नैनीताल: डीएम ने की एडीबी के कार्यों की समीक्षा | Doonited.India

October 23, 2019

Breaking News

नैनीताल: डीएम ने की एडीबी के कार्यों की समीक्षा

नैनीताल: डीएम ने की एडीबी के कार्यों की समीक्षा
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

नैनीताल:  यूयूएसडीआईपी (एडीबी) जब तक शहर की पेयजल व्यवस्थाओं को दुरस्त करने के लिए किए गए कार्यों में उत्पन्न कमियों को दूर न कर ले, तब तक एडीबी के माध्यम से जनपद में कोई भी कार्य करने की अनुमति न दी जाये। यह प्रबलब संस्तुति जिलाधिकारी सविन बंसल ने नैनीताल शहर में पेयजल व्यवस्था के लिए एडीबी द्वारा कराए गए कार्यों की जिला कार्यालय में समीक्षा करते हुए शासन से की।

 

जिलाधिकारी श्री बंसल ने उत्तराखण्ड अर्बन सेक्टर डेवलपमेंट इंवेस्टमेंट प्रोग्राम के प्रोजेक्ट मैनेजर के बैठक में न आने पर सख्त नाराजगी जाहिर की। श्री बंसल ने एडीबी द्वारा शहर में बिछाई गयी मैन राईजिंग पाईप लाईन,टंकी निर्माण, पम्प हाउस तथा जल मीटर आदि लगाने हेतु किए गए अनुबन्धों का गहनता से परीक्षण करते हुए शतप्रतिशत पेयजल मीटर न लगाये जाने पर मैसर्स चैतास लिमिटेड कम्पनी पर मीटर प्रोेजेक्ट की लागत 7.9 करोड़ रूपये पर प्रति सप्ताह की दर से 0.05 प्रतिशत पेनाल्टी माह अप्रैल 2018 से अब तक लगाने के साथ ही के भुगतान पर अग्रिम आदेशों तक रोक लगाने के निर्देश दिये।

श्री बसंल ने अभी तक शतप्रतिशत मीटर न लगने के बावजूद भी यूयूएसडीआईपी के अभियंताओं द्वारा कार्यपूर्ण प्रमाण पत्र जारी करने की उच्च स्तरीय जाॅच कराने के आदेश दिए,इस हेतु उन्होंने सचिव पेयजल, शहरी विकास तथा परियोजना निदेशक एडीबी को पत्र प्रेषित करने के आदेश जल संस्थान के अधिकारियों को दिए। श्री बंसल ने पेयजल योजना की सभी कमियों को दूर कराने के साथ ही पुरानी पेयजल लाईनों को पूर्णतः बन्द करते हुए शतप्रतिशत पेयजल संयोजनों को नई लाईनों में शिफ्ट करने व मीटर लगवाने के निर्देश अधिशासी अभियंता जल संस्थान को दिए।

अधीक्षण अभियंता जल संस्थान एएस अंसारी तथा जीएम डीके मिश्रा ने बताया कि मीटर लगाने वाली संस्था द्वारा कुल 7064 मीटरों के सापेक्ष अभी तक कुल 5075 मीटर ही लगाये गये हैं जिसमें से अधिकांश मीटरों में रीडिंग ठीक नहीं आने एवं पेयजल संयोजन से अलग लगे होने की शिकायत है, मीटर रीडिंग गलत आने से उपभोक्ताओं में भी रोष व्याप्त है। जिस कारण लगभग 2800 मीटरों की ही रीडिंग का उपयोग बिल बनाने में किया जा रहा है। इसके साथ ही संस्था द्वारा 1989 मीटर और लगाये जाने भी शेष हैं। बैठक में महाप्रबन्धक जल संस्थान डीके मिश्रा, अधीक्षण अभियंता एएस अंसारी, अधिशासी अभियंता संतोष कुमार उपाध्याय, सहायक अभियंता डीएस बिष्ट, सहायक अभियंता यूयूएसडीआईपी दुर्गेश पन्त, संजय कुमार आदि मौजूद थे।
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: