Breaking News

सावधान! क्या आप भी हैं डायबिटीज के शिकार तो इन बीमारियों का रहेगा खतरा

सावधान! क्या आप भी हैं डायबिटीज के शिकार तो इन बीमारियों का रहेगा खतरा

आजकल अधिकतर लोगों की संख्या डायबिटीज से ग्रसित लोगों की होती है। हर तीसरा इंसान मधुमेह यानि डायबिटीज का शिकार हैं जिससे उसके स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए अपने आहार का बहुत ध्यान रखना पड़ता है।

बता दें कि डायबिटीज भी त्वचा को प्रभावित कर सकता है और त्वचा की कुछ समस्याओं का कारण बन सकता है। यदि आपको हाल ही में डायबिटीज होने का पता चला है, तो यहां हम आपको कुछ त्वचा की समस्याओं को बारे में बता रहे हैं, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए। इसके अलावा, यदि आपको डायबिटीज होने पर आपकी त्वचा को प्रभावित करने वाली इन समस्याओं में से कोई भी दिखाई देती है, तो आपको तुरंत जांच करानी चाहिए।

सामान्‍य त्‍वचा की समस्‍या (खुजली, जीवाणु या कवक संक्रमण)
त्वचा की कुछ सामान्य स्थितियां हैं जो आपको डायबिटीज न होने पर भी हो सकती हैं लेकिन डायबिटीज होने पर ये समस्‍या बहुत ही आसानी से आपको प्राप्‍त हो सकती है। इनमें स्टाइल्‍स और फोड़े जैसे बैक्टीरियल संक्रमण, रिंगवर्म जैसे फंगल इंफेक्शन, एथलीट फुट और खुजली भी शामिल हैं जो खराब रक्त परिसंचरण या सूखी त्वचा के कारण हो सकते हैं।

Read Also  Vegan Lentil soup especially in perfect for all-weather.

अकन्थोसिस निगरिकन्स-
यह रोग ज्‍यादातर उन लोगों को होता है जो बहुत ज्‍यादा मोटे होते हैं। यह ज्यादातर त्वचा की परतों में होता है। यह एक त्वचा की स्थिति है जहां भूरे रंग के उभरे हुए एरिया गर्दन, बगल या कमर की त्वचा पर दिखाई देते हैं। यह हाथ, पैर या कोहनी पर भी त्वचा को प्रभावित कर सकते हैं। वजन कम करना स्थिति को कम करने का एक तरीका है। आप अपनी त्वचा पर इसके कारण होने वाले धब्बों को कम करने के लिए भी क्रीम का उपयोग कर सकते हैं।

डायबिटिक डर्मोपैथी-
यह एक त्वचा की स्थिति है जो डार्क, पपड़ीदार पैच की तरह दिखती है जो आकार में अंडाकार या गोलाकार होते हैं, पैरों के सामने की तरफ डायबिटिक डर्मोपैथी होती है। अक्सर लोग इसे उम्र बढ़ने के संकेत समक्ष लेते हैं, डायबिटिक डर्मोपैथी एक ही डिग्री में दोनों पैरों को प्रभावित नहीं कर सकती है। डायबिटिक डर्मोपैथी काफी हानिरहित है और उसे उपचार की आवश्यकता नहीं है।

Read Also  अद्भुत गर्मियों का फल तरबूज है

नेक्रोबायोसिस लिपिडिका डायबिटिकोरम-
नेक्रोबायोसिस लिपोइडिका डायबिटिकोरम नामक त्वचा की स्थिति डायबिटिक डर्मोपैथी की तरह ही है। लेकिन इस स्थिति में चकत्‍ते कम, बड़े और गहरे हो सकते हैं। नेक्रोबायोसिस लिपिडिका डायबिटिकोरम दर्दनाक और खुजली वाला भी हो सकता है और डायबिटिक डर्मोपैथी के विपरीत पैच भी खुल सकता है।

डायबिटिक ब्लिस्‍टर-
डायबिटिक ब्लिस्‍टर या फफोले या बुलोसिस डायबिटिकोरम एक दुर्लभ स्थिति है जो डायबिटिक लोगों को प्रभावित करती है जहां फफोले में त्वचा फट जाती है। डायबिटीज के कारण होने वाले छाले ज्यादातर बड़े होते हैं लेकिन उनमें दर्द या लालिमा या सूजन नहीं होती है। वे ज्यादातर हानिरहित हैं।

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: