Doonitedहिमालय से शहरों में पहुंचे खंजन पक्षी News
Breaking News

हिमालय से शहरों में पहुंचे खंजन पक्षी 

हिमालय से शहरों में पहुंचे खंजन पक्षी 
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

हरिद्वार: हिमालय की उतंग शिखरों पर बर्फ पड़ने के साथ ही हिमालय के सैकड़ों प्रजाति के पक्षी उत्तर व दक्षिण भारत के मैदानी क्षेत्रों, ताल-तलैयों में प्रवास पर प्रतिवर्ष आते हैं।

 

गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के पर्यावरण विज्ञान विभाग के प्रोफेसर एवं सुप्रसिद्ध पक्षी वैज्ञानिक प्रो. दिनेश भट्ट ने बताया कि हिमालय का सुन्दर नेत्रों वाला खंजन पक्षी हरिद्वार व भारत के अन्य मैदानी क्षेत्रों में पहुंच चुके  है। कजरारी आंखों वाले खंजन की पांच-छह प्रजातियों में से तीन प्रजातियां माइग्रेटरी है जो प्रतिवर्ष, लेह-लद्दाख, कश्मीर, कुल्लू-मनाली, नीति-माणा जैसे दुर्गम पर्वतीय स्थलों से निकलकर शीत कालीन  प्रवास पर मैदानी क्षेत्रों में आती है और वसंत ऋतु में पुनः ‘प्रणय-लीला’ करने वापस अपने धाम पहुंच जाती है।

खंजन का अर्थ है आकाश में जन्म लेने वाला! यह कैसे? हमारे ऋषि हिमालय की पवित्र उंचाइयों पर रहने वाले थे। प्रकृति से उनका गहरा लगाव होता था तथा उसका पैना और गहरा अवलोकन भी उन्होंने किया। शरद ऋतु में भी वे रोज सुबह शाम प्रकृति  का आनंद लेते होंगे। तभी एक रूपहले दिन अचानक हिमालयी आकाश से हजारों की संख्या में ये प्रवासी पक्षी नीचे उतरते दिखे होंगे। ऋषियों ने इन सुंदर अतिथियों को नाम दे दिया ’खंजन!’ पक्षी-वैज्ञानिक कुछ वर्ष पूर्व तक यही मानते रहे कि साइबेरिया, रूस आदि से भारत आनेवाले प्रवासी पक्षी हिमालय की उंचाइयों को पार कर नहीं आ पाते होंगे, अतः वे हिमालय के दर्रों से ही आते होंगे। किंतु हमारे ऋषि हिमालय की उंचाइयों ‘जैसे बद्रीनाथ, केदारनाथ, अमरनाथ आदि’ में रहनेवाले थे, दर्रों में रहनेवाले नहीं। किंतु जब एवरेस्ट पर चढ़नेवाले पर्वतारोहियों ने भी यह बतलाया तब पक्षी वैज्ञानिकों ने भी मान लिया कि ये प्रवासी पक्षी हिमालय के पार उड़कर आते हैं, मात्र दर्रों से नहीं।

पक्षियों की सुरक्षा, वनों का जीवंत होना तथा जलाशयों का प्रदूषण रहित होना दृ इनमें लंबे समय तक कार्य करना पड़ता है, तब कहीं ये सुफल देते हैं। इसका एक अर्थ यह भी होता है कि यदि हम ये वांछित पुण्यकर्म न करें, तब भी इनका ‘कुफल’ हमें देर से मिलेगा। जैसा भरतपुर के पक्षी अभयारण्य में ‘ललमुख सित क्रौंच’ (‘साइबेरियन क्रेन’, ग्रुस लेउको जैरानुस’) का साइबेरिया से आगमन पिछले 12, 15 वर्षों से कम हो रहा और अब लगभग बंद ही हो गया है। एक तो, उनको अपने अफगानिस्तान पड़ाव में मानव शिकारियों से अत्यधिक क्षति होती है। दूसरे, भरतपुर की झील में पानी कम होता जा रहा है तथा गांव के ढोरडंगर अत्यधिक संख्या में अभयारण्य के मैदानों में चरने के लिए आ जाते हैं जो पक्षियों के जीवन में बाधा डालते हैं।

ये मानव जाति के दीर्घकालीन पापकर्म हैं कि ललमुख सित क्रौंचों ने भारत में प्रवासन बंद कर दिया है। डा. भट्ट ने बताया कि खंजन पक्षी को ग्रे-वैगटेल या ग्रे-खंजन के नाम से भी जाना जाता है जो अपनी लम्बी दुम, सलेटी-पीठ, तथा पीले पेट और बार-बार दुम ऊपर-नीचे गिराने व उठाने के कारण आसानी से पहिचाना जा सकता है। दुम को बार-बार ऊपर-नीचे करना सभी खंजनों की विशेषता है। उन्होंने कहा कि हिमालयी खंजन व केवल उत्तर भारत के क्षेत्रों में अपितु मुम्बई व दक्षिणी पठार के अनेक क्षेत्रों तक पहुँच जाता है और इनकी याद्दाश्त इतनी तेज होती है कि जिस क्षेत्र व बगीचों में पिछले वर्षों में आती है उसी क्षेत्र को ये प्रतिवर्ष शीत प्रवास हेतु चुनती है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: