महाबलीपुरम में ही क्यों मिलेंगे जिनपिंग-मोदी? | Doonited.India

October 22, 2019

Breaking News

महाबलीपुरम में ही क्यों मिलेंगे जिनपिंग-मोदी?

महाबलीपुरम में ही क्यों मिलेंगे जिनपिंग-मोदी?
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

अगले सप्ताह चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत आ रहे हैं. पीएम नरेंद्र मोदी उनका स्वागत तमिलनाडु के महाबलीपुरम में करेंगे. इसे माम्मलापुरम भी कहा जाता है. इसके लिए इस ऐतिहासिक तटीय शहर को जबरदस्त ढंग से सजाया जा रहा है. मोदी शी जिनपिंग को महाबलीपुरम की यात्रा करवाएंगे. दोनों के बीच 11 और 12 अक्टूबर को मुलाकात होगी. आखिर मोदी ने जिनपिंग से मुलाकात के लिए दिल्ली, मुंबई को छोड़ कर महाबलीपुरम को ही क्यों चुना?

महाबलीपुरम से चीन का गहरा रिश्ता रहा है. पुराने जमाने में महाबलीपुरम के चीन से कारोबारी रिश्ते थे. इन्हीं संबंधों की याद जिनपिंग को दिलाने के लिए पीएम मोदी ने यह मुलाकात यहां रखी है. उन दिनों यहां पल्लव वंश का शासन था.

1700 साल पुराने हैं महाबलीपुरम और चीन के संबंध

महाबलीपुरम को सातवीं सदी में पल्लव वंश के राजा नरसिंह देव बर्मन ने बसाया था. महाबलीपुरम और चीन के बीच 1700 साल पुराने संबंध रहे हैं. कहा जाता है कि चीन ने तिब्बत से लगती सीमा को सुरक्षित रखने के लिए पल्लव वंश के राजाओं के साथ समझौते किए थे.महाबलीपुरम बंगाल की खाड़ी के किनारे एक बड़ा व्यापारिक केंद्र था और यहां से चीन को सामान को निर्यात किया जाता था और वहां से आयात भी. ये संबंध एक हजार साल पहले तक कायम थे.

शी जिनपिंग के दौरे से महाबलिपुरम हेरिटेज साइट पर तैयारियां जोरों पर

पल्लव वंश के सबसे शक्तिशाली राजा थे नरसिम्हन द्वितीय. अपनी सीमा की रक्षा के लिए चीन के राजा ने उन्हें दक्षिणी चीन का जनरल नियुक्त कर दिया था. पल्लव राजा के तीसरे राजकुमार बोधिधर्म बौद्ध भिक्षु बन गए थे. चीन में उन्हें काफी मान्यता है. उन्होंने कांचीपुरम से महाबलीपुरम होते हुए चीन की यात्रा की थी.

पर्यटन मंत्रालय ने उस रूट को फिर से बनाने की बात कही है, जिस पर चलकर बोधिधर्म चीन पहुंचे थे. इस रूट के बन जाने से चीन, जापान और थाईलैंड के हजारों टूरिस्ट तमिलानाडु आ पाएंगे.इतिहासकार बताते हैं कि पल्लव वंश के साथ शुरू हुआ चीन के साथ रिश्ता चोल वंश तक चला.

जिनपिंग के स्वागत में खूब सज रहा है महाबलीपुरम

मोदी और जिनपिंग अगले सप्ताह यहां अनौपचारिक मुलाकात करेंगे. लिहाजा मंदिरों, पांच रथों, और लाइटहाउस जैसे यहां के ऐतिहासिक स्थानों को काफी सजाया जा रहा है. खास कर कृष्ण की मक्खन की गेंद को काफी सजाया जा रहा है. यह एक ढलान पर मौजूद बड़ी सी गोल चट्टान है. कहा जाता है कृष्ण ने जो मक्खन चुराया उसका एक गोला यहां गिर गया था.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : agency

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: