पी चिदंबरम पर कसा शिकंजा 26 अगस्त तक सीबीआई की रिमांड पर | Doonited.India

September 17, 2019

Breaking News

पी चिदंबरम पर कसा शिकंजा 26 अगस्त तक सीबीआई की रिमांड पर

पी चिदंबरम पर कसा शिकंजा 26 अगस्त तक सीबीआई की रिमांड पर
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

INX मीडिया मामले में चिदंबरम को राहत नहीं, CBI को मिली 26 अगस्त तक की कस्टडी…कल गिरफ्तारी के बाद पी चिदंबरम को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया। सीबीआई की तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत में दलील पेश की। तुषार मेहता ने अदालत से कहा कि किसी व्यक्ति का चुप रहना उसका अधिकार है, लेकिन जानबूझकर सवालों को टालना गलत है। सीबीआई इन पांच दिनों में पी. चिदंबरम को अन्य गवाहों और मामले से जुड़े लोगों से मिलवाएगी.

आईएनएक्स मीडिया मामले में बुधवार को लंबे ड्रामे के बाद सीबीआई के शिकंजे में आए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को अगले 4 दिन सीबीआई की हिरासत में रहना होगा । चिदंबरम को गुरुवार को दिल्ली की राउज एवन्यू कोर्ट में पेश किया गया । अदालत ने सीबीआई और चिदंबरम के वकील की जिरह को डेढ़ घंटे से अधिक समय तक सुना। दोनों पक्षों की बहस के बाद अदालत ने चिदंबरम को 4 दिन की हिरासत में भेजने का फैसला सुनाया ।

इससे पहले सीबीआई ने चिदंबरम को   विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ के समक्ष पेश कर उनकी पांच दिनों की हिरासत मांगी। मामले में सीबीआई का प्रतिनिधित्व कर रहे सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता भी अदालत में मौजूद थे ।

मेहता ने अदालत से कहा  कि चिदबंरम जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि वह अपने जवाब में टाल-मटोल कर रहे हैं और गंभीर अपराध किया गया है। मेहता ने कहा कि यह  मनी लांड्रिंग का एक गंभीर और बड़ा मामला है।  उन्होंने कहा कि किसी चीज के एवज में फायदा पहुंचाए जाने को उजागर करने के लिए चिदंबरम को हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरूरत है। उनका दस्तावेजों से आमाना-सामना कराये जाने की जरूरत है। मेहता ने दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले का भी जिक्र किया, जिसमें चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज की गई है। उन्होंने इसमें की गई टिप्पणियों का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि इस मामले में अब तक आरोपपत्र दाखिल नहीं किया गया है और यह आरोपपत्र दाखिल करने से पहले का चरण है। उन्होंने कहा, ”इसलिए, हमें सामग्री की जरूरत है जो चिदंबरम के पास है। उन्होंने दलील दीकि हिरासत में पूछताछ किये जाने पर प्रभावी जांच हो पाना संभव होगा। मेहता ने दलील दी कि आरोपी की गंभीर, सक्रिय और ज्ञात भूमिका रही है और धन का लेनदेन किया गया तथा जांच की जरूरत है। चिदंबरम के वकीलों ने पूछताछ के लिए हिरासत में सौंपे जाने के सीबीआई के अनुरोध का अदालत में इस आधार पर विरोध किया कि चिदंबरम के बेटे कार्ति सहित अन्य सभी आरोपी को मामले में जमानत दी गई थी। उन्होंने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री के देश से बाहर जाने की आशंका नहीं है।

इससे पहले बुधवार रात चिदंबरम को जोरबाग स्थित उनके आवास से  गिरफ्तार किया गया था। सीबीआई के अधिकारियों की टीम दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ जोर बाग स्थित चिदंबरम के आवास पर पहुंची। कुछ देर मुख्य दरवाजा खटखटाने के बाद अधिकारियों ने परिसर की दीवार फांदकर घर में प्रवेश किया और बाद में गिरफ्तार कर लिया।

पी चिदंबरम पर नियमों का उल्लंघन कर आईएनएक्स मीडिया को विदेशी निवेश की अनुमति दिलवाने का आरोप है ।  ईडी का आरोप है कि आईएनएक्स मीडिया ने नियम क़ानूनों का उल्लंघन करते हुए 4.6 करोड़ रुपये के बदले 305 करोड़ रुपए का निवेश ले लिया आयकर विभाग के दखल के बाद  आईएनएक्स मीडिया ने चिदंबरम के बेटे कार्ति को मामले की जांच रफा दफा करने के लिए कथित तौर पर रिश्वत दी सीबीआई का आरोप है कि कार्ती चिदंबरम ने एफ़आईपीबी के आला अफ़सरों को प्रभावित किया ।  आईएनएक्स मीडिया की निदेशक इंद्राणी मुखर्जी ने सीबीआई को बताया था कि कार्ती की कंपनी ने उनसे रिश्वत की माँग की थी । इंद्राणी मुखर्जी इस मामले में सरकारी गवाह बन चुकी हैं  । पी चिदंबरम उस समय देश के वित्त मंत्री थे और एफआईपीबी उनके अधीन था । सीबीआई ने मई 2017 में दर्ज किया जबकि ईडी ने 2018 में इस संबंध में धनशोधन का मामला दर्ज किया।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : agency

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: