Gazal by Mannu BhattDoonited News + Positive News
Breaking News

Gazal by Mannu Bhatt

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

चलें…

 

 

चलो  इसबार एक ऊँची उड़ान पर चलें,

चलो इस आसमान से उस आसमान पर चलें।

 

किसी ने किसी को धोखा दिया किसी ने किसी को,

कम से कम यहाँ हम तो इश्क़ के ईमान पर चलें।

 

हवा मेरा रुख बदल देना चाहती है बहुत,

मैं कहता हूँ हाथ थामें और इम्तेहान पर चलें।

 

शहर की हवाएँ जहर से कम नहीं है मानो,

चलो गाँव चलें ,अपने खेत खलिहान पर चलें।

 

इस जहान में बहुत कुछ खो चुका हूँ मैं,

जिस्म खोने के लिए चलो दूसरे जहान पर चलें।

 

चढ़ते चढ़ते कामयाबी की राह थक गए हैं पैर मेरे,

चलो अब फिर से एक बार ढलान पर चलें।

मन्नू भट्ट

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

%d bloggers like this: