हरिद्वार: बॉलीवुड के गीतकार समीर करेंगे हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल उद्घाटन | Doonited.India

January 20, 2020

Breaking News

हरिद्वार: बॉलीवुड के गीतकार समीर करेंगे हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल उद्घाटन

हरिद्वार: बॉलीवुड के गीतकार समीर करेंगे हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल उद्घाटन
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

हरिद्वार: तीन दिवसीय हरिद्वार लिटरेचर 10 से जनवरी से आरम्भ होगा। प्रतिवर्ष गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय और अन्तरू प्रवाह सोसायटी के संयुक्त तत्वाधान में यह साहित्य महोत्सव का आयोजन किया जाता है. हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल में देश भर से कवि, कलाकार, रंगकर्मी और विभिन्न कला माध्यमों से जुड़े कलाकर्मी एवं साहित्यकार सम्मलित होंगे। 10 जनवरी  को हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल का उद्घाटन सत्र होगा।

बॉलीवुड के सुप्रसिद्ध गीतकार समीर लिटरेचर फेस्टिवल के उद्घाटन स्तर के मुख्य अतिथि रहेंगे। नेपाल के प्रसिद्ध कवि और लेखक बसंत चैधरी भी लिटरेचर फेस्टिवल का हिस्सा बनेंगेद्य उनके रचना संसार पर एक विशेष संवाद सत्र का आयोजन किया जाएगा। तीन दिन तक चलने वाले हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल में थिएटर, गजल, दास्तानगोई, संस्कृत कविता, हिन्दी कविता और भारत-नेपाल साहित्य के अन्तर्सम्बंध पर विशेष संवाद सत्रों का आयोजन किया जाएगा।

हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल में नेपाल से साहित्यकारों का एक प्रतिनिधि मण्डल  शामिल होगाद्य युवा प्रतिभाओं को इस आयोजनके माध्यम से एक प्रभावी मंच मिलेगा। अकादमिक जगत में होने वाला अपने किस्म का अनूठा आयोजन होगा जिसमें अकादमिक दुनिया और विभिन्न कला और साहित्य की विधाओं के मध्य एक संवाद सेतु का निर्माण किया जाएगा।

हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल के डायरेक्टर प्रो. श्रवण कुमार शर्मा ने बताया कि मनुष्य के जीवन में उत्सवधर्मिता के माध्म से कला, साहित्य और संस्कृति का हस्तक्षेप बढ़ाने के लिए यह आयोजन किया जा रहा है ताकि मनुष्य के अंदर सह अस्तित्व और संवेदनशीलता का उन्नयन संभव हो सकेद्य  प्रो. शर्मा ने बताया कि हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल के माध्यम से अकादमिक जगत को कला और साहित्य के सृजन संसार से जोड़ने का प्रयास किया गया है ताकि मनुष्यता का संरक्षण किया जा सके।  कार्यक्रम में देश-विदेश के विद्वानों और पर्यावरणविदों के जुटने से भाषाओं का संगम होगा। वहीं बॉलीवुड के नामचीन गीतकार समीर अनजान भी मुख्य भूमिका में दिखेंगे। पिछले वर्ष आयोजन को सिने तारिका और लेखिका दीप्ति नवल ने अपनी उपस्थिति से भव्यता प्रदान की थी। इस बार समीर के गीतों का जलवा बिखरेगा। तीन दिवसीय यह आयोजन 10 जनवरी से शुरू होगा। गुरुकुल कांगड़ी विवि और अंत:प्रवाह सोसायटी की ओर से 10-12 जनवरी तक हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है।

इसमें नेपाल और भूटान के अलावा भारत के नौ राज्यों के विद्वान, पर्यावरणविद्, कवि, लेखक, चित्रकार आदि रचना और कला का रंग बिखेरेंगे। आयोजन के मुख्य आकर्षण हिदी फिल्मों के प्रसिद्ध गीतकार व फिल्मफेयर पुरस्कार विजेता समीर अनजान होंगे। उन्होंने 650 से अधिक फिल्मों में चार हजार से अधिक गीत लिखे हैं। आयोजन में भूटान के रायल विवि में अंग्रेजी की प्रोफसर डॉ. चित्रा, डॉ. बाला, डॉ. बाबूराज, नेपाल के उद्योगपति और प्रसिद्ध कवि डॉ. बसंत चौधरी के अलावा भारत की सुनीता बुद्धि राजा, शशि ठाकुर, प्रसिद्ध पर्यावरणविद क्लाउड एल्वरस, रुबी गुप्ता, अंगा जोगलेकर, दिलदार देहलवी, सनत रेग्मी भी अपनी उपस्थिति सार्थक करेंगे। मॉडरेटर प्रो. कपिल कपूर होंगे।

सोमवार को विवि के सीनेट हॉल में पत्रकारों से बातचीत में आयोजन के निदेशक प्रो. श्रवण कुमार ने बताया कि तीन दिवसीय आयोजन में कुल 13 सत्र होंगे। आयोजन की शुरुआत विवि भवन के मुख्य सभागार में होगा। इसमें कई विषयों पर विभिन्न विधाओं के कलाकार, लेखक और पेंटर शामिल होंगे। साहित्य और समाज, महिला साक्षरता, गीता के श्लोकों पर भी प्रकाश डाला जाएगा। फेस्टिवल में शिक्षा, दर्शन और पर्यावरण संचेतना को भी बढ़ावा मिलेगा। युवाओं के लिए यह अहम प्लेटफार्म साबित होगा। पत्रकार वार्ता के दौरान डॉ. संजय हांडा, प्रो. एलपी पुरोहित, डॉ. पंकज कौशिक भी मौजूद रहे।

हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल में पर्यावरण शिक्षा से जुड़े विश्वविख्यात पर्यावरणविद क्लाउड एलवर्स एक विशेष संवाद सत्र में परिचर्चा का हिस्सा बनेंगे। सत्र के मॉडरेटर भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान शिमला के निदेशक प्रो. कपिल कपूर रहेंगे। बता दें कि पर्यावरणविद क्लाउड एलवर्स और पत्नी पद्मश्री नोरमा एलवर्स गोवा फाउंडेशन के माध्यम से पर्यावरण शिक्षा व सरंक्षण के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य कर रहें हैं। वे गोवा के तट प्रबंधन निकाय से भी जुड़े रहे हैं। उच्चतम न्यायालय ने उन्हें अपशिष्ट निगरानी समिति का सदस्य भी नामित किया है।

वह स्कूलविहीन शिक्षा के मॉडल पर भी अपनी बात रखेंगे। आयोजन में संस्कृत कवियों के लिए विशेष सत्र के मुख्य वक्ता 2017 में साहित्य अकादमी पुरस्कार पाने वाले श्री भगवानदास आदर्श संस्कृत महाविद्यालय के प्राध्यापक डॉ. निरंजन मिश्र और उत्तराखंड संस्कृत विवि के डॉ. शैलेश तिवारी संस्कृत कविता के जरिये भाषायी जड़ों को जोड़ेंगे। आयोजन के निदेशक डॉ. श्रवण कुमार शर्मा ने बताया कि आयोजन को भव्यता देकर नई-पुरानी पीढि़यों को एक-साथ जुटने का अवसर प्रदान किया जा रहा है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: