Be Positive Be Unitedउत्तराखण्ड की संस्कृतिDoonited News is Positive News
Breaking News

उत्तराखण्ड की संस्कृति

उत्तराखण्ड की संस्कृति
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.



उत्तराखण्ड, एक ऐसा भूखंड है जो प्राकृतिक स्रोतों से बहता पानी . सीढीनुमा खेत और दूर तक जाती हुई पतली पगडंडियां, प्राकृतिक सौन्दर्य तथा अपने रीति-रिवाजों के लिए जाना जाता है। यहाँ की संस्कृति, गीतसंगीत और त्योहार दूर बसे लोगों को आज भी अपनी ओर आकर्षित करती हैं।

इनमें से उत्तरांचल की मकरसंक्रांति, होली, रामलीला, ऐपण, रंगयाली पिछोड़ा, नथ, घुघूती आदि त्यौहार विशेष प्रसिद्ध हैं। यदि खान-पान की बात की जाए तो यहाँ के विशेष फल -काफल, हिशालू , किल्मौडा, पूलम हैं तथा पहाड़ी खीरा, माल्टा और नीबू का भी खासा नाम है।

ऐपण, उत्तरांचल में शुभावसरों पर बनायीं जाने वाली रंगोली को ऐपण कहते हैं। ऐपण कई तरह के डिजायनों से पूर्ण होता है। ऐपण के मुख्य डिजायन-चौखाने , चौपड़ , चाँद, सूरज , स्वास्तिक, गणेश, फूल-पत्ती, बसंत्धारे तथा पो आदि हैं। ऐपण के कुछ डिजायन अवसरों के अनुसार भी होते हैं। ऐपण बनाने के लिए गेरू तथा चावल के विस्वार का प्रयोग किया जाता है। आजकल ऐपण के रेडीमेड स्टीकर भी प्रचलन में हैं।

घुघूती उत्तरांचल का प्रसिद्द त्यौहार है। यह हर वर्ष 14-15 जनवरी को मकरसंक्रांति के दिन मनाया जाता है । यह त्यौहार बहुत ही शुभ माना जाता है, साथ ही अन्य त्योहारों की तरह धूम धाम से मनाया जाता है। इसे घुघुते का त्यौहार भी कहते है। मकरसंक्रांति के दिन शाम को घुघुते बनाये जाते है और उन्हें माला में पिरोकर बच्चों को पहनाया जाता है । अगले दिन सुबह को ये घुघुते कौऔं को खिलाये जाते है। कौऔं को बुलाने के लिए विशेष शब्दों का प्रयोग करते है।खाले खाले कौए खाले” , पूस में माघ का खाले |

ये त्यौहार सभी के लिए बहुत शुभ है क्योंकि इसी समय सूर्य दक्षिण से उत्तर में प्रवेश करते हैं। रंगयाली पिछोड़ा उत्तरांचल में विवाह के आलावा अन्य अवसरों पर पहने जाने वाली चुनरी को रंगयाली पिछोड़ा कहते है। यह संयुक्त रूप से लाल तथा पीले रंग का होता है। ऐपण की तरह इसमें भी शंख, चक्र, स्वास्तिक, घंटा, बेल-पत्ती, फूल, आदि शुभ चिन्हों का प्रयोग होता है। पहले लोग घर पर ही कपड़ा रंग कर पिछोड़ा तैयार करते थे ।

प्रचलित होने के कारण अब रंगयाली पिछोड़ा रेडीमेड भी आने लगे हैं। इन्हे और सुंदर बनाने के लिए इन पर लेस, गोटा, सितारे आदि लगाए जाते हैं। नथ उत्तरांचल के आभूषण भी अपनी पहचान बनाने में कम नही हैं। उत्तरांचल की नथ (नाक में पहने जाने वाला गहना) अपने बड़े आकार के कारण प्रसिद्द है। यह आकार में बड़े गोलाकार की होती है और इसके ऊपर मोर आकृति आदि डिजायन बनाए जाते हैं। इन डिजायनों को बनाने के लिए नगों तथा मीनाकारी का प्रयोग किया जाता है।

यूँ तो उत्तरांचल की संस्कृति को चंद लाइनों में नही समेटा जा सकता । फिर भी इन मुख्य परम्पराओं से हमें उत्तरांचल के सांस्कृतिक पहलुओं की एक झलक देखने को मिलती है। इस खूबसूरत राज्य के उत्तर में जहाँ तिब्बत है वहीँ इसके पूरब में नेपाल देश है। जबकि इसके दक्षिण में उत्तर प्रदेश और उत्तर पश्चिम में हिमाचल प्रदेश है। इस राज्य का मूल नाम उत्तरांचल था जिसे बदलकर जनवरी 2007 में उत्तराखंड कर दिया गया था। राज्य में कुल 13 जिलें हैं जिन्हें प्रमुख डिवीजनों, कुमाऊं और गढ़वाल के आधार पर बांटा गया है।



Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

%d bloggers like this: