करीम लाला को लेकर महाराष्ट्र की राजनीति में आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया | Doonited.India
Breaking News

करीम लाला को लेकर महाराष्ट्र की राजनीति में आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया

करीम लाला को लेकर महाराष्ट्र की राजनीति में आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

शिवसेना सांसद संजय राउत के भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी  को लेकर दिए गए बयान के बाद से महाराष्ट्र की राजनीति में आरोपों-प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया है. संजय राउत अपने बयान पर माफी मांग चुके हैं लेकिन अब करीम लाला  के परिवार का बयान सामने आया है. करीम लाला के पोते सलीम खान और एक रिश्तेदार जाहनजेब खान ने संजय राउत के बयान को लेकर जवाब दिया है. उनका कहना है कि उस जमाने में करीम लाला से कई लोग मिलते थे. इन लोगों में नेता, फिल्म जगत से जुड़े लोग सभी तरह के लोग शामिल थे.

‘कई बड़े नेता भी आते थे मिलने’
उन्होंने बताया कि करीम लाला सिर्फ इंदिरा गांधी से ही नहीं मिले वह राजीव गांधी, शरद पवार और बाला साहब ठाकरे से भी मिले हैं. उन्होंने बताया कि यह मुलाकात कभी भी मुंबई के हमारे घर में नहीं हुई है.

उन्होंने कहा कि संजय राउत के बयान को गलत तरीके से लिया जा रहा है, वो कुछ और बोल रहे हैं, पर लोगों ने उनके बयान को गलत ले लिया है. इन दोनों ने बताया कि करीम लाला की पहचान ही ऐसी थी की सारे लोग उनसे मिलने आते थे. संजय राउत ने वापस ली थी टिप्पणी

शिवसेना नेता संजय राउत ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गैंगस्टर करीम लाला से मुलाकात वाली अपनी टिप्पणी गुरुवार को वापस ले ली. राउत ने हालांकि अपना बयान वापस लेने से पहले कहा था कि मुम्बई के इतिहास की समझ ना रखने वालों ने उनके बयान को ”तोड़-मरोड़” डाला और करीम लाला पठान समुदाय का प्रतिनिधि करते थे इसलिए गांधी ने उनसे मुलाकात की थी.

कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा  और संजय निरुपम ने राउत के बयान की निंदा की और उनसे बयान वापस लेने की मांग भी की थी.फडणवीस ने लगाया था ये आरोप
पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गैंगस्टर करीम लाला से मुलाकात की शिवसेना नेता संजय राउत की टिप्पणी को लेकर उठे विवाद के बीच महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस  ने सवाल उठाया कि क्या कांग्रेस को ”मुम्बई के अंडरवर्ल्ड से पैसा मिलता था?”.

भाजपा नेता देवेन्द्र फडणवीस ने यह सवाल भी किया कि क्या (उस समय) यह राज्य में ”राजनीति के अपराधीकरण” की शुरुआत थी और क्या कांग्रेस ने मुम्बई में हमला करने वालों का ” साथ ” दिया था. भाजपा नेता ने कांग्रेस नेतृत्व से राउत के बयान पर सफाई मांगते हुए कहा कि उनकी पार्टी ऐसे ”आरोपों” पर चुप क्यों है.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : AGENCY

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: