सचिवालय में नेशनल लिवस्टॉक मिशन के अन्तर्गत राज्य स्तरीय कार्यकारी समिति की बैठक | Doonited.India

July 21, 2019

Breaking News

सचिवालय में नेशनल लिवस्टॉक मिशन के अन्तर्गत राज्य स्तरीय कार्यकारी समिति की बैठक

सचिवालय में नेशनल लिवस्टॉक मिशन के अन्तर्गत राज्य स्तरीय कार्यकारी समिति की बैठक
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को सचिवालय में नेशनल लिवस्टॉक मिशन के अन्तर्गत राज्य स्तरीय कार्यकारी समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक के दौरान मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य में पशुपालन भी किसानों कि आय बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। इसके लिए पशुपालन में अभिनव विचारों को शामिल करते हुए नए प्रस्ताव तैयार किए जाएं।

मुख्य सचिव ने कहा कि पशुपालन में इंश्योरेंस की बढ़ती मांग को देखते हुए इसमें इंश्योरेंस को शामिल किया जाना चाहिए। उन्होंने मदर पोल्ट्री यूनिट स्थापित करते हुए, मुर्गीपालन के अन्तर्गत उत्तरा और कड़कनाथ जैसी विशिष्ट प्रजातियों को बढ़ावा दिये जाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने इसके उत्पादों को राज्य में मिड डे मील योजना से जोड़े जाने की बात भी कही।
मुख्य सचिव ने भेड़-बकरी पालन के लिए कोपरेटिव फार्मिंग को प्रोत्साहित करने के भी निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि गांव में बहुत सी खेती खाली पड़ी है जिसे किसान आपस में अनुबंध कर अपनी आमदनी को बढ़ा सकते हैं। इससे एक ओर गांव में खाली पड़ी भूमि का प्रयोग हो सकेगा, तो, वहीं दूसरी ओर किसान को इसके लिए अधिक भूमि उपलब्ध हो सकेगी। प्रोजेक्ट्स को बढ़ा सकते हैं। इसके लिए सम्बन्धित विभाग सहयोग दें ताकि किसान बड़े पैमाने पर कृषि व पशुपालन से जुड़कर अपने व अपने क्षेत्र के विकास में सहयोगी बने।

इस अवसर पर सचिव श्री आर. मीनाक्षी सुंदरम सहित सम्बन्धित विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह ने बुधवार को सचिवालय में प्रमुख सचिव लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग, अपर सचिव पर्यटन एवं जिलाधिकारी चमोली क्षेत्र में हथकरघा उद्योग को बढ़ावा देने सहित माणा गांव के पारंपरिक विकास पर चर्चा की।

मुख्य सचिव ने अधिकारियों को स्थानीय बुनकरों को उत्तम गुणवत्ता की ऊन उपलब्ध करवाने हेतु अच्छी प्रजाति की भेड़-बकरी पालन को प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऊन रिफाइन करने के लिए मशीनों को भी शीघ्र उपलब्ध कराया जाए, ताकि बुनकरों को ग्रेडेड ऊन प्राप्त हो सके। मुख्य सचिव ने बुनकरों को पारंपरिक डिजाइन के साथ ही अच्छे व नए डिजाइन उपलब्ध करवाने हेतु तकनीकी सहायता उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए। उन्होंने विभाग को स्थानीय लोगों हेतु रोजगारपरक योजनायें तैयार करने के भी निर्देश दिए।

मुख्य सचिव ने जिलाधिकारी को माणा गांव की खूबसूरती को बनाए रखने के लिए भी प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए स्थानीय लोगों से बात कर प्रस्ताव तैयार किए जाएं। उन्होंने कहा कि पर्यटन कि दृष्टि से माणा गांव बहुत ही महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की पारम्परिक भवन निर्माण कला व वास्तुकला को बचाए रखने के लिए भी प्रयास किए जाने चाहिए। इसके साथ ही, वहाँ के लोगों को रोजगार प्राप्त हो इसके लिए रोजगारपरक योजनाओं के प्रस्ताव तैयार किए जाएं। उन्होंने स्थानीय पारंपरिक परिधानों के साथ ही पारंपरिक आभूषणों को भी प्रोत्साहन देने की बात कही।

मुख्य सचिव ने कहा कि पर्यटकों को क्षेत्र से सम्बन्धित संस्कृति, भवन निर्माण कला, हस्तशिल्प कला आदि का अनुभव प्रदान के कराने के लिए एक इस प्रकार का संग्रहालय तैयार किया जाना चाहिए, जहाँ बुनकरों द्वारा प्रयोग की जाने वाली मशीनों के साथ ही वहां के पारम्परिक वास्तुकला और संस्कृति की झलक मिलती हो। जिलाधिकारी चमोली द्वारा माणा में स्थानीय लोगों को दुकानें उपलब्ध कराये जाने के प्रस्ताव पर मुख्य सचिव ने कहा कि दुकानों के निर्माण में स्थानीय वास्तुकला का विशेष ध्यान रखा जाए।

इस अवसर पर प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार एवं अपर सचिव पर्यटन सुश्री सोनिका सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी भी उपस्थित थे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : DIPR

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: