August 01, 2021

Breaking News
COVID 19 ALERT Middle 468×60

Delhi High Court: कभी चुनाव तो कभी कुंभ मेले होते रहे, कोरोना को बढ़ाने में सरकारें भी जिम्मेदार

Delhi High Court: कभी चुनाव तो कभी कुंभ मेले होते रहे, कोरोना को बढ़ाने में सरकारें भी जिम्मेदार

दिल्ली हाई कोर्ट  ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा है, कोरोना को बढ़ाने में सरकारें भी जिम्मेदार हैं. ये टिप्पणी दिल्ली हाई कोर्ट ने तब की जब एक वकील ने कहा कि हम सब भी इसके लिए जिम्मेदार हैं क्योंकि हमने भी सावधानी बरतनी कम कर दी थी. इस पर हाई कोर्ट ने कहा कि इसको बढ़ावा देने में सरकारें भी जिम्मेदार हैं. कभी चुनाव तो कभी कुंभ  मेले होते रहे. 

‘प्लाज्मा डोनेशन के लिए नामी हस्तियों की लें मदद’
हाई कोर्ट ने कहा कि प्लाजमा डोनेशन को बढ़ावा देने के लिए मीडिया और नामी-गिरामी हस्तियों की मदद लेनी होगी. हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा कि जाइए आप कुछ नामी-गिरामी हस्तियों के पास जाइए और उनसे देश के लिए प्लाज्मा डोनेट करने की अपील करवाइए. हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा कि आप क्रिकेटर, फिल्म स्टार और राजनीति के क्षेत्रों से जुड़े लोगों की मदद लेकर प्लाज्मा डोनेशन की मुहिम को आगे बढ़ाइए.

Read Also  Facebook and WhatsApp on Monday urged the Delhi High Court to stay the Competition Commission of India

कितने युवा चले गए, ये त्रासदी है’
जस्टिस सांघी ने कहा कि लॉकडाउन खत्म करने के लिए बहुत सतर्कता बरतनी होगी ताकि राज्य आने वाले कोरोना के नंबरों से निपट सकें. जस्टिस रेखा पल्ली ने कहा, इतने युवा इसमें चले गए हैं, ये त्रासदी है. हाई कोर्ट ने केंद्र व दिल्ली सरकार से कहा कि वे मुंबई की तरह दिल्ली में भी स्टेडियम सहित अन्य खुले स्थानों पर वैक्सीनेशन शुरू करने पर विचार करें. कोर्ट ने दोनों सरकारों से कहा कि वे इस बाबत दाखिल याचिका को बतौर प्रतिवेदन समझें और उस पर नीति व कानून के अनुसार जल्द फैसला करें.

अमनदीप अग्रवाल की याचिका पर दिए निर्देश
कोर्ट ने यह दिशा निर्देश अमनदीप अग्रवाल की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिए हैं. याचिकाकर्ता ने कहा था कि मुंबई में वैक्सीनेशन ड्राइव को स्टेडियम व अन्य खुले स्थानों पर शुरू किया गया है. इससे लोग एक दूसरे से संपर्क में नहीं आते और सामाजिक दूरी बनाने में सहायता मिलती है. याचिकाकर्ता के वकील ए.एस चंडियोक ने कहा कि लॉकडाउन व कर्फ्यू का कोई औचित्य नहीं रह जाता जब लोग वैक्सीन लगाने के लिए लाइन में एक दूसरे से मिल कर खड़े होते हैं.

Read Also  Lionel Messi: सपना 16 साल बाद पूरा हुआ

खुले स्थानों में लगे वैक्सीन
कोर्ट ने कहा कि वैक्सीन को यदि खुले स्थान में लगाने का निर्णय लिया जाता है तो इससे अस्पतालों मेडिकल स्टाफ पर भी दबाव कम होता और वे कोरोना मरीजों का उचित तरीके से इलाज कर सकेंगे. महामारी को देखते हुए सभी लोगों को जल्द से जल्द वैक्सीन लगाना जरूरी है.

Post source : Agency

Related posts

Leave a Reply

Content Protector Developer Fantastic Plugins
%d bloggers like this: