देहरादून: सेना को मिले 306 जांबाज अफसर | Doonited.India

January 18, 2020

Breaking News

देहरादून: सेना को मिले 306 जांबाज अफसर

देहरादून: सेना को मिले 306 जांबाज अफसर
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में पासिंग आउट परेड के बाद शनिवार को भारतीय सेना को 306 जांबाज अफसर मिले। साथ ही मित्र देशों के 71 कैडेट भी अपने-अपने देशों की फौज का हिस्सा बने हैं। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने परेड की सलामी ली। पीओपी में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी मौजूद थे। इस दौरान देशभक्ति गीतों पर इन वीरों की कदम ताल देखते ही बन रही थी। कार्यक्रम में इन भावी अफसरों के परिजन भी मौजूद रहे।

कैडेटों को ओवरऑल बेस्ट परफॉर्मेंस व अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कैडेटों को ओवरऑल बेस्ट परफॉर्मेंस व अन्य उत्कृष्ट सम्मान से नवाजा। विनय विलास को स्वार्ड ऑफ ऑनर व स्वर्ण पदक प्रदान किया गया, जबकि पीकेंद्र सिंह को रजत व ध्रुव मेहला को कांस्य पदक मिला। शिवराज सिंह ने सिल्वर मेडल (टीजी) हासिल किया। भूटान के कुएंजांग वांगचुक सर्वश्रेष्ठ विदेशी कैडेट चुने गए। चीफ ऑफ आर्मी स्टॉफ बैनर केरन कंपनी को मिला। इस दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, आइएमए कमान्डेंट ले जनरल एसके झा, डिप्टी कमान्डेंट मेजर जनरल गुलाब सिंह रावत आदि सैन्य अधिकारी मौजूद थे।

स्वार्ड ऑफ ऑनर और स्वर्ण पदक से एकेडमी अंडर ऑफिसर विनय विलास गर्द को मिला। सीनियर अंडर ऑफिसर पीकेंद्र सिंह को रजत और बटालियन अंडर ऑफिसर ध्रुव मेहला कांस्य पदक से नवाजे गए। टेक्निकल ग्रेजुएट कोर्स का सिल्वर मेडल जूनियर अंडर ऑफिसर शिवराज सिंह को मिला। मित्र राष्ट्रों के सर्वश्रेष्ठ जेंटलमैन कैडेट का अवॉर्ड भूटान के कुएंजांग वांगचुक को मिला। चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ बैनर केरन कंपनी को मिला।

पासिंग आउट परेड कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद को अपनी राज्य नीति बना लिया है। पाकिस्तान ने हमारे साथ चार लड़ाइयां लड़ीं, उन्हें हर बार हार मिली। पाकिस्तान विचित्र पड़ोसी है, सुधार के रास्ते पर नहीं चल रहा है। रक्षा मंत्री ने कैडेटों को संबोधित करते हुए कहा कि आप लोग आतंक के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए तैयार रहें।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि आज आइएमए की पासिंग आउट परेड का रिव्घ्यू करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है। आज इंडियन आर्मी की गौरवशाली परंपरा की नई कड़ी को जुड़ते हुए मैं प्रत्घ्यक्ष अपनी आंखों के सामने देख रहा हूं। जब आप अपने नपे-तुले और सधे हुए कदमताल करते हुए मेरी आंखों के सामने से गुजर रहे थे तो एक सुरक्षिघ्त और सुनहरे भारत की तस्घ्वीर भी मैं देख रहा था। कहा, अपकी पूरी ड्रिल और टर्नआउट में मेहनत और लगन के साथ-साथ आपका प्रेम का असर हम साफ साफ देख रहे थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आइएमए के उत्तरी, दक्षिण व मध्य परिसर के बीच दो अंडरपास बनेंगे।


पहला अंडर पास एनएच 72 पर और दूसरा रांगडवाला रोड पर बनेगा। सुरक्षा कारणों व ट्रैफिक की दिक्कत को देखते हुए यह मांग पिछले तीन दशक से की जा रही है। वर्ष 1978 से यह समस्या बनी हुई है, पर कई बार डीपीआर बन जाने के बाद भी मामला लटका रहा। इस समस्या के निस्तारण के लिए अब दो अंडर पास बनाए जाएंगे। इसके लिए रक्षा मंत्रालय 32.33 करोड़ रुपये मुहैया कराएगा। रक्षा मंत्री ने कहा कि इससे दूनवासियों को ही नहीं पंजाब, हरियाणा, हिमाचल आदि जाने वाले लोगों को भी सुविधा मिलेगी। पीओपी में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी पहुंचे। डिप्टी कमांडेंट मेजर जनरल गुलाब सिंह रावत और कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल एसके झा ने पहले परेड की सलामी ली। इस दौरान देशभक्ति गीतों पर इन वीरों की कदम ताल देखते ही बन रही थी। इस दौरान इन भावी अफसरों के परिजन भी मौजूद रहे।

उत्तर प्रदेश के कैडेट्स सबसे ज्यादा

उत्तर प्रदेश से 56, उत्तराखंड से 19, आंध्रप्रदेश से 06, अंडमान निकोबार से 01, असम से 02 बिहार से 24, चंडीगढ़ से चार, दिल्ली से 16, गुजरात से चार, हरियाणा से 39, हिमाचल प्रदेश से 18, जम्मू कश्मीर से छह, झारखंड से चार, कर्नाटक से सात, केरल से 10, मध्यप्रदेश से 10, महाराष्ट्र से 19, मणिपुर से, मिजोरम से 01, ओडिशा से 01, पंजाब से 11, राजस्थान 21, सिक्किम से 01, तमिलनाडु से 09, तेलंगना से 05, पश्चिम बंगाल से 06 कैडेट्स पास आउट होकर भारतीय सेना के अफसर बने हैं।


भारत माता तेरी कसम तेरे रक्षक बनेंगे हम, आइएमए गीत पर कदमताल करते जेंटलमैन कैडेट ड्रिल स्क्वायर पर पहुंचे तो लगा कि विशाल सागर उमड़ आया है। एक साथ उठते कदम और गर्व से तने सीने दर्शक दीर्घा में बैठे हरेक शख्स के भीतर ऊर्जा का संचार कर रहे थे।

आज भारतीय सैन्य अकादमी (आइएमए) में अंतिम पग भरते ही 306 नौजवान भारतीय सेना का हिस्सा बन गए। इसके साथ ही 71 विदेशी कैडेट भी पास आउट हुए। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने परेड की सलामी ली।

शनिवार सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर मार्कर्स कॉल के साथ परेड का आगाज हुआ। कंपनी सार्जेट मेजर रोनिश कुमार, हर्षित मिश्रा, संजय सिंह, शिवकुमार सारंग, मंजर राय, विश्वन, सबा उमा महेश व सत्यम पंत ड्रिल स्क्वायर पर अपनी-अपनी जगह ली।

8 बजकर 50 मिनट पर एडवांस कॉल के साथ ही छाती ताने देश के भावी कर्णधार असीम हिम्मत और हौसले के साथ कदम बढ़ाते परिमल पराशर की अगुआई में परेड के लिए पहुंचे। इसके बाद परेड कमांडर विनय विलास ने ड्रिल स्क्वायर पर जगह ली। कैडेट्स के शानदार मार्चपास्ट से दर्शक दीर्घा में बैठा हर एक शख्स मंत्रमुग्ध हो गया। इधर, युवा सैन्य अधिकारी अंतिम पग भर रहे थे तो आसमान से हेलीकाप्टरों के जरिए उन पर पुष्प वर्षा हो रही थी।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : Agency

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: