October 19, 2021

Breaking News

एक बार फिर कांग्रेस को बगावत का डर सताने लगा

एक बार फिर कांग्रेस को बगावत का डर सताने लगा

हल्द्वानी. उत्तराखंड में 2022 के चुनावी गुणा-भाग के बीच नैनीताल ज़िले में एक बार फिर कांग्रेस को बगावत का डर सताने लगा है क्योंकि ज़िले की छह में से चार विधानसभा सीटों में बगावत के कारण पार्टी को पिछले चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था. खास बात ये है कि बगावत कर चुके कुछ चेहरे तो एक बार फिर कांग्रेस संगठन में अहम पदों में बैठकर चुनावी तैयारियों में जुटे हैं. यही नहीं, पहले बगावत का रास्ता पकड़ चुके ये नेता बातों ही बातों में अपनी ताकत का अहसास भी करा रहे हैं.

बगावती नेताओं की ताकत का अहसास कांग्रेस को भी बखूबी है क्योंकि कालाढूंगी से महेश शर्मा दो बार, लालकुआं से हरीश चंद्र दुर्गापाल एक बार और हल्द्वानी से हरेंद्र बोरा एक बार अपने बागी तेवर दिखा चुके हैं. 2007 में इंदिरा हृदयेश के खिलाफ मोहन पाठक ने बगावत करके ताल ठोकी थी. चूंकि इन सभी मौकों पर कांग्रेस प्रत्याशियों को हार का सामना करना पड़ा था इसलिए कांग्रेस इस बार काफी सतर्क है.

Read Also  संस्कृति एवं संस्कार से जोड़ती है खादीः मदन कौशिक

 

दूसरी तरफ, चूंकि पिछले चुनाव में कांग्रेस से बगावत कर चुके नेता जीत का स्वाद चख चुके हैं इसलिए बागी तेवर वाले नेताओं के हौसले बुलंद हैं. साल 2012 में लालकुआं से बगावती रहे हरीश चंद्र दुर्गापाल तो जीतने के बाद मंत्री भी बने. यही नहीं, भीमताल से राम सिंह कैड़ा 2017 में बगावत कर विधायक बन गए. ऐसे में 2022 में ये बागियों से कांग्रेस को डेंट न लगे, इसकी तैयारी पार्टी अभी से करने का दावा कर रही है.

 

Doonited Affiliated: Syndicate News Hunt

Source link

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: