाद ये दोनों नेताओं के बीच दूसरा अनौपचारिक शिखर सम्मेलन होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने उम्मीद जताई की दोनों देश रणनीतिक, विकास और सामंजस्य को बढ़ाने की ओर तेज़ी से बढ़ेंगे। उन्होने राष्ट्रपति शी को जन्मदिन की बधाई दी।

मोदी-जिनपिंग की मुलाक़ात में व्यापार घाटे को लेकर दोनों ही देशों ने बढ़ाए क़दम इसके अलावा शी जिनपिंग ने व्यापार, कृषि उत्पादों जैसे बासमती चावल और फर्मास्युटिकल जैसे भारतीय उत्पादों को आयात करने के नियमों को सरल करने के दिए संकेत भी दिए।

प्रधानमंत्री मोदी ने भारतीय उत्पादों की चीन के बाज़ारों में पहुंच बढ़ने की जताई उम्मीद। साथ ही साल 2020 में दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों के 70 साल भी पूरे होंगे। ऐसे में दोनों ही देश 35-35 कार्यक्रमों का आयोजन करेंगे।

रणनीतिक संबंधों को रफ़्तार देते हुए दोनों नेताओं ने सीमा निर्धारण मामलों को सुलझाने पर ज़ोर दिया। इसके अलावा भारत-चीन की इस मुलाक़ात में पाकिस्तान से संबंधित मुद्दों पर भी दोनों ही नेताओं ने बातचीत की।

भारत में हुए 17 वीं लोकसभा चुनाव और दोबारा प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के बाद प्रधानमंत्री मोदी और शी जिनपिंग की ये पहली मुलाक़ात रही। लेकिन पिछले एक साल में दोनों नेताओं के बीच बहुपक्षीय सम्मेलनों के इतर भी अहम बैठकें हुईं हैं। चीन के अलावा प्रधानमंत्री मोदी की दूसरी अहम द्विपक्षीय मुलाक़ात रूस के राष्ट्रपति ब्लादमिर पुतिन के साथ रही। प्रधानमंत्री ने कहा कि रूस के साथ भारत के संबंध मज़बूत रहे हैं और रूस भारत का एक भरोसेमंद साथी रहा है। उन्होने विश्वास जताया की दोनों ही देश विकास और सहयोग के इस अटूट संबंध को नए आयाम देंगे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : AGENCIES

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: