पाकिस्तान में कर्ज की किस्त के तहत फूटने जा रहा हैDoonited News + Positive News
Breaking News

पाकिस्तान में कर्ज की किस्त के तहत फूटने जा रहा है

पाकिस्तान में कर्ज की किस्त के तहत फूटने जा रहा है
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

पाकिस्तान के पश्चिमोत्तर में स्थित कबाइली इलाकों में केंद्रीय सत्ता के खिलाफ लोगों में पाए जाने वाले आक्रोश को प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक अलग रूप में पेश किया है। उनका कहना है कि इस क्षेत्र की अशांति के पीछे ‘बाहरी तत्वों’ का हाथ है। पाकिस्तान के पश्चिमोत्तर में स्थित यह कबाइली जिले पहले संघशासित कबाइली क्षेत्र (फाटा) का हिस्सा थे। बाद में इनका विलय खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में कर दिया गया। सिंध के सिंधी राष्ट्रवादियों व बलोचिस्तान के बलोच समुदाय की तरह ही खैबर पख्तूनख्वा में पश्तून समुदाय के लोग संघीय सरकार की नीतियों के खिलाफ आवाज उठाते रहते हैं। समुदाय का आरोप रहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के नाम पर इसके मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन किया जाता है और जबरन अपहरण और न्यायेत्तर हत्याएं होती रहती हैं।

पाकिस्तान : आईएमएफ कर्ज की किस्त के तहत फूटने जा रहा है बिजली-गैस बम

आर्थिक तबाही के कगार पर पहुंचने के बाद पाकिस्तान द्वारा अंतर्राष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) से लिए गए छह अरब डालर कर्ज की तीसरी किस्त जारी होने वाली है और इसी के साथ देश के आम लोगों की सांसें अटक गई हैं। कर्ज की शर्तो के तहत पाकिस्तानी जनता पर पहले से ही भारी आर्थिक बोझ पड़ चुका है और यह बोझ अब और गंभीर रूप लेने जा रहा है। ‘दुनिया न्यूज’ की रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि 54 करोड़ डालर की इस तीसरी किस्त की शर्त के बदले में पाकिस्तान की जनता की जेब से अरबों रुपये निकालने की कवायद शुरू हो चुकी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएमएफ द्वारा लगाई गई चार शर्तो के तहत गैस की कीमत में 214 फीसदी बढ़ोतरी हो सकती है और लगातार महंगी हो रही बिजली की मद में लोगों से चालीस अरब (पाकिस्तानी) रुपये और वसूले जाने की तैयारी हो रही है।

पाकिस्तान में कारों की बिक्री में 43 फीसदी की गिरावट

पाकिस्तान में वित्त वर्ष 2019-20 के पहले छह महीनों में कारों की बिक्री के निराशाजनक आंकड़े सामने आए हैं। इस दौरान कार की बिक्री में 43.2 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि इस दौरान केवल 59097 कारों की बिक्री हुई जबकि बीते साल इसी अवधि में 104,038 कार बिकी थीं।

इसी तरह, इस अवधि में बीते साल की समान अवधि की तुलना में ट्रक की बिक्री में 47.6 फीसदी, बसों में 31.7 फीसदी, जीपों की बिक्री में 52.5 फीसदी, पिकअप वाहनों की बिक्री में 47.6 फीसदी और टू और थ्री व्हीलर वाहनों की बिक्री में 12 फीसदी और ट्रैक्टरों की बिक्री में 38 फीसदी की कमी दर्ज की गई।

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : IANS

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: