Breaking News
Poetry - कविता कुंज
  • चोरी हो जाते है सपने : अशोक कुमार शुक्ला

    क्या लिखना थायाद तो हैलेकिन कैसे लिखूं..?छुटकी का संदेशा आया है"पता नहीं क्यों..नींद नहीं आतीसारी सारी रा ...

    क्या लिखना थायाद तो हैलेकिन कैसे लिखूं..?छुटकी का संदेशा आया है"पता नहीं क्यों..नींद नहीं आतीसारी सारी रात यूँ ही आँखों में गुजर जाती हैआँख अगर लगती भी पल भर कोतो दीखते हैं अजीब अजीब से सपनेमैं क्या क ...

    Read more
  • भोटिए : राजा खुगशाल

    खेतों में पकने लगती है गेहूँ की फ़सलधीरे-धीरे गर्माने लगता है मौसमभेड़-बकरियों के अपने झुण्ड के साथभोटिए ...

    खेतों में पकने लगती है गेहूँ की फ़सलधीरे-धीरे गर्माने लगता है मौसमभेड़-बकरियों के अपने झुण्ड के साथभोटिए घर लौटते हैं पीठ पर ऊन के गट्ठर लादेनवजात मेमनों को कन्धों पर रखेवे नदी-नदी, जंगल-जंगल उत्तर की ...

    Read more
  • दो मिनट खुद को उधार दो Written By हिमांशु ।।

    दो मिनट। जो इधर उधर से फुर्सत मिले तो दो मिनट खुद को उधार दो, इतना भी नही कर सकते, तो, जिंदगी ये धिक्कार ...

    दो मिनट। जो इधर उधर से फुर्सत मिले तो दो मिनट खुद को उधार दो, इतना भी नही कर सकते, तो, जिंदगी ये धिक्कार दो, अरे! क्या तुम्हें सिहरन नही होती, क्या तुम डरते नहीं? क्या अपनो की बेबसी सुनते नही? या उनके ...

    Read more
  • रथ के पहिये थम गये हैं। मुनादी फिरा दी गयी है कि जो जहाँ हैं वही रुक जाएं। एक भयंकर जीव मानवता को निगलने ...

    रथ के पहिये थम गये हैं। मुनादी फिरा दी गयी है कि जो जहाँ हैं वही रुक जाएं। एक भयंकर जीव मानवता को निगलने निकल पड़ा है, उसके रास्ते में जो कोई आएगा, उसका काल बन जाएगा! सारे रास्ते सुनसान हो चले हैं। जि ...

    Read more
  • उसकी हस्ती में खुद को जज्ब करने की ख्वाहिशें बूंद पानी की कभी -पानी में नजर आती है ? मलिका-ऐ-हुस्न होना क ...

    उसकी हस्ती में खुद को जज्ब करने की ख्वाहिशें बूंद पानी की कभी -पानी में नजर आती है ? मलिका-ऐ-हुस्न होना काफी नहीं होता - जोशे जुनूं दिल में ,लुत्फे जुबां भी रखा करो। आहें भरीं तो ऐसी कि बदरा भी उड़ चल ...

    Read more
  • चलें… चलो  इसबार एक ऊँची उड़ान पर चलें, चलो इस आसमान से उस आसमान पर चलें।   किसी ने किसी को धोखा दिया ...

    चलें… चलो  इसबार एक ऊँची उड़ान पर चलें, चलो इस आसमान से उस आसमान पर चलें।   किसी ने किसी को धोखा दिया किसी ने किसी को, कम से कम यहाँ हम तो इश्क़ के ईमान पर चलें।   हवा मेरा रुख बदल देना चाहती ...

    Read more
  • अपणुं सी दिखेंणु छे रे, लगणुं भल सि मौ को छे – अपणुं सी दिखेंणु छे रे, लगणुं भल सि मौ को छे कां बे ऐ रे प ...

    अपणुं सी दिखेंणु छे रे, लगणुं भल सि मौ को छे – अपणुं सी दिखेंणु छे रे, लगणुं भल सि मौ को छे कां बे ऐ रे पहाड़ी भुला, के जिला के गौं को छे? के जिला के गौं को छे? गढवालि कुमौं नि हूं, ना भुला, ना भोला-भ ...

    Read more
  • करुण  कण्ठ से गाय रंभाती   सुन लो मेरी पुकार  / कान्हा  ने मुझको  अपनाया  करते तुम   इनकार // सुनो  तुम ब ...

    करुण  कण्ठ से गाय रंभाती   सुन लो मेरी पुकार  / कान्हा  ने मुझको  अपनाया  करते तुम   इनकार // सुनो  तुम बात हमारी  , कहे  तुमको  महतारी………… भारतवर्ष  में सदियों  से ही होती मेरी पूजा  / वेद  पुराणों  ...

    Read more
  • सबको चिंता देश की और है फ़िक्र देश की जनता की लेकिन फिर बदहाल देश क्यों देश की जनता रोती है क्या कोई है अफ़ ...

    सबको चिंता देश की और है फ़िक्र देश की जनता की लेकिन फिर बदहाल देश क्यों देश की जनता रोती है क्या कोई है अफ़सोस तुझे क्या शर्म आँख में रहती है ? तू बता देश की राजनीति ग़ैरत  तेरी क्या कहती है ?   गोर ...

    Read more
  • रिश्ते पुराने होते हैं, पर "मायका" पुराना नही होता। जब भी जाओ ..... अलाये-बलायें टल जाये, यह दुआयें मांगी ...

    रिश्ते पुराने होते हैं, पर "मायका" पुराना नही होता। जब भी जाओ ..... अलाये-बलायें टल जाये, यह दुआयें मांगी जाती हैं। यहां-वहां बचपन के कतरे बिखरे होते हैं, कहींहंसी,कहीं खुशी,कहीं आंसू सिमटे होते हैं। ...

    Read more
  • गरीबों में ईश्वर जिसने खोजा है। असल में वहीं करतार रहता है।।   योजनाओं का लाभ मिले उन्हें। जो असल मे ...

    गरीबों में ईश्वर जिसने खोजा है। असल में वहीं करतार रहता है।।   योजनाओं का लाभ मिले उन्हें। जो असल में हकदार रहता है।।   मेरे शहर में डेंगू ने पैर पसारे है। हर कोई अब  बीमार रहता है।।   ...

    Read more
  • ये औरतें भी न! दो मिनट की आरामदायक और  बच्चों के पसंद की ज़ायकेदार मैगी को छोड़,  किचन में गर्मी में तप कर  ...

    ये औरतें भी न! दो मिनट की आरामदायक और  बच्चों के पसंद की ज़ायकेदार मैगी को छोड़,  किचन में गर्मी में तप कर  हरी सब्ज़ियाँ बनाती फिरती हैं। बच्चे मुँह बिचकाकर  नाराज़गी दिखलाते हैं सो अलग, फिर भी बाज नहीं ...

    Read more
  • हरिवंश राय बच्चन जी की एक सुंदर कविता, जिसके एक-एक शब्द को बार-बार पढ़ने को मन करता है-_ ख्वाहिश नहीं मुझे ...

    हरिवंश राय बच्चन जी की एक सुंदर कविता, जिसके एक-एक शब्द को बार-बार पढ़ने को मन करता है-_ ख्वाहिश नहीं मुझे मशहूर होने की," आप मुझे पहचानते हो बस इतना ही काफी है। अच्छे ने अच्छा और बुरे ने बुरा जाना मुझ ...

    Read more
  • खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी...  By: सुभद्रा कुमारी चौहान

    सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी,गुमी हुई आज़ादी की कीमत ...

    सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी,गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी।चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरान ...

    Read more
  • रात-रात जो जाग कर, देती जीवन छांव । माँ, वह बरगढ प्रेम का, आंचल जिसके गांव ।।1।। सपने सारे बेच कर, गिरबी ...

    रात-रात जो जाग कर, देती जीवन छांव । माँ, वह बरगढ प्रेम का, आंचल जिसके गांव ।।1।। सपने सारे बेच कर, गिरबी रखती भाव ।10 जीवन जो परहित जिए, मां, वह शील स्वभाव ।।2।। माँ बरगद छतनार है, नेह झूलती बेल । स्व ...

    Read more
  • सूरदास जी वात्सल्य रस के सम्राट माने जाते हैं। उन्होंने श्रृंगार और शान्त रसों का भी बड़ा मर्मस्पर्शी वर् ...

    सूरदास जी वात्सल्य रस के सम्राट माने जाते हैं। उन्होंने श्रृंगार और शान्त रसों का भी बड़ा मर्मस्पर्शी वर्णन किया है। सूरदास की जन्मतिथि एवं जन्मस्थान के विषय में विद्वानों में मतभेद है। "साहित्य लहरी' ...

    Read more
  • कबीर हिंदी साहित्य के महिमामण्डित व्यक्तित्व हैं। कबीर के जन्म के संबंध में अनेक किंवदन्तियाँ हैं। कुछ लो ...

    कबीर हिंदी साहित्य के महिमामण्डित व्यक्तित्व हैं। कबीर के जन्म के संबंध में अनेक किंवदन्तियाँ हैं। कुछ लोगों के अनुसार वे रामानन्द स्वामी के आशीर्वाद से काशी की एक विधवा ब्राह्मणी के गर्भ से पैदा हुए ...

    Read more
  • Mihai Eminescu  was a Romanian Romantic poet, novelist, and journalist, generally regarded as the most fa ...

    Mihai Eminescu  was a Romanian Romantic poet, novelist, and journalist, generally regarded as the most famous and influential Romanian poet. ...

    Read more
  • Paul-Marie Verlaine was a French poet associated with the Symbolist movement and the Decadent movement. H ...

    Paul-Marie Verlaine was a French poet associated with the Symbolist movement and the Decadent movement. He is considered one of the greatest ... ...

    Read more
  • Georg Philipp Friedrich Freiherr von Hardenberg (2 May 1772 – 25 March 1801), better known by his pen nam ...

    Georg Philipp Friedrich Freiherr von Hardenberg (2 May 1772 – 25 March 1801), better known by his pen name Novalis, was an 18th-century German aristocrat, poet, author, mystic and philosopher of Early ...

    Read more
  • Hermann Karl Hesse ( 2 July 1877 – 9 August 1962) was a German-born Swiss poet, novelist, and painter. Hi ...

    Hermann Karl Hesse ( 2 July 1877 – 9 August 1962) was a German-born Swiss poet, novelist, and painter. His best-known works include Demian, Steppenwolf, Siddhartha, and The Glass Bead Game, each of wh ...

    Read more
  • कितना मतलबी है जमाना, नज़र उठा कर तो देख कोंन कितना है तेरे क़रीब, नज़र उठा कर तो देख न कर यक़ीं सब पर, ये दु ...

    कितना मतलबी है जमाना, नज़र उठा कर तो देख कोंन कितना है तेरे क़रीब, नज़र उठा कर तो देख न कर यक़ीं सब पर, ये दुनिया बड़ी ख़राब है दोस्त, आग घर में लगाता है कोंन, नज़र उठा कर तो देख भला आदमी के गिरने में, कहाँ  ...

    Read more