Doonitedक्या J&K में फिर कुछ बड़ा होने वाला है?News
Breaking News

क्या J&K में फिर कुछ बड़ा होने वाला है?

क्या J&K में फिर कुछ बड़ा होने वाला है?
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

जम्मू-कश्मीर के लिए जारी दो आदेशों से वहां एकबार फिर से खलबली मच गई है। प्रदेश की सरकार ने आदेश दिया है कि घाटी के लिए दो महीने का एलपीजी सिलेंडर का स्टॉक कर लिया जाए और सुरक्षा बलों के लिए स्कूलों की इमारतें खाली रखी जाएं। इन आदेशों को लेकर गहमागहमी इसलिए बढ़ी हुई है, क्योंकि पाकिस्तान के भीतर बालाकोट में एयर स्ट्राइक से पहले और 5 अगस्त, 2019 को प्रदेश से आर्टिकल-370 हटाने से पहले भी केंद्र सरकार ने कुछ ऐसी ही तैयारियां की थी। इस समय पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ जो तनाव का माहौल बना हुआ है और उधर पाकिस्तानी कब्जे वाली कश्मीर में पाकिस्तान की सेना जिस तरह की गतिविधियां बढ़ा रहा है, इसको लेकर इन आदेशों पर कयासों का दौर शुरू हो चुका है।

दरअसल, जम्मू-कश्मीर के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के विभाग ने इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन को कश्मीर में दो महीने की एलपीजी स्टॉक सुनिश्चित करने को कहा है। हालांकि, इस आदेश में जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर किसी तरह की बाधा उत्पन्न होने की स्थिति में किल्लत न होने की दलील दी गई है। लेकिन, असल में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल जीसी मुर्मू के सलाहकार ने एक बैठक में इस तरह के दिशा-निर्देश जारी किए थे और उसी के बाद ये आदेश दिए गए हैं। सबसे बड़ी बात है कि इस आदेश को ‘मोस्ट अर्जेंट मैटर’ के रूप चिन्हित किया है, जिससे इसकी अहमियत का अंदाजा लग सकता है। वैसे सवाल ये पूछे जा रहे हैं कि इस मौसम में हाइवे के बाधित होने की इतनी ज्यादा आशंका क्यों जताई जा रही है। क्योंकि, आमतौर पर तो बर्फबारी के दौरान ये हाइवे बंद होने की आशंका रहती है। वैसे जम्मू-कश्मीर सरकार फिलहाल इस तरह के आदेश को रूटीन मामला बता रही है।

स्कूलों की इमारतें खाली करने को कहा

वहीं एक और आदेश में गांदरबल के एसपी ने जिले के कुछ स्कूलों और दूसरे शिक्षण संस्थानों को अपनी बिल्डिंगें खाली रखने को कहा है। जिन स्कूलों या शिक्षण संस्थाओं को अपनी इमारतें खाली रखने को कहा गया है उनकी संख्या 16 बताई जा रही है। इस मामले में भी इन शिक्षण संस्थानों को इस साल होने वाले पवित्र अमरनाथ यात्रा का हवाला दिया गया है और स्कूलों में सीआरपीएफ या दूसरे सुरक्षा बलों के जवानों के ठहराने की बात कही गई है। गौरतलब है कि गांदरबल करगिल से सटा हुआ इलाका है और लद्दाख की ओर जाने वाली सड़क भी यहां से गुजरती है। ऐसे में यह भी आशंका जताई जा रही है कि वो सकता है कि चीन की हरकतों के मद्देनजर यहां भी तैयारियां पुख्ता की जा रही हैं।




Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : 1 India

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: