Doonitedचीन के साथ हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद, चीन के 43 सैनिक हताहतNews
Breaking News

चीन के साथ हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद, चीन के 43 सैनिक हताहत

चीन के साथ हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद, चीन के 43 सैनिक हताहत
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारत-चीन सीमा पर हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए हैं। इसके साथ ही भारत सरकार ने कहा है कि भारतीय सैनिकों की तरफ से पलटवार में चीन के सैनिकों की मौत हुई है और घायल हुए हैं।  बता दें कि इससे पहले मंगलवार को दोपहर में एक अफसर और दो जवानों के शहीद होने की जानकारी सामने आई थी, लेकिन अब सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इस झड़प में 20 सैनिक शहीद हुए हैं। इस बीच हिमाचल प्रदेश में चीनी सीमा के पास अलर्ट जारी कर दिया गया है।

आज भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को लेकर एक बेहद ही चौंकाने वाली खबर आई. गलवान घाटी में डी-एस्केलेशन प्रक्रिया के दौरान कल रात दोनों ही पक्षों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई.  सेना ने एक संक्षिप्त बयान में तीन जवानों की शहादत की बात कही है. सेना ने कहा, गलवान घाटी में तनाव कम करने की प्रक्रिया के दौरान सोमवार रात हिंसक टकराव हो गया. इस दौरान भारतीय सेना का एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए.”

गौरतलब है कि बीते पांच हफ्तों से गलवान घाटी में बड़ी संख्या में भारतीय और चीनी सैनिक आमने-सामने खड़े थे. यह घटना भारतीय सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे के उस बयान के कुछ दिन बाद हुई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि दोनों देशों के सैनिक गैलवान घाटी से पीछे हट रहे हैं.

LAC पर हुई इस झड़प के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ, जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे के साथ बैठक हुई. वहीं, राजनाथ सिंह ने इस मामले की जानकारी प्रधानमंत्री मोदी को फोन पर दी. तो वहीं विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पीएम आवास जाकर प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की.

पूर्वी लद्दाख में गालवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिकों की शहीद हो गए हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने सरकार के सूत्रों से हवाले इस बात की जानकारी दी है। हालांकि चीन की क्षति के बारे में सटीक संख्या की जानकारी नहीं दी गई है। हालांकि कहा है कि गया है कि चीन को भी नुकसान का सामना करना पड़ा है।

इससे पहले आज विदेश मंत्रालय ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प क्षेत्र में ‘यथास्थिति’ को एकतरफा तरीके से बदलने के चीनी पक्ष के प्रयास के कारण हुई। मंत्रालय ने कहा है कि पूर्व में शीर्ष स्तर पर जो सहमति बनी थी, अगर चीनी पक्ष ने गंभीरता से उसका पालन किया होता तो दोनों पक्षों की ओर जो हताहत हुए हैं उनसे बचा जा सकता था।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, ‘सीमा प्रबंधन पर जिम्मेदाराना दृष्टिकोण जाहिर करते हुए भारत का स्पष्ट तौर पर मानना है कि हमारी सारी गतिविधियां हमेशा एलएसी (वास्तविक नियंत्रण रेखा) के भारतीय हिस्से की तरफ हुई हैं। हम चीन से भी ऐसी ही उम्मीद करते हैं।’ श्रीवास्तव ने कहा, ‘हमारा अटूट विश्वास है कि सीमाई इलाके में शांति बनाए रखने की जरूरत है और वार्ता के जरिए मतभेद दूर होने चाहिए।’ उन्होंने कहा, ‘इसके साथ ही हम भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं।’

चीन ने भी माना कि मारे गए उसके सैनिक

चीन ने भी मान लिया है कि सोमवार (15 जून) रात वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लद्दाख की गलवान घाटी में हिंसक झड़प के दौरान उसके भी सैनिक मारे गए हैं। हालांकि उसके कितने सैनिक हताहत हुए हैं, इसकी जानकारी उन्होंने नहीं दी। चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स के हवाले से चीन की सेना (पीएलए) का यह बयान जारी हुआ है।

वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर ताजा घटनाक्रम के बाद एक चीनी सैन्य प्रवक्ता ने मंगलवार (16 जून) को भारतीय सैनिकों से अपील करते हुए कहा कि वे सीमा पर चीनी सैनिकों के खिलाफ सभी भड़काऊ कार्रवाइयों को तुरंत रोके और बातचीत के माध्यम से विवादों को सुलझाने के सही रास्ते पर वापस आए। पीएलए ने कहा, ‘भारतीय सैनिकों ने एक बार फिर गलवान घाटी क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार किया और जानबूझकर उकसाने वाले हमले किए, जिससे गंभीर संघर्ष हुआ और सैनिक हताहत हुए।’

सेना ने एक बयान में कहा, “गालवान घाटी में डे-एस्केलेशन प्रक्रिया के दौरान, कल रात दोनों पक्षों के हताहतों के साथ एक हिंसक सामना हुआ। भारतीय पक्ष पर जानमाल के नुकसान में एक अधिकारी और दो सैनिक शामिल हैं। ”

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने एक अन्तर्राष्ट्रीय समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि “भारत के सैनिकों ने सोमवार को दो बार सीमा रेखा पार की और चीनी सैनिकों को उकसाया और उन पर हमला किया, जिसके परिणामस्वरूप दोनों पक्षों में सीमा बलों के बीच गंभीर शारीरिक टकराव हुआ,”




Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Post source : ANI

Related posts

error: Be Positive Be United
%d bloggers like this: