चीन – कश्मीर मुद्दे पर हमारी पैनी नजर, भारत – आपसी संबंध नहीं बिगाड़ना चाहिए | Doonited.India

August 26, 2019

Breaking News

चीन – कश्मीर मुद्दे पर हमारी पैनी नजर, भारत – आपसी संबंध नहीं बिगाड़ना चाहिए

चीन – कश्मीर मुद्दे पर हमारी पैनी नजर, भारत – आपसी संबंध नहीं बिगाड़ना चाहिए
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारत ने चीन से सोमवार को कहा कि यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि किसी भी प्रकार का द्विपक्षीय मतभेद किसी विवाद में तब्दील न हो। दरअसल, भारत ने यह टिप्पणी तब की जब चीन ने कहा कि वह कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव तथा उसकी जटिलताओं पर करीब से नजर रख रहा है। साथ ही, चीन ने भारत से क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व के लिए ‘रचनात्मक भूमिका’ निभाने का आग्रह किया।

विदेश मंत्री एस जयशंकर तीन दिन की चीन यात्रा पर हैं। उन्होंने चीन के उपराष्ट्रपति वांग किशान से मुलाकात की और इसके बाद विदेश मंत्री वांग यी के साथ प्रतिनिधि स्तर की वार्ता की। वांग ने जयशंकर का स्वागत किया और इस दौरान उन्होंने अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले प्रावधानों को समाप्त करने के भारत के कदम का सीधा जिक्र नहीं किया लेकिन भारत तथा पाकिस्तान के बीच तनाव का उल्लेख किया। वांग ने कहा कि शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के पांच सिद्धांतों के आधार पर हमारे बीच पारस्परिक लाभकारी सहयोग हो सकता है। यह मूलभूत हित और हमारे लोगों के दीर्घकालिक हित में है तथा यह वैश्विक शांति और मानव प्रगति में योगदान देगा। उन्होंने कहा कि चीन और भारत दो बड़े देश हैं तथा इस नाते उनके ऊपर क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व बनाए रखने की अहम जिम्मेदारी है।

वांग ने आगे कहा कि जब बात भारत और पाकिस्तान के बीच हालिया तनाव और उससे संभावित जटिलताओं की आती है, तो हम इन घटनाक्रमों पर नजदीक से नजर रखते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि भारत भी क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व के लिए रचनात्मक भूमिका निभाएगा। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के बाद जयशंकर चीन का दौरा करने वाले पहले भारतीय मंत्री हैं। उनका यह दौरा ऐसे वक्त हो रहा है, जब भारत ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करते हुए उसे दो केंद्रशासित क्षेत्रों में बांट दिया है।

हालांकि उनका दौरा संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के भारत के फैसले से बहुत पहले तय हो चुका था। जयशंकर की यह यात्रा पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की नौ अगस्त को हुई चीन यात्रा के बाद हो रही है। विदेश मंत्री एस जयशंकर की इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य इस साल के अंत में होने वाली राष्ट्रपति शी चिनफिंग की भारत यात्रा की तैयारियों को अंतिम रूप देना है। मुलाकात के दौरान अपनी शुरुआती टिप्पणी में जयशंकर ने कहा कि जैसा कि आप जानते हैं कि भारत और चीन के बीच संबंधों का वैश्विक राजनीति में बेहद विशिष्ट स्थान है।

दो साल पहले हमारे नेता अस्ताना में एक आम सहमति पर पहुंचे थे कि ऐसे समय में जब दुनिया में पहले से अधिक अनिश्चितता है, भारत और चीन के बीच संबंध स्थिरता के परिचायक होने चाहिए। जयशंकर ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच हुई शिखर वार्ता का जिक्र करते हुए कहा कि उसे सुनिश्चित करने के लिए यह जरूरी है कि हमारे बीच अगर कोई मतभेद है तो वह विवाद में तब्दील नहीं होना चाहिए। यह बेहद संतोष की बात है कि पिछले वर्ष वुहान सम्मेलन में हमारे नेताओं के बीच बहुत गहरी, रचनात्मक और खुलकर बातचीत हुई थी।

सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने सोमवार को कहा कि विदेश मंत्री जयशंकर की यात्रा के दौरान चीन और भारत के बीच कश्मीर मुद्दे पर पर्याप्त संचार होगा। ग्लोबल टाइम्स ने एक विशेषज्ञ के हवाले से कहा, “भारत अपनी चिंताओं और योजनाओं से चीन को अवगत कराएगा। इसके साथ ही चीन अपनी बात भारत के सामने रखेगा।”

सिंघुआ विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय रणनीति संस्थान में एक शोधकर्ता किन्ग फेंग के हवाले से समाचारपत्र ने कहा, “चीन भी मुद्दे को लेकर अपने रुख को दोहराते हुए भारत के कदम पर असंतोष और आपत्ति दर्ज कराएगा। वह इस बात को रखेगा कि भारत ने क्षेत्रीय विवादों के लिए तंत्र को दरकिनार कर दिया और एकतरफा ²ष्टिकोण का सहारा लिया।”

किन्ग फेंग के अनुसार, “दक्षिण एशिया में चीन अपने दो महत्वपूर्ण पड़ोसियों के बीच मध्यस्ता का काम कर स्थिति को नियंत्रण से बाहर जाने से रोक सकता है।”

उन्होंने कहा कि शुक्रवार शाम पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी ने चीन की ‘विशेष आपातकालीन यात्रा’ की और अपने समकक्ष वांग यी को कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के विचार, स्थिति और कांउटर उपायों से अवगत कराया।

कुरेशी ने इस्लामाबाद में पत्रकारों से कहा कि संयुक्त राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में कश्मीर मुद्दे पर चीन पाकिस्तान का समर्थन करेगा।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : global times

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: