रुद्रप्रयाग: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को निष्पक्ष संपन्न कराने की तैयारियों में जुटा प्रशासन  | Doonited.India

October 22, 2019

Breaking News

रुद्रप्रयाग: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को निष्पक्ष संपन्न कराने की तैयारियों में जुटा प्रशासन 

रुद्रप्रयाग: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को निष्पक्ष संपन्न कराने की तैयारियों में जुटा प्रशासन 
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

रुद्रप्रयाग:  त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन शान्तिपूर्ण व निष्पक्ष ढंग से संपंन कराने के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने विकास भवन सभागार में जोनल एवं सेक्ट्रर मजिस्टेªटों को ब्रीफिंग की। उपस्थित अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि मतदान प्रक्रिया में हर विकासखण्ड को जोन तथा सेक्ट्ररों में विभाजित करके हर सेक्ट्ररवार सेक्ट्रर मजिस्टेªट व जोन के लिये एक जोनल मजिस्टेªट नियुक्त किया गया है। उन्होंने कहा कि अपने-अपने सम्बन्धित जोनल एवं सेक्ट्रर में शान्तिपूर्ण तथा निष्पक्ष मतदान प्रक्रिया संपंन कराने में जोनल एवं सैक्टर मजिस्टेªटों का अत्यन्त महत्वपूर्ण योगदान रहता है।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने निर्देश दिये कि सभी जोनल एवं सेक्टर मजिस्टेªट उनके अन्तर्गत आने वाले मतदान केन्द्रों व मतदान स्थलों का भ्रमण कर उनके नाम, संख्या, स्थिति, मतदाताओं की संख्या की पूर्ण जानकारी होनी चाहिए। किसी भी अधिकारी व कार्मिक द्वारा किसी के घर में नहीं रुका जाएगा व ध्यान रखें कि सौ मीटर के दायरे में कोई प्रचार सामग्री न हो। उन्होंने कहा कि निर्वाचन प्रक्रिया को संपंन कराने के लिये एक टीम भावना के रूप में सभी को कार्य करना होगा। जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि किसी भी परेशानी व संशय की स्थिति में जिला निर्वाचन कार्यालय से सम्पर्क कर समस्या का समाधान करा ले।

राज्य निर्वाचन आयोग समय-समय पर जारी दिशा-निर्देशों का अध्यन कर तदनुसार ही कार्य करना सुनिश्चित करें। इस दौरान उपस्थित जोनल एवं सैक्टर मजिस्टेªटों को उनके दायित्वों व निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान अपनाये जाने वाले कार्यों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान की। इस दौरान उन्हें निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान आदर्श आचार संहिता, उम्मीदवारों के द्वारा किये जाने वाले चुनाव प्रचार, उनके द्वारा किये जाने वाली सभायें व जुलूस, मतदान दिवस के दिन उम्मीदवारों से अपेक्षा और राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा जारी विभिन्न दिशा-निर्देशों की जानकारी पावर प्वाइंट के माध्यम से दी गयी। प्रशिक्षण में समस्त अधिकारियों को मतपेटियों को खोलने व सील बन्द करने का व्यवहारिक प्रशिक्षण भी दिया गया। प्रशिक्षण में पुलिस अधीक्षक अजय सिंह,  मुख्य विकास अधिकारी सरदार सिंह चैहान, जोनल अधिकारी डॉक्टर रमेश सिंह नितवाल, बृजेश तिवारी, एन एस नगन्याल, पुलिस क्षेत्राधिकारी गणेश लाल कोहली, सेक्टर मजिस्ट्रेट योगेश जोशी, सहित समस्त जोनल एवं सेक्टर मजिस्टेªट उपस्थित थे।

सातवीं आर्थिक गणना को मिशन मोड़ में संचालित करने के लिये फुलप्रुफ मैकनिज्म करे तैयार

भारत एवं राज्य सरकार की महत्वपूर्ण सातवीं आर्थिक गणना को मिशन मोड में संचालित करने के लिये फुलप्रुफ मैकनिज्म तैयार करें, जिससे केन्द्र सरकार द्वारा नामित सीएससी के आर्थिक गणनाकारों पर पैनी नजर रखी जा सके। जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने जिला कार्यालय कक्ष में सातवीं आर्थिक गणना के अन्तर्गत सीएससी द्वारा घर-घर जाकर की जाने वाली गणना की समीक्षा कर रहे थे।

 उन्होंने कहा कि सीएससी के प्रगणक द्वारा सभी 636 गांव में क्रिया-कलापों की गणना की जाएगी और प्रगणक घर-घर पहुंचे, इसकी निगरानी के लिये ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी को ग्राम पंचायतें आवंटित करना सुनिश्चित करें, जिससे जनपद में किये जा रहे क्रिया-कलापों के शत-प्रतिशत और सही आंकड़े प्राप्त हो सकें। उन्होंने कहा कि आर्थिक गणना दिसम्बर माह तक पूर्ण की जानी है, इसलिए एक सप्ताह में टाइम लाइन प्रोग्राम तय कर ग्रामीण क्षेत्र के लिये नामित कार्मिकों को प्रेषित करें। उन्होंने कहा कि टाइम लाइन प्रोग्राम तय होते ही आर्थिक गणना में लगे सीएससी के प्रगणकों, सुपरवाईजरों एवं गांव में नामित वीएलई को मैप उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें, जिससे समय से आर्थिक गणना पूर्ण हो सके।

अर्थ एवं संख्याधिकारी एसके गिरी ने बताया कि सातवीं आर्थिक गणना के अन्तर्गत जनपद में किये जाने वाले आर्थिक क्रियाकलापों की गणना मोबाइल ‘एप’ के माध्यम से होनी है और प्रगणक घर-घर जाकर प्रत्येक परिवार के क्रियाकलापों की जानकारी उसमें दर्ज करेगा जिसकी निगरानी के लिये जीपीएस कोडिनेट फिक्स किये गये हैं। उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में नगरीय क्षेत्र तत्पश्चात ग्रामीण क्षेत्रों में दिसम्बर अंत तक गणना पूर्ण की जायेगी। उन्होंने बताया कि कृषि विभाग, सरकारी क्षेत्र को छोड़कर असंगठित क्षेत्र में चल रहे कार्यांे की गणना सम्मिलित की जायेगी। उन्होंने बताया कि नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के भवनों में हाउस नम्बर न होने पर भवनों को क्रमांक दिया जायेगा।

जिलाधिकारी ने जनपद का डाटा शतप्रतिशत सही प्राप्त करने, सीएससी कंपनी के गणनाकारों पर पैनी रखने के निर्देश दिये जिससे गणना सही हो सके। जिलाधिकारी ने प्रगणकों को प्रत्येक घर की सेल्फी लेने के निर्देश दिये जिससे प्रत्येक घर की गणना की शिनाख्त हो सके। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी सरदार सिंह चैहान, जिला पंचायत राज अधिकारी चमन सिंह राठौर, वरिष्ठ संख्याधिकारी एसएल चंद्रवाल, अपर संख्याधिकारी एसके सैनी, सीएससी से सुभाष नेगी, आशीष रावत, सहित अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: