बौखलाई शिवसेना, कांग्रेस हैरान, महाराष्ट्र में ‘खलबली’ | Doonited.India
Breaking News

बौखलाई शिवसेना, कांग्रेस हैरान, महाराष्ट्र में ‘खलबली’

बौखलाई शिवसेना, कांग्रेस हैरान, महाराष्ट्र में ‘खलबली’
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

महाराष्ट्र में शनिवार सुबह भारतीय राजनीति का सबसे बड़ा उलटफेर नजर आया. शनिवार सुबह भाजपा ने एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली जिसकी जानकारी खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने देवेंद्र फडणवीस को सीएम पद की शपथ दिलाई. वहीं अजित पवार ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली. नरेद्र मोदी ने इन दोनों को ट्विटर पर बधाई भी दी. गृह मंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी देवेंद्र फडणवीस को मुख्‍यमंत्री और अजीत पवार को डेप्युटी सीएम बनने पर बधाई दी.

सूबे में राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत ने मीडिया को संबोधित किया और कहा कि सत्ता और धन का दुरुपयोग किया गया. अंधेरे में पाप होता है, चोरी होती…उन्होंने कहा कि अजीत पवार ने महाराष्ट्र की पीठ में खंजर घोपा, इससे शरद पवार का कोई संबंध नहीं है. यह धोखा महाराष्ट्र की जनता और छत्रपति शिवाजी महाराज के साथ हुआ है.

घटनाक्रम पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक सिंघवी ने ट्वीट करके कहा कि महाराष्ट्र के बारे में पढ़कर हैरान हूं. पहले लगा कि यह फर्जी खबर है. निजी तौर पर बोल रहा हूं कि तीनों पार्टियों की बातचीत 3 दिन से ज्यादा नहीं चलनी चाहिए थी. यह बहुत लंबी चली. मौका दिया गया तो फायदा उठाने वालों ने इसे तुरंत लपक लिया.

भाजपा नेता गिरीश महाजन ने कहा है कि हम अपना बहुमत साबित करेंगे, हमारे पास 170 विधायकों का समर्थन है. अजीत पवार ने राज्यपाल को अपने विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी है. वह एनसीपी विधायक दल के नेता हैं, इसका अर्थ है कि एनसीपी के सभी विधायकों का हमें समर्थन प्राप्त है. इधर, आज दोपहर 12:30 बजे एनसीपी चीफ शरद पवार और शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करेंगे.

इधर, सूत्रों की मानें तो महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में सरकार बनाने पर चर्चा का हिस्सा रहे एनसीपी चीफ शरद पवार ने अजीत पवार को अपनी सहमति दी थी. एनसीपी में कोई भी फैसला शरद पवार की सहमति के बिना नहीं लिया जाता. अजीत पवार पार्टी की संसदीय बोर्ड के नेता हैं.

सीएम महाराष्ट्र का सीएम पद संभालने के बाद देवेंद्र फडणीवस ने कहा कि महाराष्ट्र की जनता ने स्पष्ट जनादेश दिया था. हमारे साथ लड़ी शिवसेना ने उस जनादेश को नकार कर दूसरी जगह गठबंधन बनाने का प्रयास किया. महाराष्ट्र को स्थिर शासन देने की जरूरत थी. महाराष्ट्र को स्थायी सरकार देने का फैसला करने के लिए अजीत पवार को धन्यवाद….

उपमुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद अजित पवार ने कहा कि 24 अक्टूबर को नतीजे आने से लेकर अब तक कोई पार्टी सरकार नहीं बना पा रही थी. महाराष्ट्र में किसानों के मुद्दों समेत कई दिक्कतें थी इसलिए हमने एक स्थायी सरकार बनाने का फैसला किया. सभी को हैरत में डालने वाले इस शपथ ग्रहण को शरद पवार का राजनीतिक मास्टरस्ट्रोक बताया जा रहा है.

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की बैठक में मुख्यमंत्री के नाम पर कोई अंतिम फैसला शनिवार को नहीं होने की खबर आयी थी. हालांकि, शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा था कि उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बनने को तैयार हैं. इससे पहले तीनों पार्टियों की बैठक से निकलने के बाद शरद पवार ने कहा था कि जहां तक मुख्यमंत्री की बात है, उस पर कोई दोराय नहीं है. उद्धव ठाकरे को ही सरकार को लीड करना चाहिए.

यहां चर्चा कर दें कि महाराष्ट्र विधानसभा की 288 सीटों के लिए 21 अक्टूबर को मतदान हुए थे जिसका नतीजा 24 अक्टूबर को घोषित किया गया. सूबे में किसी पार्टी या गठबंधन के सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करने की वजह से यहां 12 नवंबर को राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था. शिवसेना मुख्यमंत्री पद की मांग पर अड़ गयी जिसके बाद भाजपा से उसका 30 साल पुराना गठबंधन टूट गया.

    … बोली शिवसेना- अजीत पवार ने महाराष्ट्र की पीठ में खंजर घोपा, उन्होंने फोन बंद कर लिया था महाराष्ट्र: बोले शरद पवार- यह अजीत पवार का निजी फैसला, एनसीपी का नहीं महाराष्ट्र: देवेंद्र फड़णवीस फिर बने सीएम,कांग्रेस हैरान, कहा-पहले लगा खबर फर्जी है फिर…
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.
Advertisements

Post source : Agency

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: