Breaking News

प्रिवेंटिव मैस्टेकटोमी ब्रैस्ट कैंसर का निदान By Sadhna Shah

प्रिवेंटिव मैस्टेकटोमी ब्रैस्ट कैंसर का निदान By Sadhna Shah

मैस्टेकटोमी कराने का फैसला निसंदेह कठिन है पर यदि स्तन कैंसर होने की प्रबल संभावना हो तो यह इस से बचने का सुरक्षित विकल्प है…

अभी हाल ही में सोशल नैटवर्किंग साइट में हौलीवुड अभिनेत्री एंजेलिना जोली के एक पोस्ट ने उन के चाहने वालों के बीच हलचल मचा दी. अपने पोस्ट में एंजेलिना ने अपने बच्चों के भविष्य को देखते हुए स्वेच्छा से अपने स्तन को निकलवा देने यानी मैस्टेकटोमी करवा लेने का एलान किया.
बहरहाल, सोशल नैटवर्किंग साइट में इस एलान के कुछ दिनों बाद उन्होंने न्यूयार्क टाइम्स में ‘माई मैडिकल चौइस’ शीर्षक से एक लेख में लिखा कि उन्होंने हाल ही में खून में बीआरसीए-1 जिन, जो स्तन कैंसर के लिए जिम्मेदार माना जाता है, की उपस्थिति की जांच करवाई थी. इस जांच से पता चला कि इस जिन की उपस्थिति उन के खून में है. जांच रिपोर्ट में कयास लगाया गया था कि निकट भविष्य में स्तन और बच्चेदानी में कैंसर की आशंका है.

हालांकि जांच में 87% स्तन कैंसर की और 50% बच्चेदानी में कैंसर की आशंका व्यक्त की थी, लेकिन स्तन कैंसर की आशंका 87% थी, इसीलिए उन्होंने सब से पहले प्रिवेंटिव मैस्टेकटोमी का रास्ता चुना और इस के तहत उन्होंने अपने दोनों स्तन सर्जरी के माध्यम से कटवा कर निकलवा दिया.
इतना कठिन फैसला लेने के बावजूद एंजेलिना जोली के आत्मविश्वास में जरा भी कमी नहीं आई. उलटे उन्होंने लिखा है कि इस से नारीत्व पर जरा भी असर नहीं पड़ेगा. हालांकि लेख में उन्होंने यह भी लिखा है कि जांच में कैंसर की संभावना ने उन्हें बहुत विचलित कर दिया था, क्योंकि 2007 में स्तन कैंसर ने महज 56 साल की उम्र में उन की मां को छीन लिया था. अपनी मां को उन्होंने तड़पते हुए देखा था. वे खुद उस दौर से गुजरने को कतई तैयार नहीं थीं, इसीलिए उन्होंने मैस्टेकटोमी का फैसला लेना कहीं बेहतर समझा.

और भी हैं इस राह के राही

पर तथ्य बताते हैं कि प्रिवेंटिव मैस्टेकटोमी का रास्ता अकेले एंजेलिना जोली ने नहीं अपनाया है, बल्कि अमेरिका में ऐसे बहुत सारे मामले देखने को मिल जाएंगे. खून में बीआरसीए-1 जिन जांच का नतीजा पौजिटिव पाए जाने के बाद अमेरिका में कैंसर पीडि़त होने की संभावना वाली 30% महिलाएं मैस्टेकटोमी का रुख अपनाती हैं.

डाक्टरी परिभाषा में इसे प्रिवेंटिव मैस्टेकटोमी का नाम दिया गया है और अमेरिका सहित यूरोप में इस की बहुत सारी मिसालें मिल जाएंगी. जाहिर है इस तरह के फैसले की घोषणा करने वाली अकेली एंजेलिना नहीं हैं.

Read Also  अगर आप शारीरिक कमजोरी के शिकार हैं चबा लें तो 4 लौंग

1974 में अमेरिका की फर्स्ट लेडी बेट्टी फोर्ड ने भी यही किया था. बेट्टी फोर्ड अमेरिका के राष्ट्रपति रहे जेराल्ड फोर्ड की पत्नी हैं.
2007 में लास एंजिल्स टाइम्स की एक महिला पत्रकार ऐन गरमैन ने भी अपने कौलम ‘फर्स्ट पर्सन अकाउंट’ में अपने मैस्टेकटोमी की खबर को आम किया था.

कैंसर का प्रकोप

आजकल दुनिया भर में स्तन कैंसर का प्रकोप दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है. आंकड़े बताते हैं कि इस समय हमारे देश में स्तन कैंसर पीडि़त महिलाओं की संख्या 4 लाख से भी अधिक है. अकेले प. बंगाल में इस समय लगभग 50 हजार महिलाएं इस की शिकार हैं. चिंता का विषय यह है कि पूरे देश में हर साल कम से कम डेढ़ लाख महिलाएं स्तन कैंसर की शिकार होती हैं.

कोलकाता में विजया मुखर्जी नाम की एक महिला, जो लगभग 30 साल पहले 44 साल की उम्र में स्तन कैंसर की शिकार हो गई थीं, बताती हैं कि कैंसर से पीडि़त होने की बात मेरे लिए पहला झटका थी. सुनते ही मेरे मन में पति और अपने दोनों बच्चों का खयाल आया. दूसरा झटका तब लगा कि जब डाक्टर ने कैंसर की भयावहता के बारे में बताया.

मुझ से कहा गया कि जल्द ही कैंसर शरीर के अन्य हिस्सों को भी प्रभावित करने जा रहा है और इसे रोकने के लिए मैस्टेकटोमी ही एकमात्र रास्ता है. फिर मेरा औपरेशन हुआ. मैं बहुत मायूस थी, लेकिन शारीरिक तौर पर कुछ खास फर्क का पता नहीं चला. लेकिन कुछ दिनों के बाद जब घर लौटने लगी तब लगा सैकड़ों नजरें मुझे भीतर तक बींध रही हैं. मुझे लगा कि लोगों की नजरों से बचने के लिए मैं अपनेआप को कहीं छिपा लूं. मैं ने पूरी दुनिया से अपनेआप को अलग कर लिया.

आज विजया मुखर्जी ‘हितैषणी’ नामक एक एनजीओ चलाती हैं. इस के बारे में वे कहती हैं कि 1995 में स्तन कैंसर से पीडि़त और मैस्टेकटोमी करवाने वाली महिलाओं का एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन हुआ था. इस सम्मेलन में वे भी शामिल हुई थीं. सम्मेलन के अनुभव को काम में लगा कर उन्होंने ‘हितैषणी’ संस्था की स्थापना की, जिस का मकसद स्तन कैंसर से पीडि़त महिलाओं को मानसिक तौर पर मजबूती देना है. शुरूशुरू में संस्था के सदस्यों की संख्या महज 5-6 थी, लेकिन आज 57 सदस्य हैं. विजया मुखर्जी की संस्था स्तन कैंसर पीडि़तों का हर तरह से सहयोग करती है.

Read Also  Multi-Moisturizing Help Revive Your Skin

डाक्टर की राय

आइए जानें कि प्रिवेंटिव मैस्टेकटोमी के मुद्दे पर डाक्टर क्या कहते हैं. कोलकाता के जानेमाने एंकोलौजिस्ट डा. गौतम मुखर्जी का कहना है कि एंजेलिना जोली ने साहस भरा कदम उठाया है, यह कहना ही पड़ेगा. लेकिन एक कैंसर विशेषज्ञ के रूप में मैं एंजेलिना जोली के इस कदम का समर्थन नहीं करता, क्योंकि कैंसर के मरीज के लिए यह सब से आखिरी विकल्प होता है. जबकि एंजेलिना जोली ने इस विकल्प का इस्तेमाल तब किया, जब जांच में सिर्फ ऐसी संभावना जताई गई थी.

वैसे भी विदेश में प्रिवेंटिव मैस्टेकटोमी का केवल चलन ही नहीं है, बल्कि यह चलन मास हिस्टीरिया का रूप ले चुका है. इस से दुनिया के अन्य देशों में भी इस चलन के बढ़ने की आशंका प्रबल होती जाएगी.

एंजेलिना जोली का फौर्मूला मान कर चलें तो गाल ब्लैडर में पथरी की आशंका होते ही गाल ब्लैडर काट कर फेंक दिया जाना चाहिए. इसी तरह एपेंडिसाइटिस की आशंका होते ही एपेंडिक्स निकलवा दिया जाना चाहिए. बीआरएसी-1 और बीआरएसी-2 नामक जांचों का प्रचार इसलिए किया जा रहा है ताकि कैंसर होने की संभावना का पता चल सके. लेकिन इन की रिपोर्ट पौजिटिव आने का अर्थ यह कतई नहीं कि देरसवेर कैंसर का शिकार होना ही है. इन दोनों जिन की उपस्थिति से सिर्फ कैंसर की आशंका की जा सकती है. डाक्टर तो फैमिली हिस्ट्री, लाइफस्टाइल के अलावा अन्य किसी बीमारी से पीडि़त होने जैसे कई फैक्टर्स पर विचार करने के बाद ही खून की बहुत ही महंगी जांच करवाने की सलाह देते हैं.

देह सौंदर्य बनाम जीवन

स्तन कैंसर के प्रति जागरूकता अच्छी बात है. इस आधार पर महिलाओं को खुद अपनी जांच करनी चाहिए या 40 की उम्र के बाद साल में एक बार डाक्टर की सलाह पर मेमोग्राफी, सीटी स्कैन, बायोप्सी जैसी कुछ जांचें नियमित रूप से करवानी चाहिए. अगर कैंसर हो भी गया है तो रेडियोथेरैपी, कीमोथेरैपी, हारमोन थेरैपी के बाद ही मैस्टेकटोमी आखिरी विकल्प है. हालांकि डा. गौतम मुखर्जी का यह भी कहना है कि स्तन कैंसर के 90% मामलों में मैस्टेकटोमी का सहारा लिया जाता है, केवल 10% मामलों में ब्रैस्ट कंजरवेटिव सर्जरी काम आती है. इस के लिए सरकारी अस्पताल में खर्च क्व10 हजार आता है तो निजी अस्पतालों में क्व30-50 हजार और यह सर्जरी कोई भी सर्जन कर सकता है.

Read Also  कोरोना वायरस से बचाव के लिए बुजुर्गों का रखें ख्याल

पर इस से भी बड़ी बात यह है कि केवल आशंका भर से इतना बड़ा कदम उठाए जाने का समर्थन नहीं किया जा सकता है. डा. गौतम मुखर्जी कहते हैं कि स्तन सर्जरी के बाद हारमोन थेरैपी की जरूरत पड़ती है, ताकि विशेष तरह के हारमोन की कमी का असर शरीर पर न पड़े. साथ ही वे यह भी कहते हैं कि मैस्टेकटोमी के बाद गर्भधारण में कोई समस्या नहीं आती है. पर हां, स्तनपान संभव नहीं है. इसलिए बच्चा स्तनपान से वंचित रहेगा, क्योंकि स्तन के अभाव में दूध नहीं बनेगा.

नारी सौंदर्य का सवाल

पर जहां तक नारी सौंदर्य का सवाल है तो इस के लिए ब्रैस्ट रिकंस्ट्रक्शन तकनीक यानी कृत्रित स्तन का विकल्प है और यह काम कौस्मैटिक सर्जन बखूबी कर सकता है. इस बारे में जानेमाने कौस्मैटिक सर्जन मनोज खन्ना का कहना है कि जहां तक ब्रैस्ट रिकंस्ट्रक्शन तकनीक की सफलता का सवाल है, तो यह बहुत कुछ इंप्लांट मैटीरियल पर निर्भर करता है. दरअसल, ब्रैस्ट रिकंस्ट्रक्शन के लिए सिलिकौन इंप्लांट, जैल इंप्लांट और स्लाइन इंप्लांट औल्टरनेटिव कंपोजिशन इंप्लांट तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है. इस का खर्च भी मैटीरियल के आधार पर आता है.

बहरहाल, जहां तक नारी देह के सौंदर्य का सवाल है तो कैंसर पीडि़त स्तन को काट कर अलग कर देना किसी खूबसूरत ढांचे को ढहा देने जैसा हो सकता है. और अगर कैंसर की संभावना के आधार पर मैस्टेकटोमी का रास्ता अपनाया जाए तो भारतीय दर्शन में इसे देह वैराग्य से जोड़ कर देखा जा सकता है.
लेकिन एंजेलिना जोली का मामला तसलीमा नसरीन के नजरिए में नारी का अपने शरीर पर अपना नियंत्रण जैसा है. उन का कहना है कि हरेक महिला को एंजेलिना जोली की तरह खून में कैंसर पैदा करने वाले जिन की जांच करवा कर मैस्टेकटोमी के जरीए अपने शरीर का नियंत्रण अपने हाथों में रखना चाहिए, क्योंकि नारी सौंदर्य की तुलना में जीवन कहीं अधिक बड़ा और महत्त्वपूर्ण है.

Post source : Sadhna Shah

Related posts

Leave a Reply

%d bloggers like this: